News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

कोविड के दूसरे लहर से वित्त वर्ष 2022 में आने वाले IPO पर पड़ेगा असर

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के रिटेल रिसर्च हेड दीपक जसानी ने बताया कि कोविड की वापसी का माध्यमिक बाजार के सूचकांकों पर प्रभाव पड़ेगा और यह आईपीओ सदस्यता स्तरों को प्रभावित करेगा.

IANS | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 23 Apr 2021, 07:28:29 AM
IPO

IPO (Photo Credit: IANS )

highlights

  • कई कंपनियों की अपेक्षित व्यापार को अगले 6 से 8 महीनों में सार्वजनिक रूप से पटरी पर लाने की योजना 
  • एक दर्जन से अधिक कंपनियों को मंजूरी मिली है और अन्य एक दर्जन से अधिक को मौके का इंतजार

मुंबई :

कोविड महामारी (Coronavirus Epidemic) की वापसी से न केवल भारत के द्वितीयक बाजारों पर, बल्कि वित्त वर्ष 2022 के आईपीओ सीजन पर भी असर पड़ने की आशंका है. कई कंपनियों की योजना अपेक्षित व्यापार को अगले 6 से 8 महीनों में सार्वजनिक रूप से पटरी पर लाने की है. वित्तीय समानता में एक यूनिकॉर्न एक स्टार्टअप का प्रतिनिधित्व करता है जिसके पास अपने पिछले फंडिंग राउंड में उत्पन्न पूंजी के आधार पर एक अरब डॉलर से अधिक का बाजार मूल्यांकन है. इस तरह, कोविड की वापसी के संबंध में द्वितीयक बाजार में धन प्रवाह की स्थिति प्रारंभिक चरण के निवेशकों को बाहर निकलने के लिए यूनिकॉर्न की क्षमता को प्रभावित करेगी. एचडीएफसी सिक्योरिटीज के रिटेल रिसर्च हेड दीपक जसानी ने बताया कि कोविड की वापसी का माध्यमिक बाजार के सूचकांकों पर प्रभाव पड़ेगा, और यह आईपीओ सदस्यता स्तरों को प्रभावित करेगा.

यह भी पढ़ें: जानिए क्यों कंगाल पाकिस्तान को UAE ने दिया 2 अरब डॉलर, पढ़ें पूरी खबर

एक दर्जन से अधिक कंपनियों को बाजार नियामक की मंजूरी
उन्होंने कहा कि आईपीओ मूल्य निर्धारण भी महत्वपूर्ण है, यदि निवेशकों के लिए टेबल पर पर्याप्त पैसा बचा है, तो आईपीओ आसानी से चल सकता है. हाल तक, कई यूनिकॉर्न ने आईपीओ बाजार में टैप करने की योजना की घोषणा की है. इस समय एक दर्जन से अधिक कंपनियों को बाजार नियामक की मंजूरी मिल गई है, और अन्य एक दर्जन से अधिक को जनता के बीच जाने के मौके का इंतजार है. कैपिटल वाया में अनुसंधान प्रमुख गौरव गर्ग ने कहा कि एसबीआई कार्ड जैसी कंपनियां, जो महामारी के शुरुआती चरण के दौरान सार्वजनिक हुईं, उन्हें रियायती मूल्य पर सूचीबद्ध किया गया. 

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार का बड़ा फैसला, Remdesivir इंजेक्शन और कच्चे माल पर इंपोर्ट ड्यूटी खत्म

गर्ग ने कहा कि इस वर्ष भी, हमने देखा है कि कोविड-19 मामलों की बढ़ती संख्या ने मैक्रोटेक की डेवलपर सूची को कैसे प्रभावित किया है, इसलिए, यदि यह प्रवृत्ति बनी रहती है, तो हम आईपीओ में गिरावट देख सकते हैं. इसके अलावा, निवेशकों को बाहर निकलने के लिए पैसा जुटाने के साधन के रूप में आईपीओ ने हाल ही में महत्व प्राप्त किया है. मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के रिटेल रिसर्च के सिद्धार्थ खेमका ने कहा कि वित्तवर्ष 21 में मजबूत आईपीओ शो के बाद, हम वित्तवर्ष 22 में इसी तरह के रुझान की उम्मीद करते हैं. उन्होंने कहा कि एक बार जब बाजार में लाभ होने लगता है तो हम उम्मीद करते हैं कि सभी प्रकार की कंपनियां सार्वजनिक हो जाएंगी, चाहे वे यूनिकॉर्न हों या अन्य। कई लोग प्राथमिक बाजार में प्रवेश करने के लिए पहले ही नियामक मंजूरी प्राप्त कर चुके हैं. पिछले वित्तवर्ष में इंडिया इंक ने 30,000 करोड़ रुपये से अधिक धन जुटाए थे.

First Published : 23 Apr 2021, 07:27:15 AM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.