News Nation Logo
Banner

Union Budget 2021-22: शुरू हो गई वित्त वर्ष 2021-22 के लिए बजट बनाने की प्रक्रिया

Union Budget 2021-22: वित्त मंत्रालय के कार्यक्रम के अनुसार 2020-21 के संशोधित अनुमान (आरई) और 2021-22 के बजट अनुमानों को अंतिम रूप देने के लिये करीब एक महीने चलने वाली प्रक्रिया शुक्रवार को शुरू हो गई. बैठकें 12 नवंबर तक चलेंगी.

Written By : बिजनेस डेस्क | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 17 Oct 2020, 11:25:49 AM
Union Budget 2021 22

Union Budget 2021-22 (Photo Credit: newsnation)

नई दिल्ली:

Union Budget 2021-22: वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने शुक्रवार (16 अक्टूबर 2020) को 2021-22 के लिये बजट तैयार करने की प्रक्रिया शुरू कर दी. यह प्रक्रिया ऐसे समय शुरू हुई है जब कोविड-19 संकट से प्रभावित आर्थिक वृद्धि को गति देने की जरूरत है. आगामी वित्त वर्ष का बजट काफी महत्वपूर्ण है. इसमें महामारी से प्रभावित राजस्व संग्रह, विनिवेश, व्यय, निर्यात और खाद्य वस्तुओं की कीमतों समेत अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों पर गौर करने की जरूरत होगी. अंतर्राष्ट्रीय मुद्राकोष (IMF) के अनुसार इस साल भारतीय अर्थव्यवस्था में 10.3 प्रतिशत की गिरावट आने का अनुमान है. 

यह भी पढ़ें: Home Loan लेने वालों के लिए खुशखबरी, कोटक महिंद्रा बैंक ने लिया ये बड़ा फैसला

12 नवंबर 2020 तक चलेंगी बैठकें
भारतीय रिजर्व बैंक का अनुमान है कि अर्थव्यवस्था में चालू वित्त वर्ष के दौरान 9.5 प्रतिशत की गिरावट आ सकती है. वित्त मंत्रालय के कार्यक्रम के अनुसार 2020-21 के संशोधित अनुमान (आरई) और 2021-22 के बजट अनुमानों को अंतिम रूप देने के लिये करीब एक महीने चलने वाली प्रक्रिया शुक्रवार को शुरू हो गई. बैठकें 12 नवंबर तक चलेंगी. कार्यक्रम के अनुसार पहली बैठक में वित्तीय सेवा विभाग के साथ एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम), आवास, इस्पात और बिजली क्षेत्र के अधिकारी समेत अन्य शामिल हुए.

यह भी पढ़ें: बैंक ऑफ बड़ौदा ने किसानों की मदद के लिए उठाया ये बड़ा कदम, पढ़ें पूरी खबर

वित्त मंत्रालय के बजट विभाग ने एक नोटिस में कहा कि हालांकि इस साल कोविड-19 स्थिति और शारीरिक दूरी का पालन करने की जरूरत को देखते हुए मंत्रालयों/विभाग से बजट-पूर्व बैठकों में भाग लेने के लिये 5 अधिकारियों की सीमा (प्रत्येक बैठक के लिये) तय की जा सकती है। इसमें निदेशक /उप-सचिव (डीएस) से नीचे के अधिकारी शामिल नहीं होंगे. यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का तीसरा बजट होगा. 

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार का बड़ा फैसला, चुनावी बॉन्ड की 14वीं श्रृंखला को दी मंजूरी दी

एक फरवरी 2021 को पेश हो सकता है आगामी बजट
अगले वित्त वर्ष का बजट एक फरवरी 2021 को पेश किये जाने की संभावना है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार ने ब्रिटिश जमाने से चली आ रही फरवरी के अंत में बजट पेश करने की प्रथा को समाप्त कर दिया. मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में उस समय के वित्त मंत्री अरुण जेटली नले पहली बार एक फरवरी 2017 को बजट पेश कर इस परिपाटी को समाप्त किया.

यह भी पढ़ें: कम आय वालों को सरल जीवन बीमा पॉलिसी लेने से होगा बड़ा फायदा, जानें कैसे उठाएं लाभ

आम बजट को फरवरी के अंत में पेश करने के बजाय अब फरवरी की शुरुआत में पेश करने और नया वित्त वर्ष शुरू होने से पहले ही पारित किये जाने से मंत्रालय- विभागों को नये वित्त वर्ष की शुरुआत से ही बजट आवंटन हो जाता है और वह अपना काम आगे बढ़ा सकते हैं. इससे पहले जब फरवरी अंत में बजट पेश होता था तब मई तक ही बजट को पूरी तरह से मंजूरी मिल पाती थी. ऐसे में पहली तिमाही और उसके बाद मानसून आने से मंत्रालयों और विभागों का वास्तविक कामकाज अगस्त अंत अथवा सितंबर से ही शुरू हो पाता था.

First Published : 17 Oct 2020, 11:25:49 AM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो