News Nation Logo
Banner

मोदी सरकार ने 14 राज्यों को जारी किए ₹6,15774.95 लाख, जानें किस राज्‍य को कितना मिला

मोदी सरकार (Modi Sarkar) के वित्‍त मंत्रालय ने 14 राज्यों को राजस्व‍ घाटा अनुदान के रूप में 6,195 करोड़ रुपये जारी कर दिया है. कोरोना वायरस संकट के दौरान राज्यों के संसाधन बढ़ाने के लिये यह राशि जारी की गई है.

By : Sunil Mishra | Updated on: 12 May 2020, 07:45:01 AM
rupee

14 राज्यों को जारी हुए ₹6,15774.95, जानें किस राज्‍य को कितने मिले (Photo Credit: File Photo)

नई दिल्ली:

मोदी सरकार (Modi Sarkar) के वित्‍त मंत्रालय ने 14 राज्यों को राजव घाटा अनुदान के रूप में 6,195 करोड़ रुपये जारी कर दिया है. कोरोना वायरस संकट के दौरान राज्यों के संसाधन बढ़ाने के लिये यह राशि जारी की गई है. वित्त मंत्री निर्मला सीतामरण (Nirmala Sitharaman) के कार्यालय ने ट्विटर पर कहा, ‘‘सरकार ने 11 मई 2020 करे दूसरी किस्त के रूप में 14 राज्यों को राजस्व घाटा अनुदान के रूप में कुल 6,195.08 करोड़ रुपये जारी किये. यह 15वें वित्त आयोग की सिफारिश के अनुरूप है... इससे राज्यों को कोरोना संकट के दौरान अतिरिक्त संसाधन उपलब्ध हो पाएगा.’’

यह भी पढ़ें : लॉकडाउन की योजना खराब तरीके से बनाई गई, महामारी पर भी राजनीति कर रहा केंद्र : ममता

राज्यों को केंद्रीय करों में हिस्सेदारी के बाद राजस्व में किसी प्रकार का नुकसान होने के एवज में राजस्व घाटा अनुदान दिया जाता है. जिन राज्यों को अनुदान जारी किया है, उसमें केरल को 1,276.91 करोड़ रुपये, पंजाब को 638 करोड़ रुपये और पश्चिम बंगाल को 417.75 करोड़ रुपये दिये गये. इससे पहले तीन अप्रैल को मंत्रालय ने 14 राज्यों को केंद्रीय करों में हिस्सेदारी के बाद राजस्व घाटा अनुदान के रूप में 6,195 करोड़ रुपये जारी किया था. ये राज्य आंध्र प्रदेश, असम, हिमाचल प्रदेश, केरल, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, पंजाब, सिक्किम, तिमलनाडु, त्रिपुरा, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल थे.

यह भी पढ़ें : लॉकडाउन की योजना खराब तरीके से बनाई गई, महामारी पर भी राजनीति कर रहा केंद्र : ममता

राज्‍यों को केंद्रीय करों में हिस्‍सेदारी के बाद राजस्‍व में नुकसान होने पर राजस्‍व घाटा अनुदान दिया जाता है. जिन राज्यों को राशि दी गई है, उसमें केरल को 1,276.91 करोड़ रुपये, पंजाब को 638 करोड़ रुपये और पश्चिम बंगाल को 417.75 करोड़ रुपये दिए गए हैं.

यह भी पढ़ें : ISI का मोहरा बनकर देश की छवि से खेल रहे कुछ स्वार्थी लोग, 183 बुद्धिजीवियों ने लिखा पत्र

इससे पहले तीन अप्रैल को मंत्रालय ने 14 राज्यों को केंद्रीय करों में हिस्सेदारी के बाद राजस्व घाटा अनुदान के रूप में 6,195 करोड़ रुपये दिए गए थे. इनमें आंध्र प्रदेश, असम, हिमाचल प्रदेश, केरल, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, पंजाब, सिक्किम, पश्चिम बंगाल, उत्तराखंड, तमिलनाडु और त्रिपुरा शामिल थे.

First Published : 12 May 2020, 07:30:37 AM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो