News Nation Logo
भारत में अब तक कोविड के 3.46 करोड़ मामले सामने आए हैं: लोकसभा में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हरियाणा में अगले आदेश तक गुरुग्राम, सोनीपत, फरीदाबाद और झज्जर के स्कूलों को बंद करने का आदेश Omicron Update: 31 देशों में 400 से ज्यादा संक्रमण के मामले मलेशिया में ओमीक्रॉन के पहले मामले की पुष्टि अमेरिका में ओमीक्रॉन से संक्रमण के मामले बढ़कर 8 हुए केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: CCTV के मामले में दिल्ली दुनिया में नंबर 1 केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में महिलाएं पूरी तरह सुरक्षित केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में 1.40 कैमरे और लगाए जाएंगे थोड़ी देर में ओमीक्रॉन पर जवाब देंगे स्वास्थ्य मंत्री IMF की पहली उप प्रबंध निदेशक के रूप में ओकामोटो की जगह लेंगी गीता गोपीनाथ 12 राज्यसभा सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्षी दलों के सांसदों का गांधी प्रतिमा के पास विरोध-प्रदर्शन यमुना एक्‍सप्रेसवे पर सुबह सुबह बड़ा हादसा, मप्र पुलिस के दो जवानों समेत चार की मौत जयपुर में दक्षिण अफ्रीका से लौटे एक ही परिवार के चार लोग कोरोना संक्रमित

अब आपकी कार होगी और भी ज्यादा सेफ, बगैर टेंशन कर सकेंगे सफर

केपीआईटी टेक्नोलॉजीज लिमिटेड रेवोलो के साथ आई है - एक प्लग-इन समानांतर हाइब्रिड तकनीक जो विकासशील दुनिया में लागत प्रदर्शन, लाभदायक क्षमता और आसानी से उपयोग भी हो सकती है.

News Nation Bureau | Edited By : Nandini Shukla | Updated on: 12 Nov 2021, 02:31:55 PM
vghcg

अब आपकी कार होगी और भी ज्यादा सेफ (Photo Credit: file photo)

New Delhi:

आज के समय में जहाँ सब कुछ फ़ास्ट है वहीं ज्यादा से ज्यादा हाइब्रिड कारें सड़क पर नज़र आ रही हैं.  हालांकि हाइब्रिड कारों में आपको ज्यादा खर्च नहीं करना पड़ता, ये कम पैसों में ज्यादा बेहतर काम देती है. इसका मुकाबला करने के लिए, एक भारतीय तकनीक परामर्श कंपनी - केपीआईटी टेक्नोलॉजीज लिमिटेड रेवोलो के साथ आई है - एक प्लग-इन समानांतर हाइब्रिड तकनीक जो विकासशील दुनिया में लागत प्रदर्शन, लाभदायक क्षमता और आसानी से उपयोग भी हो सकती है.  रेवोलो एक प्लग-इन समानांतर हाइब्रिड तकनीक है. इसका मतलब है कि यह किसी भी आईसी इंजन के साथ काम कर सकता है.

यह रेवोलो डीजल या पेट्रोल इंजन के साथ मिलकर काम करता है. यह एक "प्लग-इन" प्रोसेस है जिसे आप किसी भी यात्री वाहन में रेट्रो-फिट कर सकते हैं. इंजन में 7.5-10 kW पावर की एक इलेक्ट्रिक मोटर लगाई जाती है और ड्राइव-ट्रेन को सीधे पावर देने वाले बेल्ट और पुली की मदद से क्रैंकशाफ्ट से जुड़ी होती है.

Revolo की खूबी - 

बैटरी पैक में वॉल्व रेगुलेटेड लेड एसिड बैटरियां होती हैं जो 48 वोल्ट तक पावर दें सकती है. आप इसे भारतीय घरों में मानक 240V बिजली  के साथ चार्ज कर सकते हैं. रेवोलो किट में एक इलेक्ट्रिक मोटर, मोटर रेगुलेटर, बैटरी पैक, मैकेनिकल असेंबली और कपलिंग, मालिकाना सॉफ्टवेयर और इंटेलिजेंट बैटरी मैनेजमेंट सिस्टम शामिल हैं. यह इलेक्ट्रिक मोटर से चलता है जो आईसी इंजन पर किसी भी तरह के अत्यधिक तनाव को दूर करता है. यह सारी प्रक्रिया इंजन के साथ सिंक्रोनाइज़ेशन में एक साथ काम करती है जिससे इसकी ईंधन दक्षता बढ़ती है. 

यह भी पढ़ें- अब कार वाली सेफ्टी आपके बाइक पर, बाइक में आ रहे हैं 'एयरबैग', ऐसे करेगा काम

रेवोलो इंजन के साथ निर्बाध रूप से काम करता है और इसमें किसी भी मैनुअल हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं होती है. प्लग-इन हाइब्रिड होने के कारण, इसे लगभग किसी भी यात्री वाहन में फिट किया जा सकता है. भले ही बैटरी पूरी तरह से खत्म हो जाए, रेवोलो फिटेड कार अभी भी सामान्य आईसी इंजन पर चल सकती है. इसमें एक और ख़ास बात है कि यह कार के ब्रेक लगाने के दौरान बैटरी चार्ज करता रहता है जो स्टॉप एंड गो ट्रैफिक की स्थिति में सबसे सुविधाजनक है. 

केपीआईटी के इस शानदार उत्पाद का सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि आप इसे पारंपरिक वाहनों में फिट कर सकते हैं जो दक्षता में सुधार और उत्सर्जन को कम करने में मदद करता है. इस प्रणाली के फिट होने के बाद ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में लगभग 30% की कमी आई है. इसके अलावा, इसने एआरएआई परीक्षणों के दौरान समग्र ईंधन दक्षता में 40% से अधिक की वृद्धि का प्रदर्शन किया.

यह भी पढ़ें- लग्जरी गाड़ियों के शौकीन हैं बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार, करोड़ों में है कीमत

 

First Published : 12 Nov 2021, 02:31:55 PM

For all the Latest Auto News, Cars News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.