News Nation Logo
आंतरिक सुरक्षा पर राज्यों के IG और DGP के साथ आज अमित शाह की बैठक कश्मीर में एक और आतंकी साजिश का अलर्ट, सुरक्षा बढ़ाई गई दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने “रेड लाईट ऑन, गाड़ी ऑफ” अभियान की शुरुआत की पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की अध्यक्षता में चंडीगढ़ में कैबिनेट की बैठक हुई महाराष्ट्रः कल्याण की आधारवाड़ी जेल में 20 कैदी कोरोना पॉजिटिव आर्यन खान पर NCB का बड़ा बयान, आर्यन की काउंसिलिंग की गई आर्यन ने दोबारा गलती न करने की बात कही: NCB रिहाई के बाद गरीबों के लिए काम करेंगे आर्यन खान: NCB कांग्रेस सिर्फ एक परिवार की पार्टी है: संबित पात्रा कश्मीर पर कांग्रेस भ्रम फैला रही है: संबित पात्रा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चारधाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं से सावधानी बरतने की अपील की भाजपा कार्यालय में हो रही राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक का पहला चरण खत्म किसान संगठनों के रेल रोको आंदोलन के आह्वान पर मोदी नगर (उ.प्र.) में प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन रोकी ISI Chief पर बीवी के टोटके पर अड़े इमरान, पाक सेना के जनरल ने लगाई लताड़ संयुक्त किसान मोर्चा के रेल रोको आंदोलन के आह्वान पर प्रदर्शनकारी बहादुरगढ़ में रेलवे ट्रैक पर बैठे दिल्ली में लगातार दूसरे दिन भी बारिश का दौर जारी. जगह-जगह जलभराव

दक्षिण चीन सागर में अमेरिकी परमाणु पनडुब्बी टकराई अज्ञात चीज से, चीन पर शक

अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक यूएसएस कनेक्टिकट जिस चीज से टकराई है, इसका पता अभी नहीं चल पाया है. हालांकि घटना पर चिंता व्यक्त करते हुए चीन (China) ने मांग की कि वॉशिंगटन घटना का ब्योरा दे.

Written By : नीतू कुमारी | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 09 Oct 2021, 09:13:19 AM
America Nuclear Submarine

ताइवान को धमकी के मसले पर अमेरिका हुआ बीजिंग के खिलाफ. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • भारत-प्रशांत क्षेत्र में फिर आए अमेरिका और चीन आमने-सामने
  • चीन ने कहा नौसैन्य अभियान चलाने की अमेरिकी जिद घटना की वजह
  • चीन अधिकांश दक्षिण चीन सागर पर अपना दावा करता है

वॉशिंगटन:

भारत-प्रशांत (Indo Pacific) क्षेत्र में अमेरिकी परमाणु पनडुब्बी गहरे पानी में किसी अज्ञात चीज से टकरा कर क्षतिग्रस्त हो गई. दक्षिण चीन सागर (South China Sea) में चीन से तनाव के बीच इस हादसे से अमेरिका (America) और बीजिंग के बीच नए सिरे से तनाव पैदा होने की आशंका हो गई है. हालांकि इस हादसे में जान-माल का बड़ा नुकसान नहीं हुआ है. बताया जा रहा है कि इस टक्कर से 15 अमेरिकी नौसैनिक घायल हो गए हैं. अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक यूएसएस कनेक्टिकट जिस चीज से टकराई है, इसका पता अभी नहीं चल पाया है. हालांकि घटना पर चिंता व्यक्त करते हुए चीन (China) ने मांग की कि वॉशिंगटन घटना का ब्योरा दे और बताए कि दुर्घटना किस जगह हुई. बीजिंग ने आरोप लगाया कि नौवहन स्वतंत्रता के नाम पर हवाई और नौसैन्य अभियान चलाने की अमेरिका की जिद इस घटना की वजह है.

फिर बढ़ा क्षेत्र में तनाव
इस घटना से एक बार फिर इस क्षेत्र में तनाव पैदा हो गया है क्योंकि चीन लगातार ताइवान के वायु क्षेत्र में घुसपैठ कर रहा है. यह देख अमेरिका ने ताइवान का साथ देने का भरोसा जताया है. अमेरिकी नौसेना के प्रवक्ता ने बताया कि यह पनडुब्बी अब गुआम में अमेरिकी क्षेत्र की ओर बढ़ रही है. अमेरिका के लिए राहत की बात यह है कि उसके न्यूक्लियर प्लांट को नुकसान नहीं पहुंचा है. अमेरिकी नौसेना के प्रवक्ता ने बयान में कहा, USS Connecticut के Nuclear Propulsion Plant को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है और वह पूरी तरह से काम कर रहा है. इस घटना से पनडुब्बी को कितना नुकसान हुआ है, इसकी समीक्षा की जा रही है. ये घटना ऐसे समय में हुई है जब अमेरिका और चीन के बीच ताइवान के एयर डिफेंस आईडेंटिफ‍िकेशन जोन में चीनी मिलिट्री की घुसपैठ को लेकर तनाव बढ़ गया है.

यह भी पढ़ेंः आर्यन खान की मुसीबतें नहीं होंगी कम, सोमवार से पहले जमानत पर सुनवाई नहीं

चीन ने अमेरिका पर मढ़ा दोष
इस घटना से संबंधित एक सवाल के जवाब में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजान ने मीडिया से यहां कहा, ‘चीन इस हादसे को लेकर गंभीर रूप से चिंतित है. अमेरिका को हादसे के स्थान, नौवहन के उद्देश्य सहित घटना का ब्योरा देना चाहिए और बताना चाहिए कि कहीं कोई परमाणु रिसाव तो नहीं हुआ है और स्थानीय समुद्री पर्यावरण को कोई खतरा तो नहीं है. नौवहन की स्वतंत्रता के नाम पर हवाई और नौसैन्य अभियान चलाने की अमेरिका की जिद इस घटना की वजह है. अमेरिका इस दुर्घटना के विवरण का खुलासा करने में विलंब कर रहा है. वह पारदर्शिता और जिम्मेदारी रहित व्यवहार कर रहा है.’

यह भी पढ़ेंः  IPL के प्‍लेऑफ्स में पहुंचीं ये 4 टीमें, जानिए कब होगा किसका मुकाबला 

दक्षिण चीन सागर को लेकर चीन पर कई देशों का दबाव
उल्लेखनीय है कि चीन अधिकांश दक्षिण चीन सागर पर अपना दावा करता है. वहीं, फिलीपीन, वियतनाम, मलेशिया, ब्रुनेई और ताइवान भी इस पर अपना दावा करते हैं. पिछले कुछ वर्षों में चीन ने इस समुद्री क्षेत्र में कई सैन्य अड्डे स्थापित किए हैं और अपने नौसैन्य पोतों तथा पनडुब्बियों का एक बड़ा बेड़ा तैनात किया है. घटना का जिक्र करते हुए चीन ने यह भी कहा कि ऑस्ट्रेलिया को परमाणु पनडुब्बी बेचने का अमेरिका का निर्णय क्षेत्र में परमाणु खतरे को बढ़ाएगा. ताइवान के सैनिकों को अमेरिकी सैनिकों द्वारा प्रशिक्षण दिए जाने की खबरों पर चीन ने अमेरिका से यह भी कहा कि उसे ताइवान से अपने रक्षा संबंध खत्म करने चाहिए. चीन ताइवान को अलग हुआ अपना हिस्सा बताता है, जबकि ताइवान खुद को एक संप्रभु देश कहता है.

First Published : 09 Oct 2021, 09:12:01 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो