News Nation Logo
Banner

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने चीन पर पेंटागन टास्क फोर्स की घोषणा की, शी को कार्रवाई की चेतावनी

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने वाशिंगटन की बीजिंग रणनीति के तहत बनाई पेंटागन टास्क फोर्स

IANS | Updated on: 11 Feb 2021, 02:10:19 PM
biden xi

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Photo Credit: IANS)

highlights

  • चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग के साथ फोन पर अहम वार्ता हुई
  • वार्ता के दौरान जो बाइडेन का चीन के प्रति कड़ा रुख रहा
  • जो बाइडेन  ने खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए प्रतिबद्धता जताई

न्यूयॉर्क:

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने वाशिंगटन की बीजिंग रणनीति का चार्ट बनाने के लिए एक पेंटागन टास्क फोर्स की घोषणा की है और अपने चीनी समकक्ष शी जिनपिंग के साथ बातचीत के दौरान कड़ा रुख दिखाते हुए साफ कह दिया कि वह एक खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए प्रतिबद्ध हैं। व्हाइट हाउस के प्रवक्‍ता  ने यह जानकारी दी। व्हाइट हाउस की ओर से जारी बयान के अनुसार, बुधवार को शी के साथ फोन पर वार्ता के दौरान,जो बाइडेन ने हांगकांग और शिनजियांग में मानवाधिकार और बीजिंग के व्यापारिक रुख संबंधी मुद्दे को भी उठाया।

बीजिंग की बढ़ती शक्ति और आक्रामक रुख के मद्देनजर बाइडेन ने पेंटागन के दौरे के दौरान चीन की चुनौतियों से निपटने और भविष्य की प्रतिस्पर्धा में अमेरिकी लोगों की जीत को सुनिश्चित करने के लिए एक राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रयास का आह्वान किया। उन्होंने कहा, "हमें शांति बनाए रखने और हिंद-प्रशांत क्षेत्र में और विश्व स्तर पर हमारे हितों की रक्षा के लिए चीन की ओर से बढ़ती चुनौतियों का सामना करने की जरूरत है।"

यह भी पढ़ें : पूर्व सेना प्रमुख जनरल  सिंह का बयान बना मोदी सरकार के लिए परेशानी का सबब, चीन को मिला पलटवार का मौका 

पेंटागन में, राष्ट्रपति ने नए टास्क फोर्स के गठन की भी घोषणा की जो रणनीति पर तत्काल प्रभाव से काम करेगा ताकि "हम चीन से संबंधित मामलों पर मजबूती से आगे बढ़ सकें।" पेंटागन में अपने भाषण में, बाइडेन ने कहा कि चीन पर टास्क फोर्स हमारी रणनीति और ऑपरेशनल कॉन्सेप्ट, प्रौद्योगिकी, फोर्स पॉस्चर और बहुत कुछ देखने को देखेगा।

व्हाइट हाउस ने उनके पेंटागन के भाषण के बाद जारी बयान में कहा कि शी के साथ वार्ता के दौरान, बाइडेन ने अमेरिकी लोगों की सुरक्षा, समृद्धि, स्वास्थ्य की रक्षा करने और स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत को संरक्षित करने की अपनी प्राथमिकताओं पर जोर दिया।

उन्होंने बीजिंग के अनुचित आर्थिक नियम, हांगकांग में कड़ी प्रतिशोधात्मक कार्रवाई, शिनजियांग में मानवाधिकारों के हनन और ताइवान की ओर क्षेत्र में तेजी से मुखर कार्रवाई के बारे में अपनी बुनियादी चिंताओं को रेखांकित किया। बयान में कहा गया, "दोनों नेताओं ने कोविड-19 महामारी का मुकाबला करने और वैश्विक स्वास्थ्य सुरक्षा, जलवायु परिवर्तन और हथियारों के प्रसार को रोकने की साझा चुनौतियों पर भी विचारों का आदान-प्रदान किया।"

यह भी पढ़ें : twitter सुधारे अपना दोहरा रूखःभारत सरकार

गौरतलब है कि शी के साथ बाइडेन की फोन पर वार्ता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और क्षेत्र के प्रमुख सहयोगियों-जापान, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण कोरिया के साथ चर्चा के बाद हुई है, जिसके दौरान उन्होंने हिंद-प्रशांत मुद्दों पर चर्चा की थी।

First Published : 11 Feb 2021, 02:06:22 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.