News Nation Logo

UAE ने पाकिस्तान को 2 अरब डॉलर का बेलआउट पैकेज दिया

यूएई का यह समर्थन पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mehmood Qureshi) की खाड़ी देशों की यात्रा के दौरान देखने को मिला है.

By : Nihar Saxena | Updated on: 22 Apr 2021, 09:16:10 AM
Sheikh Abdullah bin Zayed Al Nahyan

यूएई के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायेद अल नाहयान. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • यूएई ने दिया दो अरब डॉलर का बेलआउट पैकेज पाकिस्तान को
  • पाकिस्तानी नागरिकों पर जारी कार्य वीजा प्रतिबंध पर कोई चर्चा नहीं
  • भारत के साथ नजदीकी बढ़ रही है संयुक्त अरब अमीरात की

इस्लामाबाद:

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने दो अरब डॉलर के बेलआउट पैकेज के साथ पाकिस्तान (Pakistan) की मदद करने का फैसला किया है. यूएई की ओर से पाकिस्तान को हर संभव समर्थन देने का आश्वासन भी दिया गया है. यूएई का यह समर्थन पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की खाड़ी देशों की यात्रा के दौरान देखने को मिला है. कुरैशी ने यूएई के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायेद अल नाहयान को धन्यवाद दिया. कुरैशी ने कहा कि यह निर्णय दोनों देशों के बीच गर्मजोशी वाले और दोस्ताना संबंधों को दर्शाता है. हालांकि यूएई ने अभी तक पाकिस्तानी नागरिकों पर जारी कार्य वीजा प्रतिबंध पर कोई चर्चा नहीं की है.

फिर भी वीजा प्रतिबंध है बाकी
पाकिस्तान विदेशी कार्यालय की ओर से कहा गया है, 'हम संयुक्त अरब अमीरात के निरंतर समर्थन और सहयोग की सराहना करते हैं.' कुरैशी ने बैठक के दौरान यूएई के सामने पाकिस्तानियों के लिए वीजा प्रतिबंध का मुद्दा भी उठाया. यात्रा के दौरान, कुरैशी ने संयुक्त अरब अमीरात में रहने वाले पाकिस्तानी नागरिकों द्वारा दोनों देशों के लिए किए गए योगदान पर भी प्रकाश डाला. पाकिस्तान विदेश कार्यालय की ओर से कहा गया है कि कुरैशी ने इस दौरान लोगों से लोगों को जोड़ने पर जोर दिया. इसके साथ ही उन्होंने दोनों देशों के बीच यात्रा में बाधा डालने वाली बाधाओं को दूर करने और संबंधों को मजबूत बनाने की आवश्यकता पर भी विशेष जोर दिया. बता दें कि संयुक्त अरब अमीरात ने पाकिस्तानी नागरिकों के लिए कार्य वीजा पर प्रतिबंध लगाया हुआ है, जो पाकिस्तान में एक बड़ा प्रभाव पैदा करता है, क्योंकि यहां के लोग काफी हद तक यूएई पर निर्भर करते हैं.

यह भी पढ़ेंः Good News: रेमडेसिविर और ऑक्सीजन के बगैर भी 85 फीसदी लोग हो रहे ठीक

कोविड-19 के फेर में लगाया था प्रतिबंध
हालांकि प्रतिबंध कोविड-19 महामारी के मद्देनजर लगाया गया था, मगर साथ ही कई लोगों का मानना है कि यह कदम तब उठाया गया है, जब पाकिस्तान ने मुस्लिम दुनिया का प्रतिनिधित्व करने के लिए तुर्की और मलेशिया के साथ एक संयुक्त संघ के गठन की दिशा में झुकाव दिखाना शुरू कर दिया, जो अरब दुनिया के नेतृत्व वाले संगठन इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) के लिए एक प्रत्यक्ष विरोध और चुनौतीपूर्ण इकाई होगी. इसके अलावा अफगान शांति प्रक्रिया में पाकिस्तान की भूमिका और भारत के साथ जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर अरब दुनिया द्वारा पाकिस्तान को कोई खास भाव नहीं देना, दोनों देशों के बीच रिश्तों में टकराव के कारण बने हैं.

यह भी पढ़ेंः फ्रांस से भारत पहुंचे 4 और राफेल लड़ाकू विमान, तय किया 8 हजार किमी का नॉनस्टॉप सफर

खाड़ी देशों पर निर्भर है पाकिस्तान अर्थव्यवस्था
पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था काफी हद तक खाड़ी देशों पर निर्भर करती है. संयुक्त अरब अमीरात में बड़ी संख्या में पाकिस्तानी कार्यरत हैं, जो देश की अपंग अर्थव्यवस्था का समर्थन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. पाकिस्तान ने संयुक्त अरब अमीरात में पाकिस्तानी समुदाय को हो रही कठिनाइयों से यूएई को अवगत कराते हुए, अपने नागरिकों के लिए वीजा प्रतिबंधों के जल्द समाधान की आवश्यकता पर बल दिया है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 22 Apr 2021, 09:12:19 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.