News Nation Logo
Agnipath Scheme: आज से Air Force में भर्ती के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू होंगे 2002 Gujarat Riots: जाकिया जाफरी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आज Agnipath Scheme: एयरफोर्स के लिए अग्निवीरों का रजिस्ट्रेशन आज से शुरू, ऐसे करें आवेदनRead More » राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा 27 जून को राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना नामा Coronavirus: भारत में 17000 से ज्यादा केस, 5 माह में सबसे ज्यादा मामलेRead More » यशवंत सिन्हा को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का 'जेड (Z)' श्रेणी का सशस्त्र सुरक्षा कवच प्रदान किया NCP प्रमुख शरद पवार से मिलने मुंबई के लिए शिवसेना नेता संजय राउत वाई.बी. चव्हाण सेंटर पहुंचे सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी जांच के खिलाफ जाकिया जाफरी की याचिका की खारिजRead More » महाराष्ट्र सियासी संकट पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को करेगा सुनवाई

डैनियल पर्ल मामले में पाकिस्तान के उच्चतम न्यायालय ने सिंध सरकार की याचिका खारिज की

‘द वॉल स्ट्रीट जर्नल’ के दक्षिण एशिया के ब्यूरो प्रमुख 38 वर्षीय डैनियल पर्ल 2002 में पाकिस्तान में जब देश की शक्तिशाली खुफिया एजेंसी आईएसआई और अल-कायदा के बीच कथित संबंधों की खबर को लेकर कुछ तथ्य जुटा रहे थे, तभी उनका अपहरण कर लिया गया और उनका सिर

Bhasha | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 01 Jun 2020, 11:06:41 PM
daniel pearl journalist

अमेरिकी पत्रकार डेनियल पर्ल (Photo Credit: फाइल)

इस्लामाबाद:  

पाकिस्तान के उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को सिंध सरकार की एक याचिका खारिज कर दी, जिसमें उच्च न्यायालय के फैसले को स्थगित करने की मांग की गई थी. उच्च न्यायालय ने अमेरिकी पत्रकार डैनियल पर्ल के अपहरण और हत्या मामले में अल-कायदा के आतंकवादी अहमद उमर सईद शेख और उसके तीन सहयोगियों को दी गई सजा के फैसले को पलट दिया था. फैसले का पलटा जाना पत्रकार को न्याय दिलाने के अमेरिकी प्रयास को करारा झटका है. ‘द वॉल स्ट्रीट जर्नल’ के दक्षिण एशिया के ब्यूरो प्रमुख 38 वर्षीय डैनियल पर्ल 2002 में पाकिस्तान में जब देश की शक्तिशाली खुफिया एजेंसी आईएसआई और अल-कायदा के बीच कथित संबंधों की खबर को लेकर कुछ तथ्य जुटा रहे थे, तभी उनका अपहरण कर लिया गया और उनका सिर कलम कर दिया गया था.

सिंध उच्च न्यायालय के दो न्यायाधीशों की पीठ ने ब्रिटेन में जन्मे 46 वर्षीय अल-कायदा के आतंकवादी के मौत की सजा को दो अप्रैल को पलट दिया था. 2002 में पर्ल के अपहरण और हत्या मामले में उसे सजा सुनाई गई थी. वह पिछले 18 वर्षों से जेल में है. अदालत ने उसके तीन सहयोगियों - फहाद नसीम, सलमान साकिब और शेख आदिल को भी बरी कर दिया था, जो मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे थे. चारों दोषियों द्वारा 18 वर्ष पहले दायर अपील पर पीठ ने यह फैसला सुनाया. सिंध की सरकार ने उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती दी और दो मई को मारे गए पत्रकार के माता-पिता ने भी दोषियों को बरी करने के खिलाफ उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर की.

पाक सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका
प्रधान न्यायाधीश गुलजार अहमद की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय पीठ ने सोमवार को इस्लामाबाद में अपीलों पर सुनवाई की. उच्चतम न्यायालय ने प्रारंभिक सुनवाई के बाद सिंध उच्च न्यायालय के फैसले को रोकने से इंकार कर दिया और सिंध सरकार से कहा कि मामले का पूरा रिकॉर्ड मुहैया कराए. इसने कहा कि याचिका में अप्रासंगिक धाराएं हैं. न्यायमूर्ति मंजूर मलिक ने कहा, सबसे पहले यह साबित किया जाना चाहिए कि डैनियल पर्ल का अपहरण हुआ था. साक्ष्य से स्पष्ट किया जाना चाहिए कि जिसका अपहरण हुआ, वह डैनियल पर्ल था. सिंध सरकार का दावा है कि षड्यंत्र रावलपिंडी में रचा गया. रावलपिंडी में जो षड्यंत्र हुआ उसे भी साक्ष्यों से साबित किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा, हमें मामले का पूरा रिकॉर्ड मुहैया कराया जाना चाहिए. मैं सभी रिकॉर्ड को देखना चाहता हूं ताकि मैं सभी बिंदुओं को समझ सकूं.

यह भी पढ़ें- Exclusive - पाकिस्तानी एंबेसी के जासूसी मामले की FIR दर्ज, ISI के इशारे पर कर रहे थे काम

सुप्रीम कोर्ट ने मांगा विस्तृत ब्यौरा
उच्चतम न्यायालय ने सिंध सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले वकील फारूक एच. नाइक को आदेश दिया कि अदालत को विस्तृत ब्यौरा सौंपें ताकि अदालत आगे की सुनवाई कर सके. इसके बाद सुनवाई को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया. सिंध सरकार ने निचली अदालत के रिकॉर्ड सौंपने के लिए समय मांगा था. न्यायाधीश ने कहा कि अदालत को देखना होगा कि स्वीकारोक्ति और पहचान परेड कानून के मुताबिक की गयी अथवा नहीं. उन्होंने कहा, तथ्यों को अनदेखा नहीं किया जा सकता है. मशहूर वकील फैजल सिद्दिकी ने चारों आरोपियों को बरी किए जाने और छोड़े जाने के खिलाफ, मारे गए पत्रकार के माता-पिता- रूथ पर्ल और जूडी पर्ल की तरफ से दो मई को दायर दो याचिकाएं दायर की थीं. सिंध उच्च न्यायालय द्वारा दो अप्रैल को शेख की सजा के फैसले को पलटने के दो दिनों बाद प्रांत की सरकार ने कानून-व्यवस्था बरकरार रखने का आदेश जारी किया ताकि दोषियों को जेल में रखा जा सके.

यह भी पढ़ें- पाकिस्तान: बलूचिस्तान में लोगों पर जारी है सरकार का जुल्मो सितम, महिला की हत्या से आक्रोश

अल-कायदा आतंकी की मौत की सजा पलटने के बाद यूएस ने की थी आलोचना
अल-कायदा आतंकवादी के मौत की सजा को पलटने के पाकिस्तान की अदालत के फैसले की अमेरिका ने आलोचना की थी और कहीं के भी आतंकवाद के पीड़ितों के लिए अपमान करार दिया. अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने पर्ल के लिए न्याय की मांग कर पाकिस्तान पर दबाव बनाया है. पोम्पियो ने अप्रैल की शुरुआत में एक ट्वीट में कहा, अमेरिका डैनियल पर्ल को नहीं भूलेगा. हम उन्हें साहसी पत्रकार के तौर पर सम्मान देना जारी रखेंगे और उनके लिए न्याय मांगते रहेंगे. पिछले महीने भी अमेरिका ने पर्ल के लिए पाकिस्तान से न्याय की मांग की थी. 

First Published : 01 Jun 2020, 11:06:41 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.