News Nation Logo

पाकिस्तान के सैदपुर गांव में मंदिर खोलने की मांग तेज

CII के एक बयान में कहा गया है, इस्लामाबाद में मौजूदा आबादी को देखते हुए, सैदपुर गांव में प्राचीन मंदिर और निकटवर्ती धर्मशाला को हिंदुओं के लिए खोलना चाहिए और उन्हें उनकी मान्यताओं के अनुसार धार्मिक कर्मकांड करने के लिए वहां पहुंचने की सुविधा दी जाए.

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 30 Oct 2020, 11:44:06 AM
Temple Saidpur village in Pakistan

पाक के सैदपुर गांव में मंदिर खोलने की सिफारिश (Photo Credit: IANS)

इस्लामाबाद:

पाकिस्तान में इस्लामिक विचारधारा परिषद (इस्लामिक आइडियोलॉजी काउंसिल) ने सरकार को सलाह दी है कि वह राजधानी इस्लामाबाद के सैदपुर गांव में स्थानीय हिंदू समुदाय के लिए पहले से मौजूद एक हिंदू मंदिर को खोले. इससे पहले पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में एक हिंदू मंदिर के निर्माण को लेकर बड़ा विवाद पैदा हो गया था, क्योंकि कई धार्मिक समूहों की ओर से मंदिर निर्माण का विरोध किया गया था. अब यह मुद्दा विचारधारा और इस्लामिक विचारधारा परिषद (सीआईआई) की समीक्षा के अधीन है, जिसने इसके बजाय सिफारिश की है भूमि आवंटित करने और एक नए हिंदू मंदिर के निर्माण के बजाय पाकिस्तानी राजधानी के सैदपुर गांव में पहले से ही स्थापित मंदिर को खोला जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें : मुंगेर कांड पर शिवसेना का BJP पर तंज, पूछा- चुप क्यों हैं खोखले हिंदुत्ववादी

'हिंदुओं को धार्मिक कर्मकांड करने की सुविधा दी जानी चाहिए'
सीआईआई के एक बयान में कहा गया है, इस्लामाबाद में मौजूदा आबादी को देखते हुए, सैदपुर गांव में प्राचीन मंदिर और निकटवर्ती धर्मशाला को हिंदुओं के लिए खोलना चाहिए और उन्हें उनकी मान्यताओं के अनुसार धार्मिक कर्मकांड करने के लिए वहां पहुंचने की सुविधा दी जानी चाहिए. सीआईआई ने विवाह समारोहों को आयोजित करने और हिंदू समुदाय के लिए धार्मिक अनुष्ठानों को करने के लिए एक सामुदायिक केंद्र के साथ-साथ एक श्मशान घाट की स्थापना के लिए भी जगह आवंटित करने के लिए सकारात्मक संकेत दिया है.

यह भी पढ़ें : पाक मंत्री पुलवामा बयान से पलटे, भारतीय मीडिया पर दोष मढ़ा

'पाक हिंदू समुदाय की भलाई के लिए धन का अनुमोदन कर सकता है'
सीआईआई का निर्णय विभिन्न आवेदकों से तर्क और संकेत सुनने के बाद आया, जिसमें धार्मिक मौलवी और हिंदू समुदाय के प्रतिनिधि शामिल हैं. परिषद ने इस मामले की विस्तृत और गहराई से समीक्षा करने के बाद अपना निर्णय लिया है. इस्लामी मानदंडों और कानूनों को ध्यान में रखते हुए, परिषद ने माना कि अनाधिकृत पूजा स्थलों के लिए सरकारी धन आवंटित नहीं किया जा सकता है. हालांकि, पाकिस्तान के नागरिकों के रूप में राज्य हिंदू समुदाय की भलाई के लिए धन का अनुमोदन कर सकता है.

यह भी पढ़ें : 'आत्मनिर्भर' भारतीय सेना ने तैयार किया अपना मोबाइल मैसेजिंग एप

'इमरान सरकार ने हिंदू मंदिर के निर्माण जमीन और धन की मंजूरी दी थी'
पाकिस्तान में इस्लामाबाद के सेक्टर एच-9/2 में हिंदू मंदिर के निर्माण के लिए भूमि और धन के आवंटन को मंजूरी देने के बाद इमरान खान की अगुवाई वाली सरकार गंभीर दबाव में आ गई थी और उसे और आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था. 2017 के बाद से मंदिर निर्माण को लेकर किया जाने वाला निर्णय लंबित है, जब पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नमाज (पीएमएल-एन) सरकार ने इसी उद्देश्य के लिए 2,400 वर्ग गज भूमि आवंटित की. कई कानूनविदों और धार्मिक समूहों ने मंदिर बनाने वाले निर्णय को इस्लाम के खिलाफ बताते हुए इसका पुरजोर विरोध किया है.

इस साल जून में इमरान खान सरकार ने एक बड़ा निर्णय लेते हुए घोषणा की थी कि वह मंदिर बनाने के लिए 10 करोड़ पीकेआर (पाकिस्तानी रुपया) देंगे. इस धनराशि को मंजूरी दिए जाने के बाद विपक्षी दलों समेत खान सरकार कट्टरपंथियों के निशाने पर भी आ गई थी. स्थानीय लोगों में बढ़ते गुस्से के बीच राजधानी विकास प्राधिकरण (सीडीए) ने निर्माण कार्य रोक दिया था, जिसने मंदिर के लिए भूखंड पर चारदीवारी का निर्माण भी कर दिया था. जुलाई में धार्मिक मामलों के संघीय मंत्रालय द्वारा सीआईआई को एक आवेदन भेजा गया था, जिसमें हिंदू मंदिर के निर्माण के लिए भूमि आवंटित करने की सिफारिश की गई थी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 30 Oct 2020, 11:44:06 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.