News Nation Logo

पाकिस्तान से शह प्राप्त खालिस्तानी एजेंट सक्रिय हैं कनाडा में, रिपोर्ट में खुलासा

खालिस्तान प्रोजेक्ट पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित है और यह न केवल भारत बल्कि कनाडा की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए भी खतरा है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 19 Dec 2020, 08:36:55 AM
Khalistan

भारत समेत कनाडा के लिए खतरा हैं खालिस्तानी समर्थक. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

ओटावा:

एक आंख खोलने वाली रिपोर्ट में कनाडा के दिग्गज पत्रकारों में से एक टेरी मिलेवस्की ने चेतावनी दी है कि खालिस्तान प्रोजेक्ट पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित है और यह न केवल भारत बल्कि कनाडा की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए भी खतरा है. कनाडा के सबसे ज्यादा देखे जाने वाले सीबीसी टीवी न्यूज के संवाददाता के रूप में चार दशकों के दौरान पुरस्कार विजेता मिलेवस्की 52 देशों से रिपोर्टिग कर चुके हैं.

ओटावा स्थित एक प्रतिष्ठित थिंक टैंक मैकडोनाल्ड लॉयर इंस्टीट्यूट द्वारा प्रकाशित मिलेवस्की की रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि कैसे पाकिस्तान ने भारत-पाक 1971 के युद्ध में अपनी हार का बदला लेने के लिए भारत के पंजाब में भारतीय सिखों का इस्तेमाल करते हुए खालिस्तान विद्रोह की शुरुआत की. पाकिस्तानी सेना द्वारा किए गए नरसंहार को रोकने के लिए भारत ने पूर्वी पाकिस्तान (बांग्लादेश) में हस्तक्षेप किया था और इसके परिणामस्वरूप उसे पश्चिम पाकिस्तान से मुक्त करने में मदद की थी.

यह भी पढ़ेंः LIVE: शाह पहुंचे कोलकाता, ममता ने बगावत के बीच पत्ते बटोरने शुरू किए

दिलचस्प बात यह है कि रिपोर्ट बताती है कि पाकिस्तान ने खालिस्तान परियोजना को एक रणनीतिक बफर के रूप में देखा और कैसे एक स्वतंत्र खालिस्तान भारत की कश्मीर तक उत्तर में पहुंच को समाप्त कर देगा, जो कि 1947 के बाद से पाकिस्तान सेना का एक और महत्वपूर्ण इंट्रेस्ट है. खालिस्तान परियोजना पर प्रकाश डालते हुए मिलेवस्की ने बताया कि अलगाववादी सिखों ने 1984 में हिंदुओं द्वारा कई हजार सिखों के नरसंहार के बारे में जोर से और ठीक से शिकायत की, लेकिन 1947 में भारत के विभाजन के दौरान इस्लाम के नाम पर लाखों सिखों के मुसलमानों द्वारा नरसंहार करने के लिए न्याय मांगने के लिए रैलियों का आयोजन नहीं किया.

यह भी पढ़ेंः TMC की एक और विधायक का इस्तीफा, नहीं थम रही अंदरूनी रार

मिलेवस्की की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कनाडा, ब्रिटेन और अमेरिका जैसे बड़े देश जहां बड़े पैमाने पर सिख समुदाय हैं, वे इस बात से वाकिफ हैं और इसलिए खालिस्तान जनमत संग्रह पर संदेह जताया. कनाडा की सरकार पहले ही कह चुकी है कि वह इसे मान्यता नहीं देगी. खालिस्तान जनमत संग्रह पर सवाल उठाते हुए, अनुभवी पत्रकार ने अपनी रिपोर्ट में पूछा है कि अलगाववादी सिख भारतीय पंजाब पर 'कब्जे' की जुगत में क्यों हैं, लेकिन कभी भी पाकिस्तान से पाकिस्तानी पंजाब पर अपना कब्जा खत्म करने के लिए नहीं कहते हैं.

यह भी पढ़ेंः असंतुष्ट समूह जी-23 को मनाएंगी सोनिया, कांग्रेस की अहम बैठक आज

रिपोर्ट के अनुसार, अधिकांश सिख, भारत से खुश हैं और जो लोग भारतीय पंजाब में रहते हैं, वे यहां तक कि कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली अपनी क्षेत्रीय सरकार के लिए भी खुश हैं. 1985 में टेरी मिलेवस्की नो एयर इंडिया पर बमबारी को कवर किया, जिसमें मॉन्ट्रियल से हीथ्रो जा रहे विमान में सवार 329 लोग मारे गए थे. उन्होंने पिछले 35 वर्षो से उस कहानी का पीछा किया, मामले की पूरी जांच को कवर किया. मिलेवस्की 2016 में सीबीसी के वरिष्ठ संवाददाता के रूप में सेवानिवृत्त हुए, जो कभी-कभी नेटवर्क के गेस्ट होस्ट के रूप में लौटते हैं.

First Published : 19 Dec 2020, 08:36:55 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.