News Nation Logo

तालिबान के सत्ता में आने के बाद अफगानिस्तान में अफीम की कीमतों में उछाल

15 अगस्त को तालिबान ने काबुल पर कब्ज़ा कर लिया, अफीम की कीमत- जो कि पाकिस्तान, ईरान या यूरोपीय बाजार में पहुंचने पर  हेरोइन में बदल जाती है-की कीमत तीन गुना से अधिक हो गई है.

Written By : प्रदीप सिंह | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 29 Sep 2021, 09:06:20 PM
Afganistan

कंधार का अफीम बाजार (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, 2016 में अफगानिस्तान का आधा राजस्व अफीम व्यापार से आया था
  • तालिबान के सत्ता अधिग्रहण के बाद से अफीम की कीमतें आसमान छू रही हैं.
  • इस्लाम में अफीम हराम, लेकिन इसके उत्पादकों के पास दूसरा चारा नहीं

नई दिल्ली:

तालिबान के शासन में अफगानिस्तान की अर्थव्यवस्था चरमराने की कगार पर है. तालिबान के मंत्री विदेशों और संयुक्त राष्ट्र संघ से सहायता जारी रखने की अपील कर रहे हैं. देश में जरूरी वस्तुओं की कमी हो रही है वहीं दक्षिणी अफगानिस्तान के एक अफीम बाजार के विक्रेताओं का कहना है कि तालिबान के अधिग्रहण के बाद से उनके अफीम से संबंधित सामानों की कीमतें आसमान छू गई हैं. मीडिया में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार उक्त बाजार में अमानुल्लाह ( काल्पनिक नाम )ने अपने चाकू को चार किलोग्राम भूरे रंग की मिट्टी से भरे एक बड़े प्लास्टिक बैग में डुबोकर एक गांठ निकालता है और उसे एक प्राइमस लौ पर एक छोटे कप में रखता है. खसखस जल्दी उबलने और गलने लगता है, और वह और उसका साथी मोहम्मद मासूम (काल्पनिक नाम) खरीदारों को दिखाते हैं कि उनकी अफीम शुद्ध है.

कंधार प्रांत में हाउज़-ए-मदद के शुष्क मैदानों के बाज़ार में मासूम अफीम के कारोबार से जुड़े हैं. वह कहते हैं, "इस्लाम में यह हराम है, लेकिन हमारे पास और कोई चारा नहीं है."

15 अगस्त को तालिबान ने काबुल पर कब्ज़ा कर लिया, अफीम की कीमत- जो कि पाकिस्तान, ईरान या यूरोपीय बाजार में पहुंचने पर  हेरोइन में बदल जाती है-की कीमत तीन गुना से अधिक हो गई है. मासूम ने कहा कि तस्कर अब उसे 100 डॉलर प्रति किलो दे रहे हैं. यूरोप में, इसका मूल्य प्रति ग्राम 50 डॉलर से अधिक है.

जब वह कीमती सामानों को जलती धूप से बचाने के लिए चार खंभों से लटके हुए कैनवास के नीचे बैठे, तो उन्होंने कहा कि तालिबान के अधिग्रहण से पहले की कीमत आज की तुलना में सिर्फ एक तिहाई थी.

बाजार से कुछ किलोमीटर दूर अपने खेत में अफीम किसान जेकरिया ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि अफीम की कीमतें आसमान छू रही हैं.

उनका कहना है कि मासूम और अमानुल्लाह की तुलना में उनकी अफीम अधिक केंद्रित और शुद्ध है. इसलिए बेहतर गुणवत्ता की है क्योंकि फूल कटाई के मौसम की शुरुआत में उठाए गए थे. वह कहते हैं कि अब उन्हें प्रति किलो 25,000 रुपये मिलते हैं, जो तालिबान के अधिग्रहण से पहले के 7,500 रुपये थे.

बाजार में वापस आने पर, सैकड़ों उत्पादक, विक्रेता और खरीदार बढ़ती कीमतों पर चर्चा करते हुए अफीम और हशीश की बोरियों के आसपास हरी चाय पर बातचीत करते हैं.

मौसम, असुरक्षा, राजनीतिक अशांति और सीमा बंद सभी अफीम की कीमतों में उतार-चढ़ाव को प्रभावित कर सकते हैं, लेकिन हर कोई इस बात से सहमत है कि तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने पिछले महीने एक ही बयान दिया था जिसने कीमतों में बढ़ोतरी की थी.

यह भी पढ़ें: अमेरिका ने बनाई नई हाइपरसोनिक मिसाइल, इन देशों पर होगी खास नजर

उस समय, उन्होंने दुनिया को बताया कि तालिबान "किसी भी नशीले पदार्थ का उत्पादन" नहीं देखना चाहता था. लेकिन यह भी कहा कि किसानों को व्यापार से दूर जाने की अनुमति देने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समर्थन की आवश्यकता थी.

तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जा के बाद उसके गढ़ और अफीम उत्पादन और मादक पदार्थों की तस्करी के  केंद्र कंधार में यह अफवाह फैल गयी कि अफीम उगाने पर प्रतिबंध लग सकता है.  

ज़ेक्रिआ ने कहा, "खरीदार के मन में भविष्य में अफीम पर प्रतिबंध लगने का डर सता रहा है , "इसलिए अफीम की कीमत बढ़ रही है." 

लेकिन एक 40 वर्षीय युवक , जिसने अपने पिता और दादा की तरह अपने जीवन का अधिकांश समय खसखस ​​उगाने में बिताया है, ने कहा कि उन्हें विश्वास नहीं था कि तालिबान "अफगानिस्तान में अफीम की खेती को मिटा सकता है. 

तालिबान ने 2000 में अपनी सत्ता के अंतिम कार्यकाल के दौरान अफीम उगाने पर प्रतिबंध लगा दिया, इसे इस्लाम के तहत निषिद्ध घोषित कर दिया, और फसल को लगभग समाप्त कर दिया था.

2001 में अमेरिका के नेतृत्व में तालिबान के निष्कासन के बाद, अफीम की खेती फिर से बढ़ी, यहां तक ​​​​कि पश्चिम ने केसर जैसे विकल्पों को आगे बढ़ाने में लाखों डॉलर खर्च किए.

फिर, तालिबान ने  अफगानिस्तान में अमेरिकी नेतृत्व वाली ताकतों के खिलाफ विद्रोह में जाने के पर अपने विद्रोह को वित्तपोषित करने के लिए अफीम उत्पादन पर भरोसा किया. संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, 2016 में, उनका आधा राजस्व अफीम व्यापार से आया था. संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि अफ़ग़ानिस्तान का अफीम उत्पादन साल दर साल उच्च स्तर पर बना हुआ है, जो पिछले साल लगभग 6,300 टन था.

दक्षिण में किसानों का कहना है कि अफीम के व्यापार को मिटाना असंभव है, संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि अफगानिस्तान में वार्षिक राजस्व में अफीम से मिलने वाला भाग 2 बिलियन डॉलर है.

मासूम ने कहा, "हम जानते हैं कि यह अच्छा नहीं है, लेकिन हमारे पास पर्याप्त पानी या बीज नहीं है." उन्होंने कहा, "हम अभी और कुछ नहीं पैदा कर सकते हैं," उन्होंने कहा कि कोई अन्य व्यापार बहुत कम फायदेमंद होगा. मासूम की बातों से 25 लोगों के परिवार में इकलौता कमाने वाला ज़करिया ने सहमति व्यक्त की. उन्होंने कहा, "अफीम के बिना, मैं अपना खर्च भी नहीं उठा सकता," उन्होंने कहा, "कोई अन्य समाधान नहीं है जब तक कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय हमारी मदद नहीं करता."

 

First Published : 29 Sep 2021, 08:29:39 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो