News Nation Logo
Banner

मलाला को फिर तालिबान ने दी गोली मारने की धमकी, कहा- इस बार गलती नहीं होगी

प्रधानमंत्री इमरान खान के सलाहकार राउफ हसन ने कहा कि सरकार इस धमकी की जांच कर रही है और उसने तुरंत ट्विटर से अकाउंट बंद करने को कहा था.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 18 Feb 2021, 10:27:56 AM
Malala Yusufjai

9 साल पहले मारी थी तालिबान ने गोली, अब फिर दी धमकी. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • 9 साल पहले तालिबान ने ही मारी थी मलाला को गोली
  • अब फिर ट्वीट के जरिये दी धमकी, ट्विट्र ने एकाउंट हटाया
  • इमरान खान ने दिए एहसान की फरारी के जांच के आदेश

इस्लामाबाद:

नोबल पुरस्कार विजेता मलाला युसुफजई (Malala Yousafzai) को तालिबान के आतंकवादी ने फिर जान से मारने की धमकी दी है. तालिबान आतंकवादी ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर लिखा कि इस बार कोई गलती नहीं होगी. 9 साल पहले इसी तालिबानी आतंकवादी (Taliban) ने मलाला पर जानलेवा हमला किया था. हालांकि इस खतरनाक ट्वीट के बाद ट्विटर ने वह अकाउंट ही स्थायी रूप से हटा दिया, जिससे यह ट्वीट किया गया था. प्रधानमंत्री इमरान खान के सलाहकार राउफ हसन ने कहा कि सरकार इस धमकी की जांच कर रही है और उसने तुरंत ट्विटर से अकाउंट बंद करने को कहा था.

मलाला ने खुद ट्वीट कर दी जानकारी
जानकारी के मुताबिक मलाला ने खुद ट्वीट करके तालिबानी धमकी के बारे में जानकारी दी है. पाकिस्तान की सेना और प्रधानमंत्री इमरान खान दोनों से पूछा कि उन पर हमला करने वाला एहसानुल्लाह एहसान कैसे सरकारी हिरासत से फरार हो गया? एहसान को 2017 में गिरफ्तार किया गया था, लेकिन जनवरी 2020 में एक तथाकथित सुरक्षित पनाह-गाह से फरार हो गया था, जहां उसे पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी द्वारा रखा गया था. 

यह भी पढ़ेंः Train Robbery: बरौनी-ग्वालियर ट्रेन में डकैती, एक यात्री को मारी गोली

एहसान की फरारी पर विवाद
एहसान की गिरफ्तारी और फरारी दोनों की परिस्थितियों को लेकर विवाद बना हुआ है. भागने के बाद से एहसान ने उसी ट्विटर अकाउंट के जरिए पाकिस्तानी पत्रकारों के साथ संवाद किया था, जिससे उर्दू भाषा में धमकी दी गई थी. उसके कई ट्विटर अकाउंट रहे हैं, जिनमें से सभी को बंद कर दिया गया है. प्रधानमंत्री के सलाहकार राउफ हसन ने कहा कि सरकार इस धमकी की जांच कर रही है और उसने तुरंत ट्विटर से अकाउंट बंद करने को कहा था. पाकिस्तानी तालिबान या तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के सदस्य एहसान ने युसुफजई से आग्रह किया कि वह घर वापस लौट आएं. दरअसल, अपने ट्वीट में उसने कहा कि उसे युसुफजई और उनके पिता से हिसाब बराबर करना है. इस ट्वीट में आगे कहा गया, इस बार कोई गलती नहीं होगी.

यह भी पढ़ेंः  मोदी सरकार ने दे दी थी भारतीय सेना को खुली छूट, इससे LAC पर पलटी बाजी

आर्मी स्कूल पर हमले में भी था शामिल
एहसान के खिलाफ लगाए गए आरोपों में पाकिस्तानी सेना के पब्लिक स्कूल पर 2014 में किया गया एक भयावह हमला भी है. इसमें बड़ी संख्या में बच्चों की मौत हो गई थी. कुल मिलाकर 134 लोगों की मौत हुई थी. इसके अलावा आतंकी पर स्वात घाटी में मलाला युसुफजई के ऊपर हमला करने का भी आरोप है.

First Published : 18 Feb 2021, 10:22:56 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.