logo-image
लोकसभा चुनाव

Ebrahim Raisi: ईरानी राष्ट्रपति से अब तक नहीं हुआ संपर्क, इब्राहिम रईसी खतरे में, हेलीकॉप्टर हादसे का शिकार 

Ebrahim Raisi: बताया जा रहा है कि खराब मौसम के कारण ये हादसा हुआ. उनके साथ हेलीकाप्टर में वित्त मंत्री भी मौजूद थे

Updated on: 20 May 2024, 05:43 AM

नई दिल्ली:

Ebrahim Raisi:  ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी को लेकर अभी तक कोई जानकारी सामने नहीं आई है. रविवार को हेलीकॉप्टर पूर्वी अजरबैजान में हादसे का शिकार हो गया था. यह जानकारी स्थानीय मीडिया की ओर से सामने आई है. देश के एक बड़े अधिकारी की ओर से मीडिया को बताया गया कि राष्ट्रपति रईसी की जिंदगी खतरे में है. ईरान की स्थानीय मीडिया का कहना है कि काफिले में तीन हेलीकॉप्‍टर शामिल थे. इनमें से दो मंत्रियों और अधिकारियों को लेकर अपने गंतव्य तक पहुंच चुके हैं. मगर जिस हेलीकॉप्टर की ‘हार्ड लैंडिंग’ कराई गई है, उसमें रईसी मौजूद थे. उनके साथ ईरान के विदेश मंत्री होसैन अमीराब्दुल्लाहियान भी थे. 

ये भी पढ़ें: Swati Maliwal Assault Case: CM आवास पर प्रिंटर-लैपटॉप के साथ पहुंची दिल्ली पुलिस, CCTV का DVR जब्त कर ले गई

जोल्फा के नजदीक हुआ हादसा

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, ईरानी राष्ट्रपति के काफिले में तीन हेलीकॉप्टर शामिल थे, जिनमें से दो अपने गंतव्य पर सही तरह से पहुंच गए. मगर एक हादसे का शिकार हो  गया. यहां की स्थानीय मीडिया का कहना है कि यह घटना ईरान की राजधानी तेहरान से करीब 600 किलोमीटर (375 मील) उत्तर-पश्चिम में अजरबैजान राष्ट्र की सीमा पर स्थित शहर जोल्फा के नजदीक हुई. इस हेलीकॉप्टर में ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी, ईरान के विदेश मंत्री, होसैन अमीर अब्दुल्लाहियान, अयातुल्ला अल-हाशमी, तबरेज़ मस्जिद के इमाम, पूर्वी अजरबैजान प्रांत के गवर्नर मलिक रहमती मौजूद थे. 

उद्घाटन करने को लेकर अजरबैजान में मौजूद थे

रईसी रविवार की सुबह अजरबैजान के राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव के संग बांध का उद्घाटन करने को लेकर अजरबैजान में मौजूद थे. यह दोनों देशों की ओर से बनाया गया अरास नदी पर बनाया तीसरा बांध मौजूद है.  ईरान देश में विभिन्न तरह के हेलीकॉप्टर को उड़ाता है. मगर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों की वजह से इन हेलीकॉप्टर के पार्ट्स हासिल करना इस्लामिक देश के लिए कठिन हो जाता है. इसका सैन्य हवाई बेड़ा भी काफी हद तक 1979 की इस्लामी क्रांति से पहले का है. 63 वर्षीय रईसी एक कट्टरपंथी हैं. ये ईरान की न्यायपालिका की अगुवाई कर चुके हैं. उन्हें ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई के शिष्य के रूप में माना गया है.