News Nation Logo
आग पर काबू पाने के लिए दमकल की 20 से ज्यादा गाड़ियां मौके के लिए रवाना मुंबई के लालबाग इलाके में 60 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग आग की लपटों से घिरी बहुमंजिला इमारत में 100 से ज्यादा लोगों के फंसे होने की आशंका बहादुरगढ़ के बादली के पास तेज़ रफ़्तार कार और ट्रक की टक्कर में एक ही परिवार के 8 लोगों की मौत उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव: कल शाम छह बजे सोनिया गांधी के आवास पर कांग्रेस सीईसी की बैठक राष्ट्रपति कोविन्द अपनी तीन दिवसीय बिहार यात्रा के अंतिम दिन गुरुद्वारा पटना साहिब, महावीर मंदिर गए छत्तीसगढ़ः राजनांदगांव में आईटीबीपी के 21 जवानों को फूड प्वाइजनिंग, अस्पताल में भर्ती कराया गया ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने लगातार तीसरे दिन पेट्रोल और डीजल को महंगा किया राजधानी दिल्ली में पेट्रोल का दाम बढ़कर 106.89 रुपये प्रति लीटर हुआ युद्ध जारी रहते कवच नहीं उतारते यानी मास्क को सहज स्वभाव बनाएंः पीएम मोदी आर्यन खान की चैट के आधार पर एनसीबी आज फिर करेगी अनन्या पांडे से पूछताछ पुंछ में आतंकियों पर सुरक्षा बलों का घेरा कसा. आज या कल खत्म कर दिए जाएंगे आतंकी दूत जम्मू-कश्मीर दौरे से पहले गृह मंत्री अमित शाह की आईबी-एनआईए संग हाई लेवल बैठक आज आज फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, 35 पैसे प्रति लीटर का हुआ इजाफा

तालिबान राज में कुपोषण से मर रहे मासूम, 10 लाख बच्चों को इलाज की जरूरत

अफगानिस्तान में तालिबानी शासन आने के बाद बच्चे भूख से मर रहे हैं, स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय सूत्रों ने शनिवार को चेतावनी दी कि साल के अंत तक वहां दस लाख बच्चों को जानलेवा कुपोषण का सामना करना पड़ सकता है.

News Nation Bureau | Edited By : Vijay Shankar | Updated on: 03 Oct 2021, 09:13:28 AM
Malnutrition in afghanistan

Malnutrition in afghanistan (Photo Credit: File Photo)

highlights

  • कुपोषण से प्रभावित घोर प्रांत में 17 बच्चों की मृत्यु
  • भूख के प्रभाव से लगभग 300 बच्चों का इलाज किया गया
  • देश के मध्य भागों में सैकड़ों बच्चों को भुखमरी का खतरा

काबुल:

अफगानिस्तान में तालिबानी शासन आने के बाद बच्चे भूख से मर रहे हैं, स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय सूत्रों ने शनिवार को चेतावनी दी कि साल के अंत तक वहां दस लाख बच्चों को जानलेवा कुपोषण का सामना करना पड़ सकता है. प्रभावित प्रांतों में से एक घोर में अस्पताल पहुंचने वालों में से कम से कम 17 बच्चों की पिछले छह महीनों में कुपोषण से मौत हो गई है. यह जानकारी प्रांत के जन स्वास्थ्य निदेशक मुल्ला मोहम्मद अहमदी ने दी है. उन्होंने कहा कि भूख के प्रभाव से लगभग 300 का इलाज किया गया है. 

यह भी पढ़ें : तालिबान के सत्ता में आने के बाद अफगानिस्तान में अफीम की कीमतों में उछाल

उन्होंने कहा कि देश के मध्य भागों में सैकड़ों बच्चों को भुखमरी का खतरा है. संयुक्त राष्ट्र ने चेतावनी दी है कि वर्ष के अंत तक अफगानिस्तान में पांच साल से कम उम्र के दस लाख बच्चों को जानलेवा गंभीर कुपोषण के इलाज की आवश्यकता होगी, जबकि अन्य 3.3 मिलियन बच्चे गंभीर कुपोषण से पीड़ित होंगे. अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र बाल एजेंसी के एक प्रवक्ता ने कहा कि वह घोर में मौतों की संख्या की पुष्टि नहीं कर सकते, लेकिन उन्हें डर है कि बहुत सारे बच्चे इसकी कीमत चुका रहे हैं. 

यूनिसेफ के सलाम अल-जनाबी ने कहा कि नेटवर्क बाधित होने की वजह से पहले एजेंसी ठीक से निगरानी कर पाने में सक्षम नहीं था, लेकिन वास्तविक स्थिति यह है कि हम वास्तव में इस तरह का सामना कर रहे हैं. अगस्त के मध्य में तालिबान के सत्ता में आने के बाद से अफगानिस्तान पहले से ही गंभीर मानवीय संकट से जूझ रहा है. सूखे के प्रभाव, खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतों और नौकरी नहीं होने की वजह से सब कुछ ठप सा हो गया है. यहां तक कि अंतरराष्ट्रीय सहायता और वित्त पोषण सहायता में कमी से इसे और जटिल बना दिया गया है. 

First Published : 03 Oct 2021, 09:09:11 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.