News Nation Logo

BREAKING

Banner

डोनाल्ड ट्रंप पर दूसरी बार चलेगा ऐतिहासिक महाभियोग, ये होंगे प्रमुख मसले

ट्रंप के ऊपर महाभियोग चलाना ऐतिहासिक होगा क्योंकि अभी तक किसी भी अमेरिकी राष्ट्रपति पर पद से हटने के बाद महाभियोग नहीं चलाया गया है और हालांकि ट्रंप पर यह दूसरा मौका होगा लेकिन तब ट्रंप राष्ट्रपति के चार्ज पर थे.

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 10 Feb 2021, 08:45:41 AM
Donald Trump

डोनाल्ड ट्रंप (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • क्या ट्रंप इस ऐतिहासिक महाभियोग का सामना करेंगे
  • ट्रंप पहले राष्ट्रपति होंगे जिन पर चार्ज देने के बाद चलेगा महाभियोग
  • ट्रंप के वकीलों ने इसे राजनीतिक ड्रामा करार दिया है

नई दिल्ली:

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर लगे दूसरे महाभियोग का मुकदमा मंगलवार से शुरू हो रहा है. उन पर अमेरिका चुनाव हारने के बाद कैपिटल हिल्स में विद्रोह को भड़काने का आरोप लगा है. आपको बता दें कि ट्रंप के ऊपर महाभियोग चलाना ऐतिहासिक होगा क्योंकि अभी तक किसी भी अमेरिकी राष्ट्रपति पर पद से हटने के बाद महाभियोग नहीं चलाया गया है और हालांकि ट्रंप पर यह दूसरा मौका होगा लेकिन तब ट्रंप राष्ट्रपति के चार्ज पर थे. ट्रंप पर इसी साल 6 जनवरी को अमेरिकी कैपिटल भवन पर हमला करने के लिए अपने समर्थकों को उकसाने का आरोप है. इस दौरान हुई हिंसा में 5 लोगों की मौत हो गई थी और कुछ अधिकारी गंभीर रूप से घायल हो गए थे. ऐसे में ट्रंप के ऊपर दूसरे और ऐतिहासिक महाभियोग के ट्रायल को लेकर लोगों के मन में कई सवाल हैं, और यह भी जानने की जिज्ञासा है कि ये मामला कैसे आगे बढ़ेगा. जैसे- क्या इस ट्रायल के बाद पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को दोषी ठहराया जा सकेगा?

दरअसल, ट्रंप को दोषी ठहराने के लिए जरूरी है कि 100 सदस्यीय वाले चैंबर में कम से कम 67 सीनेटर उनके खिलाफ मतदान करें. चैंबर में डेमोक्रेट्स और रिपब्लिकन के 50-50 सीनेटर हैं, इसमें उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस टाई ब्रेकर हैं. लेकिन इस मामले में उनका ट्रंप के खिलाफ वोट करना भी खास काम नहीं आएगा क्योंकि 26 जनवरी के टेस्ट वोट के दिन केवल 5 रिपब्लिकन सीनेटरों ने उनके खिलाफ मतदान किया. अब भी यदि वे डोनाल्ड ट्रंप को दोषी ठहराने के लिए वोट करें तो भी 67 का जादुयी आंकड़ा छू पाना काफी मुश्किल दिखाई दे रहा है. आइए हम आपको बताते हैं कि किन मामलों को लेकर अमेरिका में यह ऐतिहासिक महाभियोग चलाया जाएगा. 

सबसे पहले ये तय किया जाएगा कि ट्रंप के खिलाफ क्या मामले हैं?
डोनाल्ड ट्रंप के वकीलों ने महाभियोग ट्रायल को राजनीतिक ड्रामा करार दिया है और कहा है कि डेमोक्रेट्स 6 जनवरी को हुए दंगों से राजनीतिक लाभ ले रहे हैं. ट्रंप के वकीलों ने यह भी तर्क दिया है कि सीनेट को महाभियोग ट्रायल नहीं करना चाहिए क्योंकि अब ट्रंप राष्ट्रपति नहीं है. बता दें कि अमेरिका में इतिहास में अब तक किसी राष्ट्रपति को पद छोड़ने के बाद महाभियोग का सामना नहीं करना पड़ा है.

यह भी पढ़ेंःम्‍यामांर में तख्‍तापलट पर अमेरिका ने दी अंजाम भुगतने की धमकी

क्या ट्रंप इस महाभियोग का सामना करेंगे
सबसे बड़ा सवाल ये उठता है कि क्या ट्रंप इस महाभियोग के ट्रायल का सामना करेंगे तो आपको बता दें कि ट्रंप ने महाभियोग के मैनेजर्स के गवाही देने के आग्रह को पहले ही ठुकरा दिया है. आपको बता दें कि ट्रंप 20 जनवरी से ही फ्लोरिडा में हैं. चूंकि ट्विटर उन्हें प्रतिबंधित कर चुका है लिहाजा अब वे प्रेस विज्ञप्ति के जरिए अपनी बात कह रहे हैं.

यह भी पढ़ेंःकृषि कानूनों पर अमेरिका की प्रतिक्रिया पर भारत ने कही ये बड़ी बात

दूसरे महाभियोग के ट्रायल में कितना समय लग सकता है
ट्रंप का पहला महाभियोग ट्रायल 3 सप्ताह तक चला था लेकिन इस बार यह तेजी से होगा क्योंकि मामले से जुड़े ज्यादातर सबूत पहले से ही सार्वजनिक तौर पर सामने आ चुके हैं. साथ ही बाइडेन प्रशासन अपने 1.9 ट्रिलियन डॉलर के कोविड-19 राहत पैकेज को जल्दी लाना चाहता है और इसके लिए मंत्रिमंडल के उम्मीदवारों की पुष्टि की जानी बाकी है. लेकिन महाभियोग का मुकदमा शुरू होने के बाद कोई भी काम आगे नहीं बढ़ सकता है, लिहाजा इस कार्रवाई को जल्दी पूरा करने की कोशिश की जाएगी.

यह भी पढ़ेंःPM नरेंद्र मोदी ने की अमेरिका के राष्ट्रपति से फोन पर बात तो एक्टर प्रकाश राज ने किया ये Tweet

जानिए क्या कहते हैं पोल्स
नए एपी पोल में ज्यादातर अमेरिकियों को लगता है कि कैपिटल में हुए विद्रोह के लिए ट्रंप कुछ हद तक दोषी हैं लेकिन वे इस बात पर एकमत नहीं है कि क्या सीनेट को उन्हें दोषी ठहराने के लिए वोट देना चाहिए. रविवार को जारी हुए एबीसी न्यूज/इप्सोस पोल से पता चलता है कि 56 प्रतिशत अमेरिकी ट्रंप को दोषी मानते हुए सीनेट का समर्थन करते हैं. 10 में से 9 डेमोक्रेट उन्हें ऑफिस में वर्जित करना चाहते हैं जबकि 10 में से 8 रिपब्लिकन इसके विरोध में हैं.

First Published : 10 Feb 2021, 08:41:00 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.