News Nation Logo

तालिबान ने पहले तोड़ी बामियान प्रतिमाएं, अब दावा अवशेषों के संरक्षण का

तालिबान ने 2001 में छठी शताब्दी की प्रतिष्ठित बुद्ध प्रतिमाओं को नष्ट कर दिया था, जिससे दुनिया भर में आक्रोश फैल गया था. लेकिन अब वही तालिबान बौद्ध अवशेषों के रक्षक बनने का दावा कर रहा है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 07 Oct 2021, 11:31:23 AM
Bamiyan

नया तालिबान हर रोज कर रहा है नए-नए दावे. अब बामियान के संरक्षण पर जोर. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • तालिबान ने 2001 में छठी शताब्दी की प्रतिष्ठित बुद्ध प्रतिमाओं को नष्ट किया
  • उस समय प्रतिमा तोड़ने वाले मुल्ला अखुंद हैं अब तालिबान सरकार में प्रधानमंत्री
  • तालिबान दावा कर रहा है अब बामियान अवशेषों की सुरक्षा करने का दावा

काबुल:

तालिबान ने 2001 में छठी शताब्दी की प्रतिष्ठित बुद्ध प्रतिमाओं को नष्ट कर दिया था, जिससे दुनिया भर में आक्रोश फैल गया था. लेकिन अब वही तालिबान बौद्ध अवशेषों के रक्षक बनने का दावा कर रहा है. तालिबान का कहना है कि वह बौद्ध अवशेषों को सुरक्षित करेंगे, जो पर्यटकों को बामियान तक आकर्षित करेगा, जो कि प्रसिद्ध सालंग दर्रे में पड़ता है और अफगानिस्तान के बाकी हिस्सों से अलग है. बामियान के सूचना और संस्कृति निदेशालय के प्रमुख मौलवी सैफ-उल-रहमान मोहम्मदी ने सरकारी एरियाना समाचार को बताया, 'बामियान में एक इस्लामिक अमीरात के अधिकारी के रूप में मैं अपने प्रांत के इन अमूल्य और ऐतिहासिक स्मारकों को संरक्षित करने की पूरी कोशिश कर रहा हूं. स्थानीय और विदेशी पर्यटक बामियान के ऐतिहासिक स्थलों और बुद्ध प्रतिमाओं के लिए यात्रा कर सकते हैं.'

अब दे रहा पहले के विध्वंस पर यह तर्क
लेकिन यहां सवाल खड़ा होता है कि फिर तालिबान ने 2001 में बामियान में स्थित ऐतिहासिक बुद्ध प्रतिमाओं को क्यों नष्ट किया. मोहम्मदी ने हालांकि पिछले फैसले को सही ठहराते हुए कहा कि उन्होंने 2001 में धार्मिक विचारधारा के आधार पर इन्हें नष्ट कर दिया था. उन्होंने कहा, 'इस्लामिक अमीरात ने उस समय (2001) जल्दबाजी में कोई निर्णय नहीं लिया था, बल्कि इसकी समीक्षा की गई थी और इस्लामी कानूनों के आधार पर शोध किया गया और फिर उन्होंने उन्हें नष्ट किया गया था.' बामियान में 2001 का विनाश, अफगानिस्तान की ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत के खिलाफ अब तक का सबसे भयंकर हमला है, जो हाल के उथल-पुथल की अवधि के दौरान हुआ है, जो देश में अप्रैल 1978 के कम्युनिस्ट तख्तापलट के साथ शुरू हुई अवधि से गुजरा है.

यह भी पढ़ेंः अंशु मलिक वर्ल्ड चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनीं

तोड़ने वाले मुल्ला अखुंद हैं तालिबान सरकार में पीएम
विडंबना यह है कि तालिबान के संस्थापक मुल्ला उमर के आदेश को अंजाम देने वाले मुल्ला हसन अखुंद अब नई तालिबान सरकार के प्रधानमंत्री हैं. वही आदमी अब अफगानिस्तान की सभी प्राचीन धरोहरों की रक्षा करने का वादा कर रहा है. काबुल के लिए लड़ाई के दौरान, जो 15 अगस्त को समाप्त हुई थी, समूह ने अपने लड़ाकों से अवशेषों को 'मजबूत रूप से संरक्षित, निगरानी और संरक्षित' करने, अवैध खुदाई को रोकने और 'सभी ऐतिहासिक स्थलों' की रक्षा करने के लिए कहा है. उन्होंने कला बाजार में कलाकृतियों की बिक्री पर रोक लगा दी है. उनके बयान में कहा गया है, 'किसी को भी ऐसी साइटों पर परेशानी खड़ी करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए या लाभ के लिए उनका उपयोग करने के बारे में नहीं सोचना चाहिए.'

3 हजार साल पुराना है अफगानिस्तान का इतिहास
चीनी, भारतीय और यूरोपीय सभ्यताओं के चौराहे पर स्थित अफगानिस्तान 3,000 साल पहले के सांस्कृतिक इतिहास के लिए जाना जाता था. अफगानिस्तान वह गंतव्य है, जहां से बौद्ध धर्म चीन में फैला था. इसके साथ ही यह वह पवित्र भूमि है, जहां 7वीं शताब्दी ईस्वी में इस्लाम के आगमन से पहले और बाद में, पारसी धर्म, ईसाई धर्म, यहूदी धर्म और हिंदू धर्म फला-फूला. बामियान में बुद्ध प्रतिमाओं एवं उनके बचे अवशेषों के अलावा, पूरी बामियान घाटी प्राचीन पुरातात्विक अवशेषों से भरी हुई है, जिनमें से कुछ को तालिबान लड़ाकों ने इस साल अगस्त में काबुल के पतन के बाद चुरा लिया था. यह क्षेत्र तालिबान द्वारा सताए गए शिया अल्पसंख्यक हजाराओं का गढ़ भी है. अगस्त के मध्य में तालिबान लड़ाकों ने एक हजारा नेता अब्दुल अली मजारी की एक प्रतिमा को उड़ा दिया था, जिसे उन्होंने 1995 में मार डाला था.

यह भी पढ़ेंः भारत की सरजमीं से अमेरिका की चीन को दो टूक, आर्थिक दादागीरी नहीं चलेगी

अब धरोहरों को सहेजने का कर रहा प्रयास
अब सत्ता में वापसी करने वाले तालिबान ने एक बहुत ही अलग तरह का शासक होने का वादा किया है. उन्होंने काबुल में राष्ट्रीय संग्रहालय के बाहर गार्ड तैनात किए हैं, लेकिन पूरे देश में कई अन्य संग्रहालय हैं, साथ ही हेरात के पुराने शहर जैसे स्थल भी हैं. अब तक तालिबान दोहा में किए गए वादों का पालन नहीं कर रहा है, जिसमें मुख्य रूप से मानव अधिकारों, महिलाओं के अधिकारों और शिक्षा और समावेशी सरकार का संरक्षण शामिल है. अफगानिस्तान की राष्ट्रीय विरासत को संरक्षित करने के लिए जिम्मेदार कई पुरातत्वविद और क्यूरेटर पहले ही देश छोड़ चुके हैं. ऐसी आशंका है कि तालिबान सरकार समकालीन कलाकारों को काम नहीं करने देगी.

First Published : 07 Oct 2021, 11:31:23 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो