logo-image
लोकसभा चुनाव

UP International Trade Show 2023: आज दिल्ली-नोएडा के ये रूट रहेंगे बंद, मेट्रो का समय भी बदला

UP International Trade Show 2023: प्रशासन की तरफ से जारी ट्रैफिक एडवाइजरी के अनुसार दिल्ली मेट्रो की एक्वा लाइन की टाइमिंग बदल दी गई है. जबकि रास्तों पर वाहनों के आवागमन को पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है

Updated on: 21 Sep 2023, 08:53 AM

New Delhi:

UP International Trade Show 2023: उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा स्थित एक्सपो मार्ट में आज यूपी इंटरनेशनल ट्रेड शो 2023 का आयोजन हो रहा है. 25 सितंबर तक चलने वाले इस ट्रेड शो का उद्घाटन राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू करेंगी. राष्ट्रपति मुर्मू आज शाम करीब चार बजे ग्रेटर नोएडा पहुंचेंगी, जिसके लिए प्रशासन लेवल पर बड़े लेवल इंतजाम किए गए हैं. इसके लिए कई मार्गों पर रूट बदल दिए गए हैं. प्रशासन की तरफ से जारी ट्रैफिक एडवाइजरी के अनुसार दिल्ली मेट्रो की एक्वा लाइन की टाइमिंग बदल दी गई है. जबकि रास्तों पर वाहनों के आवागमन को पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है.

यह खबर भी पढ़ें- Weather Update: दिल्ली में फिर चढ़ा मौसम का पारा, आज इन राज्यों में बरसेंगे मेघ

यूपी इंटरनेशल ट्रेड शो 2023 के चलते जिन मार्गों पर वाहनों के आवागमन को पूरी तरह से प्रतिबंधित रखा गया है, उनमें डीएनडी, न्यू अशोक नगर, दिल्ली बॉर्डर से चिल्ला,  कोंडली, परीचौक, झुण्डपुरा, नॉलेज पार्क, यमुना एक्सप्रेस-वे और नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे शामिल हैं. हालांकि इस दौरान अति-आवश्यक सेवाओं से जुड़े वाहनों को छूट रहेगी. वहीं, नोएडा व ग्रेटर नोएडा के बीच चलने वाली एक्वा लाइन मेट्रो के समय में भी बदलाव किया गया है. एक्वा लाइन में मेट्रो ट्रेन का संचालन आज हर साढ़े सात मिनट के अंतराल से किया जाएगा. इस दौरान मेट्रो ट्रेन की फ्रीक्वेंसी को भी बढ़ाया गया है. आपको बता दें कि सामान्य दिनों में एक्वा लाइन पर मेट्रो का संचालन हर 15 से 20 मिनट के अंतराल पर होता है. 

यह खबर भी पढ़ें- Petrol Diesel Price Today: देश में आज इस भाव मिल रहा पेट्रोल और डीजल, देखें नई रेट

नोएडा मेट्रो रेल कार्पोरेशन के एमडी डॉ. लोकेश एम ने जानकारी देते हुए बताया कि एनएमआरसी की तरफ से यूपी इंटरनेशनल ट्रेड शो के लिए खास इंतजाम किए गए हैं. इस रूट पर आज यानी 21 सितंबर से 25 सितंबर तक मेट्रो ट्रेन का संचालन साढ़े सात मिनट के अंतराल से किया जाएगा. क्योंकि प्लेटफॉर्म पर यात्रियों की भीड़ न हो, इसलिए ट्रेनों की फ्रीक्वेंसी को भी बढ़ाया गया है.