News Nation Logo

रात 10 बजे के बाद TTE नहीं चेक कर सकता है आपका ट्रेन टिकट, क्या कहता है नियम

Indian Railway-IRCTC: सफर के दौरान ट्रैवल टिकट एग्जामिनर (TTE) यात्री के ट्रेन टिकट की जांच करता है लेकिन कई बार रात में यात्री को जागकर ट्रेन टिकट और पहचान पत्र दिखाना पड़ जाता है.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 03 Dec 2021, 09:00:55 AM
Indian Railway-IRCTC

Indian Railway-IRCTC (Photo Credit: IANS)

highlights

  • TTE सुबह 6 बजे से रात 10 बजे के बीच ही ट्रेन टिकट का वैरिफिकेशन कर सकता है
  • रात 10 बजे के बाद सफर करने वाले यात्रियों के लिए यह नियम लागू नहीं होता है

नई दिल्ली:  

Indian Railway-IRCTC: भारत में आवागमन के लिए रेलवे (Railway) एक बहुत बड़ा जरिया है. भारतीय रेल (Indian Rail) के नेटवर्क को दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क माना जाता है. जहां तक ट्रेन में सफर की बात है तो हर कोई चाहता है कि उनका सफर आरामदायक हो, लेकिन टिकट चेकिंग, शोर और सीट के लिए यात्रियों की आवाजाही से लोगों को कुछ दिक्कत भी होती है. क्या आपको इस बात की जानकारी है कि सोते समय आपका टिकट चेक नहीं किया जा सकता है. जी हां रेलवे के नियमों के मुताबिक यात्री के सोने के समय टिकट एग्जामिनर (TTE) टिकट चेक नहीं कर सकता है. आज की इस रिपोर्ट में हम इन नियमों के बारे में जानने की कोशिश करते हैं.  

यह भी पढ़ें: इस दिन किसानों के खाते में जमा हो जाएंगे 4000 रुपए, ऐसे चैक करें डिटेल्स

रात 10 बजे के बाद सफर करने वाले यात्रियों पर नहीं लागू होगा नियम

सफर के दौरान ट्रैवल टिकट एग्जामिनर (TTE) यात्री के ट्रेन टिकट की जांच करता है लेकिन कई बार रात में यात्री को जागकर ट्रेन टिकट और पहचान पत्र दिखाना पड़ जाता है. आपको बता दें कि रेलवे के नियमों के मुताबिक रात 10 बजे के बाद TTE यात्री को डिस्टर्ब नहीं कर सकता है. नियमों के मुताबिक TTE सुबह 6 बजे से रात 10 बजे के बीच ही ट्रेन टिकट का वैरिफिकेशन कर सकता है. TTE किसी भी यात्री को रात में सोने के बाद डिस्टर्ब नहीं कर सकते हैं. रेलवे बोर्ड ने इसको लेकर गाइडलाइन बनाई हुई है. हालांकि रात 10 बजे के बाद सफर करने वाले यात्रियों के लिए रेलवे बोर्ड का यह नियम लागू नहीं होता है. अगर कोई यात्री रात 10 बजे के बाद ट्रेन में सफर शुरू करता है तो TTE उसके टिकट और आईडी की जांच कर सकता है.

यह भी पढ़ें: DL, RC नहीं हुए रिनुअल तो भी रहें टेंशन फ्री, RTO ने इन लोगों को दी छूट

मिडिल बर्थ को लेकर नियम

अक्सर देखने में आता है कि ट्रेन शुरू होने पर ही यात्री मिडिल बर्थ को खोल लेते हैं जिसकी वजह से लोअर बर्थ वाले यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है. रेलवे के नियमों के मुताबिक मिडिल बर्थ वाले यात्री रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक ही अपनी बर्थ पर सो सकते हैं. मतलब यह कि अगर कोई यात्री रात 10 बजे से पहले मिडिल बर्थ खोलना चाहता है तो आप उसे रोक सकते हैं. वहीं सुबह 6 बजे के बाद मिडिल बर्थ को नीचे कराया जा सकता है.

First Published : 03 Dec 2021, 08:59:33 AM

For all the Latest Utilities News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.