News Nation Logo
Banner

अगर आप आज बैंकों से जुड़े कामकाज निपटाने जा रहे हैं तो यह खबर एक बार जरूर पढ़ लीजिए

Nationwide Strike 26 Nov 2020: भारतीय मजदूर संघ को छोड़कर दस केंद्रीय श्रमिक संघों ने केंद्र सरकार की विभिन्न नीतियों के खिलाफ आज आम हड़ताल का आह्वान किया है.

Written By : बिजनेस डेस्क | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 26 Nov 2020, 08:51:16 AM
Nationwide Strike 26 Nov 2020: Banks

Nationwide Strike 26 Nov 2020: Banks (Photo Credit: newsnation)

नई दिल्ली:

Nationwide Strike 26 Nov 2020: अगर आप आज यानि गुरुवार (26 नवंबर 2020) को बैंकों से जुड़े जरूरी काम काज को निपटाने की योजना बना रहे हैं तो एक बार यह खबर जरूर पढ़ लीजिए. दरअसल, केंद्रीय श्रमिक संगठनों की एक दिन की राष्ट्रव्यापी हड़ताल के चलते आज देशभर में बैंकों (Banks) का कामकाज प्रभावित होने के आसार हैं. भारतीय मजदूर संघ को छोड़कर दस केंद्रीय श्रमिक संघों ने केंद्र सरकार की विभिन्न नीतियों के खिलाफ आज आम हड़ताल का आह्वान किया है.

यह भी पढ़ें: 15 जनवरी से लैंडलाइन से मोबाइल पर कॉल करने के लिए '0' लगाना होगा

भारतीय बैंक कर्मचारी महासंघ भी हड़ताल में शामिल 
आईडीबीआई बैंक और बैंक ऑफ महाराष्ट्र समेत कई बैंकों ने शेयर बाजारों से कहा है कि हड़ताल के चलते उनके कार्यालयों और शाखाओं में कामकाज बाधित हो सकता है. अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए), अखिल भारतीय बैंक अधिकारी संघ (एआईबीओए) और भारतीय बैंक कर्मचारी महासंघ ने भी हड़ताल में शामिल होने की घोषणा की है. एआईबीईए ने एक बयान में कहा कि कारोबार सुगमता के नाम पर लोकसभा ने हाल में तीन नए श्रम कानून पारित किए हैं. यह पूरी तरह से कॉरपोरेट के हित में है. करीब 75 प्रतिशत कर्मचारियों को श्रम कानूनों के दायरे से बाहर कर दिया गया है और नए कानूनों के तहत उनके पास कोई विधिक संरक्षण नहीं है.

यह भी पढ़ें: अटल पेंशन योजना में कैसे करें निवेश, जानिए इस साल कितने लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन

एआईबीईए, भारतीय स्टेट बैंक और इंडियन ओवरसीज बैंक के कर्मचारियों को छोड़कर लगभग सभी बैंक कर्मचारियों का प्रतिनिधित्व करने वाली संस्था है. विभिन्न सरकारी और निजी क्षेत्र के पुराने बैंकों समेत कुछ विदेशी बैंकों के कर्मचारी एआईबीईए के सदस्य हैं. बैंक कर्मचारियों के विरोध प्रदर्शन की वजह बैंकों का निजीकरण और क्षेत्र में विभिन्न नौकरियों को आउटसोर्स करना या संविदा पर करना है. इसके अलावा बैंक कर्मचारियों की मांग क्षेत्र के लिए पर्याप्त संख्या में कर्मचारियों की भर्ती करना और बड़े कॉरेपोरेट ऋण चूककर्ताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करना भी है. बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने शेयर बाजार से कहा कि यदि हड़ताल प्रभावी रहती है तो बैंक शाखाओं और कार्यालयों में सामान्य कामकाज प्रभावित हो सकता है.

First Published : 26 Nov 2020, 08:26:59 AM

For all the Latest Utilities News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.