News Nation Logo

Indian Railway: अब यात्री कर सकेंगे चमचमाती रेल में सफर, रेलवे ने बढ़ाई ये सुविधा

News Nation Bureau | Edited By : Sunder Singh | Updated on: 11 Feb 2022, 05:17:19 PM
train

file photo (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • रेलवे विश्व स्तरीय सेवा देने के लिए सुविधाओं में कर रहा इजाफा
  • रेल को साफ-सुथरी बनाने के लिए ऑटोमेटिक कोच वॉशिंग प्लांट की शुरुवात 

नई दिल्ली :  

Indian Railway अपनी सेवाओं को विश्वस्तरीय बनाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है. यात्रियों को आरामदायक व चमचमाती रेल में सफर करने का अवसर मिले इसलिए ऑटोमेटिक कोच वॉशिंग प्लांट में इजाफा कर दिया है. बताया जा रहा है कि मेट्रो की तर्ज पर रेल भी भारतीय रेल भी पूरी तरह क्लीन दिखेगी. जिससे यात्रियों को साफ-सुथरी ट्रेन में सफर करने का मौका मिलेगा. आपको बता दें कि परंपरागत धुलाई के तरीकों से इसमें उस स्तर की साफ-सफाई नहीं मिल पाती, जिस स्तर की अब जरूरत है. इसी को ध्यान में रखते हुए रेलवे अब देश के अलग-अलग हिस्सों में ऑटोमेटिक कोच वॉशिंग प्लांट लगा रही है. ताकि ट्रेनों की कम से कम समय में बढ़िया से बढ़िया सफाई की जा सके. 

यह भी पढ़ें : Indian Railway का बड़ा फैसला, इन 8 सेवाओं को मिलाकर बनाया एक

पहला प्लांट लगाया गया
जानकारी के मुताबिक रेलवे ने  दक्षिण पूर्व रेलवे (South Eastern Railways) जोन में इस तरह का पहला ऑटोमेटिक कोच वॉशिंग प्लांट (Automatic Coach Washing Plant) लगाया गया है. जिससे बिना हाथ लगाए Automatic रेल की पूरी धुलाई हो जाएगी. साथ ही पानी सोखने की तकनीक भी मशीन में विकसित की गई है. यही नहीं पूरी रेल की धुलाई इस प्लांट के माध्यम से महज 15 मिनट में हो जाएगी. आपको बता दें कि ये दक्षिण पूर्व रेलवे जोन का पहला ऑटोमेटिक कोच वॉशिंग प्लांट है. बता दें कि ऑटोमेटिक कोच वॉशिंग प्लांट के कई फायदे हैं. ऑटोमेटिक कोच वॉशिंग प्लांट के जरिए 24 बोगियों वाली ट्रेन की सिर्फ 10 से 15 मिनट में जबरदस्त धुलाई हो जाती है. 

यह वॉशिंग प्लांट में डिब्बों के टॉयलेट के निचले हिस्सों को साफ करने के साथ-साथ कीटाणुरहित भी किया जा सकता है, जबकि परंपरागत सफाई में ऐसा नहीं हो पाता है. बता दें कि भारतीय रेल अभी तक देश के कई रेलवे स्टेशनों पर इस तरह का ऑटोमेटिक कोच वॉशिंग प्लांट लगा चुकी है. भारतीय रेल की कोशिश है कि जल्द से जल्द पूरे देश में इस तरह के वॉशिंग प्लांट लगाए जाएं ताकि ज्यादा से ज्यादा पानी, समय और मैनपावर की बचत की जा सके. रेलवे के प्लान के मुताबिक सबसे पहले उन रेलवे स्टेशनों पर वॉशिंग प्लांट लगाए जाएंगे, जहां ज्यादा ट्रेनों का लोड रहता है.

First Published : 11 Feb 2022, 05:14:34 PM

For all the Latest Utilities News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.