News Nation Logo
Banner

खुशखबरी, अब विदेश से भेजी गई रकम आपके बैंक अकाउंट में सीधे हो सकेगी जमा

आरबीआई (RBI) से मंजूरी मिलने के बाद फिनो पेमेंट्स बैंक (Fino Payments Bank) किसी भी विदेशी वित्तीय संस्थान के सहयोग में सीमापार से मनी ट्रांसफर जैसी गतिविधियां कर सकेगा.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 04 Jan 2022, 01:18:36 PM
Banks

Banks (Photo Credit: NewsNation)

highlights

  • धन अंतरण सेवा योजना के तहत विदेश से भेजी गई राशि को स्वीकार करने की मंजूरी
  • मंजूरी मिलने के बाद कस्टमर्स को विदेश से भेजी गई रकम को पाने में सहूलियत होगी

नई दिल्ली:  

अगर आपका बैंक अकाउंट (Bank Account) फिनो पेमेंट्स बैंक (Fino Payments Bank) में है तो अब आपके अकाउंट में विदेश से भेजी गई रकम (Remittance) भी जमा हो सकेगी. भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India-RBI) की ओर से फिनो पेमेंट्स बैंक को अंतर्राष्ट्रीय मनी ट्रांसफर सेवा की मंजूरी मिलने के बाद इसका रास्ता साफ हो गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रिजर्व बैंक ने फिनो पेमेंट्स बैंक को धन अंतरण सेवा योजना (Money Transfer Service Scheme-MTSS) के तहत विदेश से भेजी गई राशि को स्वीकार करने की मंजूरी दे दी है.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार बेटियों को दे रही है 51,000 रुपये का तोहफा, जानिए कैसे उठाएं फायदा

आरबीआई से मंजूरी मिलने के बाद फिनो पेमेंट्स बैंक किसी भी विदेशी वित्तीय संस्थान के सहयोग में सीमापार से मनी ट्रांसफर जैसी गतिविधियां कर सकेगा. फिनो पेमेंट्स बैंक का कहना है कि उसके कस्टमर्स का एक हिस्सा दूसरे देशों में रहने वाले भारतीय परिवारों से संबंधित है. इस सेवा को मंजूरी मिलने के बाद कस्टमर्स को विदेश से भेजी गई रकम को पाने में सहूलियत होगी.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक फिनो पेमेंट्स बैंक के मुख्य परिचालन अधिकारी आशीष आहूजा का कहना है कि वित्त वर्ष 2022-23 की पहली तिमाही से विदेश से भेजी गई रकम पाने की सुविधा ग्राहकों को मिलने लग जाएगी. उनका कहना है कि मोबाइल ऐप पर भी इस सुविधा को लाने की कोशिश की जाएगी. उनका कहना है कि केरल, गुजरात, पंजाब, उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों में इस सुविधा का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर हो सकता है.

First Published : 04 Jan 2022, 01:14:12 PM

For all the Latest Utilities News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.