logo-image
लोकसभा चुनाव

Diwali Offer: online ऑफर आपको भी बना सकते हैं कंगाल, दिवाली पर सक्रिय हुए ठग

Diwali Offer fraud: इन दिनों दिवाली शॅापिंग (Diwali Shopping) का टाइम चल रहा है. हर कोई व्यक्ति दिवाली की खरीददारी में व्यस्त है. दुकान पर जाकर खरीददारी करने बजाय लोग ऑनलाइन शॅापिंग (online shopping)को ज्यादा पसंद कर रहे हैं.

Updated on: 11 Oct 2022, 12:44 PM

highlights

  • दिवाली के मौके पर जमकर की जाती है online शॅापिंग
  • साइबर सेल में अभी से आने लगी online फ्रॅाड शिकायतें 

 

नई दिल्ली :

Diwali Offer fraud: इन दिनों दिवाली शॅापिंग (Diwali Shopping) का टाइम चल रहा है. हर कोई व्यक्ति दिवाली की खरीददारी में व्यस्त है. दुकान पर जाकर खरीददारी करने बजाय लोग ऑनलाइन शॅापिंग (online shopping)को ज्यादा पसंद कर रहे हैं. सोशल साइटों पर दिवाली ऑफर (Diwali Offer)की भरमार है. पर क्या आपको पता है एक गलत क्लिक आपको कंगाल बना सकता है. साइबर सेल से मिली जानकारी के मुताबिक इन दिनों डिजिटली ठग पूरी तरह सक्रिय हैं. ठग ग्राहकों की छोटी सी गलती का इंतजार करते रहते हैं. इसी लिए बार-बार कॅाल कर या नोटिफिकेशन भेज लुभावने ऑफर आपको दे रहे हैं.

यह भी पढ़ें : पेट्रोल-डीजल के दिन खत्म, आज लॅान्च होगी पहली fuel flex car

आपको बता दें कि बैंक फ्रॅाड करने वाले सिर्फ ऑनलाइन शॉपिंग ही नहीं, बल्कि बैंक लोन प्रोसेस, डिस्काउंट और कैशबैक ऑफ़र भी आपसे चोरी के बहाने के रूप में यूज किए जा सकते हैं. जिससे आपको भारी नुकसान होने की संभावना है. जानकारी के लिए बता दें किनऑनलाइन मौजूद बैंकों, ई-कॉमर्स और अन्य कंपनियों की इतनी सारी फर्जी वेबसाइटें हैं, जो लगभग असली दिखती हैं. बहुत से लोग अक्सर नकली वेबसाइटों के प्रस्तावों के लालच में आ जाते हैं और साइबर अपराधियों को बड़ी रकम का भुगतान करते हैं. त्यौहारी मौसम में दर्जनों फर्जी वेबसाट मार्केट में हैं. जो आपको लुभावने लालच में फंसा सकती है. 

ये बचाव का तरीका 
अविश्वसनीय रूप से अच्छे ऑफर्स के साथ कॉल करने वाले अजनबियों से बात न करें. ये ऑफर आमतौर पर हमेशा नकली होते हैं. फोन, एसएमएस, सोशल मीडिया या यहां तक ​​कि ईमेल पर भी अपनी व्यक्तिगत जानकारी किसी के साथ साझा न करें. किसी भी हालत में आपको अपना यूजर नेम, पासवर्ड और ओटीपी किसी भी अजनबी के साथ साझा नहीं करना चाहिए. किसी भी शॉपिंग कंपनी का लिंक खोजने के लिए गूगल सर्च पर न जाएं. टॉप पर आने वाला सर्च रिजल्ट नकली हो सकता है. वह असली के रूप में मुखौटा हो सकता है. आपके फोन पर कोई अनजान ओटीपी आए तो उसे किसी अनजान व्यक्ति से साझा न करें. वहना कब आपकी मेहनत कमाई पर डाका डल जाए आपको पता भी नहीं चलेगा.