News Nation Logo

BREAKING

Banner

News State की खबर का असर, प्रतापगढ़ के CMO ने अस्पताल को बंद करने का दिया आदेश

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में लगातार कोरोना वायरस अपना पैर पसारता जा रहा है. जिले में अबतक कोविड-19 से 4 लोगों की मौत हो चुकी है. प्रतापगढ़ में कोरोना से बुजुर्ग महिला की मौत के मामले को न्यूज स्टेट ने प्राथमिकता से उठाया तो प्रशासन में हड़कंप मच गया

Written By : सुनील सोमवंशी | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 04 Jun 2020, 12:00:38 AM
cmo

सीएमओ एके श्रीवास्तव (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली:

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में लगातार कोरोना वायरस अपना पैर पसारता जा रहा है. जिले में अबतक कोविड-19 से 4 लोगों की मौत हो चुकी है. प्रतापगढ़ में कोरोना से बुजुर्ग महिला की मौत के मामले को न्यूज स्टेट ने प्राथमिकता से उठाया तो प्रशासन में हड़कंप मच गया. इसके बाद आनन-फानन में सीएमओ एके श्रीवास्तव ने रूमा हॉस्पिटल को 24 घंटे तक के लिए बंद करने का आदेश जारी कर दिया.

यह भी पढ़ेंः प्रतापगढ़ में युवक को जिंदा जलाकर मार डाला, लोगों ने पुलिस की गाड़ियां फूंकी

न्यूज स्टेट में खबर चलते ही जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया. सीएमओ एके श्रीवास्तव ने 24 घंटे तक के लिए रूमा हॉस्पिटल को बंद करने का फरमान जारी कर दिया. उन्होंने कहा कि हॉस्पिटल में भर्ती हुई महिला का फ्लोर सील किया जाएगा. पूरे हॉस्पिटल को गुरुवार को सैनेटाइज किया जाएगा. अब हॉस्पिटल में तैनात स्वास्थ्य कर्मचारियों का भी कोरोना टेस्ट होगा.

सीएमओ ने कहा कि महिला की मौत के बाद कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. मृतक महिला के पूरे परिवार की कोरोना की जांच होगी. अब महिला के अंतिम दर्शन में शामिल हुए लोगों को चिन्हित किया जाएगा. वहीं, शहर में कोरोना केस मिलने से स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मचा हुआ है. बता दें कि प्रतापगढ़ में कोरोना से संक्रमित 80 साल की बुर्जुग महिला ने मंगलवार को दम तोड़ दिया था. परिजनों ने देर रात महिला का अंतिम संस्कार किया था. इस दौरान भारी संख्या में लोग एकत्रित हुए थे. रूमा नर्सिंग होम में इलाज के बाद महिला को जिला अस्पताल रेफर किया गया था, जहां उसकी मौत हो गई.

यह भी पढ़ेंः कोरोना के डर से परिवार वालों ने सड़क पर ही छोड़ दिया घरवाले का शव

महिला के इलाज में जिला स्वास्थ्य महकमे ने बड़ी लापरवाही बरती है. स्वास्थ्य महकमे ने महिला का कोरोना सैंपल लेने के बाद भी परिजनों को आगाह नहीं किया था. मौत के बाद महिला का शव परिजनों को सौंप दिया गया था. अब सबसे बड़ सवाल यह है कि स्वास्थ्य विभाग ने पहले ही महिला की कोविड-19 टेस्ट क्यों नहीं कराया. अगर पहले ही महिला का कोरोना टेस्ट हो जाता तो शायद आज महिला जिंदा रहती.

First Published : 03 Jun 2020, 11:48:19 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो