News Nation Logo
Banner

बद्रीनाथ से मिट्टी और जल, सीतामढ़ी के 5 मंदिरों से राम मंदिर भूमि पूजन के लिए भेजी गई मिट्टी

अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन 5 अगस्त को होगा. पीएम नरेंद्र मोदी भी अयोध्या जाएंगे. राम मंदिर निर्माण के लिए अलग-अलग जगहों से मिट्टी और पवित्र जल आ रहा है.

News Nation Bureau | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 27 Jul 2020, 07:59:30 PM
demo photo

सीतामढ़ी के 5 मंदिरों से राम मंदिर भूमि पूजन के लिए भेजी गई मिट्टी (Photo Credit: प्रतिकात्मक फोटो)

नई दिल्ली :

अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन 5 अगस्त को होगा. पीएम नरेंद्र मोदी भी अयोध्या जाएंगे. राम मंदिर निर्माण के लिए अलग-अलग जगहों से मिट्टी और पवित्र जल आ रहा है. राम मंदिर निर्माण के लिए बद्रीनाथ की मिट्टी तथा अलकनंदा नदी का जल सोमवार को अयोध्या भेजा गया.

राम मंदिर के शिलान्यास के लिए प्रतीकात्मक रूप से बद्रीनाथ धाम की पवित्र मिट्टी और अलकनंदा नदी के जल से भरा कलश बद्रीनाथ मंदिर परिसर में आयोजित कार्यक्रम के बाद मंदिर के सिंहद्वार से अयोध्या ले जाया गया. यह जल कलश और मिट्टी यहां से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, विश्व हिंदू परिषद के स्वयं सेवक और भाजपा कार्यकर्ता अयोध्या पहुंचायेंगे. इस कार्यक्रम से जुड़े सदस्यों ने बताया कि उत्तराखंड के चारों धामों से सामूहिक रूप से जल एकत्रित कर हरिद्वार लाया जाएगा और वहां से 29 जुलाई को अयोध्या ले जाया जायेगा.

इसे भी पढ़ें:अब चीन-पाक की खैर नहीं, Indian Airfore के बेड़े में इस दिन शामिल होगा राफेल लड़ाकू विमान

इसके साथ ही राम मंदिर के शिलान्यास के लिए मां जानकी की प्राकट्य स्थली सीतामढ़ी से भी मिट्टी भेजी गई है. सीतामढ़ी के जानकी मंदिर, पुणौरा धाम, हलेश्वर स्थान और पंथपाकर धाम बगही मठ से मिट्टी भेजी गई.जानकी जन्मोत्सव आयोजन समिति ने अयोध्या में शिलान्यास के दिन सीतामढ़ी में अपने-अपने घरों में महाआरती और दीप जलाने की अपील की है.

इसके अलावा उज्जैन के महाकाल वन से मिट्टी भेजी जाएगी. साथ ही विश्व प्रसिद्व ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर से भस्म भी भेजी जाएगी. इस बात की जानकारी आह्वान अखाड़ा के महामंडलेश्वर आचार्य शेखर ने दी. भस्म और मिट्टी 2 से 3 अगस्त के बीच अयोध्या ले जाया जाएगा.

और पढ़ें:पायलट कैंप के विधायक ने दी चुनौती- गहलोत प्रतिबंध हटाए फिर देखें उनके कितने MLA हमारे पास आते हैं

राम जन्मभूमि ट्रस्ट कार्यालय के प्रभारी प्रकाश कुमार गुप्ता ने बताया कि जबसे मंदिर का फैसला आया है तबसे हमारे पास देश के विभिन्न हिस्सों से डाक द्वारा जल और मिट्टी आ रही है. लगभग 100 जगहों की जल और मिट्टी हम अब तक इकट्ठा कर चुके हैं.

First Published : 27 Jul 2020, 07:58:17 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो