News Nation Logo
Banner

केवल डॉक्टर के पर्चे पर लिखने के बाद ही अब उत्तर प्रदेश में मिलेगी ऑक्सीजन

उत्तर प्रदेश सरकार ने अब ऑक्सीजन खरीदने या सिलेंडर रिफिलिंग के लिए डॉक्टर का पर्चा अनिवार्य कर दिया है.

IANS/News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 23 Apr 2021, 03:14:44 PM
oxygen

अब केवल डॉक्टर के पर्चे पर लिखने के बाद ही मिलेगी ऑक्सीजन (Photo Credit: ANI)

highlights

  • उत्तर प्रदेश में ऑक्सीजन के लिए हाहाकार
  • अब डॉक्टर के पर्चे पर मिलेगी ही ऑक्सीजन
  • उत्तर प्रदेश सरकार ने लिया है फैसला

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश सरकार (UP government) ने अब ऑक्सीजन खरीदने या सिलेंडर रिफिलिंग के लिए डॉक्टर का पर्चा अनिवार्य कर दिया है. अतिरिक्त मुख्य सचिव (सूचना) नवनीत सहगल (Navneet Sehgal) ने कहा कि घरों में ऑक्सीजन सिलेंडर की जमाखोरी पर अंकुश लगाने के लिए यह निर्णय लिया गया है. उन्होंने कहा कि हम ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए लगातार कदम उठा रहे हैं और बढ़ती मांग को पूरा करना संभव नहीं होगा, अगर लोग किसी आपातकालीन स्थिति की आशंका में घर पर ऑक्सीजन (Oxygen) जमा करना शुरू कर दें. ऑक्सीजन अब केवल एक डॉक्टर के पर्चे प्रस्तुत करने पर भी बेचा जाएगा. अगर यह व्हाट्सएप पर भी है, तब भी. ब्लैक-मार्केटिंग न हो, इसके लिए अधिकारियों को ऑक्सीजन भरने वाले केंद्रों पर तैनात किया गया है.

यह भी पढ़ें: LIVE: उत्तर प्रदेश को मिलेगी सांस! ऑक्सीजन लेकर बोकारो से लखनऊ रवाना हुई ट्रेन

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा है कि रिफिलिंग वाले केंद्रों पर पुलिस की भी तैनाती की जानी चाहिए. सहगल ने कहा, राज्य के 31 अस्पताल हवा से ऑक्सीजन बनाने के लिए एक वायु विभाजक स्थापित कर रहे हैं, इस प्रकार ऑक्सीजन की आपूर्ति पर निर्भरता पर अंकुश लगेगा. प्लांट दो सप्ताह में चालू हो जाएगा. केंद्र ने अस्पतालों में वितरण के लिए उत्तर प्रदेश को 1,500 ऑक्सीजन कॉन्सेन्ट्रेटर आवंटित की है.

यह भी पढ़ें: दिल्ली में प्लांट नहीं तो क्या ऑक्सीजन मिलेगी नहीं? प्रधानमंत्री मोदी के साथ बैठक में CM केजरीवाल ने पूछा

प्रत्येक कॉन्सेन्ट्रेटर एक मरीज के लिए है और यह सुनिश्चित करेगी कि उन्हें आगे हस्तक्षेप की आवश्यकता न हो. मुख्यमंत्री ने राज्य में ऑक्सीजन की उपलब्धता की निगरानी के लिए एक नियंत्रण कक्ष स्थापित करने का भी आदेश दिया है. नियंत्रण कक्ष की निगरानी के लिए खाद्य सुरक्षा और औषधि प्रशासन विभाग और गृह विभाग को निर्देशित किया गया है. वे कारखाने जो मेडिकल ऑक्सीजन का निर्माण करते हैं और बंद पड़े हुए हैं, उन्हें भी पुनर्जीवित किया जाएगा. निजी अस्पतालों को भी खुद के ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है.

First Published : 23 Apr 2021, 03:14:44 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.