News Nation Logo
Banner

यूपी: बीजेपी नेताओं पर दर्ज मुकदमे होंगे वापस! मायावती बोलीं- विपक्षी नेताओं पर से भी हटें केस

बहुजन समाज पार्टी ने बीजेपी नेताओं की तरह ही अन्य विपक्षी दलों के खिलाफ दर्ज मुकदमों को भी वापस लेने की मांग की है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 25 Dec 2020, 08:55:44 AM
Mayawati

बसपा अध्यक्ष मायावती (Photo Credit: फाइल फोटो)

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने कई बीजेपी नेताओं के खिलाफ मुजफ्फरनगर दंगे के केस वापस लेने के लिए याचिका दी है. इसमें बीजेपी के तीन विधायक भी शामिल हैं. सितंबर 2013 में नगला मंदोर गांव में आयोजित महापंचायत में भड़काऊ भाषण देने का मामला इनके खिलाफ दर्ज हैं. इस बीच बहुजन समाज पार्टी ने बीजेपी नेताओं की तरह ही अन्य विपक्षी दलों के खिलाफ दर्ज मुकदमों को भी वापस लेने की मांग की है.

यह भी पढ़ें: सूबे के दो करोड़ से अधिक किसानों को मिलेंगे 4,260 करोड़ रुपये

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने ट्वीट किया, 'उत्तर प्रदेश में बीजेपी के लोगों के ऊपर राजनैतिक द्वेष की भावना से दर्ज मुकदमे वापस होने के साथ ही, सभी विपक्षी पार्टियों के लोगों पर भी ऐसे दर्ज मुकदमे भी जरूर वापिस होने चाहिए.' उन्होंने कहा कि यह बहुजन समाज पार्टी की मांग है.

दरअसल, मुजफ्फरनगर दंगों से जुड़े मामले में बीजेपी विधायकों पर दर्ज मुकदमा सरकार ने वापस लेने के लिए अर्जी दी है. कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा, विधायक संगीत सोम और कपिल देव के खिलाफ यह मुकदमे दर्ज हैं. इसमें हिंदूवादी नेता साध्वी प्राची का भी नाम है. सरकार प्रशासन से भिड़ने और ऐहतियाती निर्देशों का पालन न करने का आरोप भी इन नेताओं पर है. सरकारी वकील राजीव शर्मा ने मुजफ्फरनगर की एडीजे कोर्ट में मुकदमा वापसी के लिए याचिका लगाई है.

यह भी पढ़ें: योगी सरकार ने कारागार विभाग के लिए जारी की इतनी धनराशि, दिए ये निर्देश

मुकदमा वापसी की अर्जी पर फिलहाल कोर्ट ने कोई फैसला नहीं दिया है. याचिका पर अभी सुनवाई बाकी है. उल्लेखनीय है कि मुजफ्फरनगर में सचिन और गौरव की हत्या के बाद 7 सितंबर 2013 को नगला मंदोर गांव के इंटर कॉलेज में जाटों ने महापंचायत बुलाई गई थी. इस महापंचायत के बाद एफआईआर दर्ज हुई थी. तीनों नेताओं पर भड़काऊ भाषण, धारा 144 का उल्लंघन, आगजनी, तोड़फोड़ की धाराओं में एफआईआर दर्ज हुई थी. मुजफ्फरनगर दंगों में करीब 65 लोगों की मौत हुई थी, जबकि 40 हजार के ज्यादा लोग दंगों के कारण विस्थापित हुए थे.

First Published : 25 Dec 2020, 08:55:44 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.