News Nation Logo

अमिताभ ठाकुर समेत 3 आईपीएस अफसरों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति, गृह मंत्रालय ने जारी किया आदेश

भ्रष्टाचार और अपराध पर लगाने कसने में लगी उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की योगी सरकार ने अब पुलिस प्रशासन के बड़े अधिकारियों पर चाबुक चलाया है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 23 Mar 2021, 02:56:58 PM
IPS Amitabh Thakur

अमिताभ ठाकुर समेत 3 IPS अफसरों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति, आदेश जारी (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • गृह मंत्रालय की स्क्रीनिंग में आउट हुए UP के तीन IPS
  • अमिताभ ठाकुर समेत 3 IPS अफसरों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति
  • गृह मंत्रालय ने तीनों अफसरों को जबरन रिटायर किया

लखनऊ:

भ्रष्टाचार और अपराध पर लगाने कसने में लगी उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की योगी सरकार ने अब पुलिस प्रशासन के बड़े अधिकारियों पर चाबुक चलाया है. राज्य सरकार ने आज अमिताभ ठाकुर (Amitabh Thakur) समेत 3 आईपीएस अफसरों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी है. आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर को समय से पहले ही रिटायर कर दिया गया है. इनके अलावा आईपीएस राजेश कृष्ण (IPS Rajesh Krishna) और आईपीएस राकेश शंकर (IPS Rakesh Shankar) को जबरन वीआरएस दे दिया गया है. इस संबंध में गृह मंत्रालय की ओर से आदेश जारी किया गया है.

यह भी पढ़ें : होली का रंग कोरोना ने किया फीका, यूपी में पार्टी और अन्य सामूहिक आयोजनों पर रोक 

सरकार की ओर से जारी आदेश के अनुसार, तीनों को सरकारी सेवा के लिए अनुपयुक्त पाया गया है. उपरोक्त तीनों आईपीएस पर गंभीर अनियमितता के आरोप थे. अमिताभ ठाकुर (आईजी रूल्स एवं मैनुअल) के खिलाफ तमाम मामलों में जांचें चल रही थीं. जबकि राजेश कृष्ण (सेनानायक, 10 बटालियन बाराबंकी) पर आजमगढ़ में पुलिस भर्ती में घोटाले का आरोप लगे थे. वहीं राकेश शंकर (डीआईजी स्थापना) देवरिया शेल्टर होम प्रकरण में संदिग्ध भूमिका के आरोप थे.

अखिल भारतीय पुलिस सेवा से जबरिया रिटायर किए जाने पर अमिताभ ठाकुर ने अपनी प्रतिक्रिया भी दी है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'मुझे अभी-अभी VRS (लोकहित में सेवानिवृति) आदेश प्राप्त हुआ. सरकार को अब मेरी सेवाएं नहीं चाहिए. जय हिन्द.' 

यह भी पढ़ें : काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद केस में सामने आया नया मोड़, कोर्ट ने स्वीकार की याचिका

आपको बता दें कि आईपीएस अमिताभ ठाकुर उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के खिलाफ केस दर्ज कराने के बाद से अक्सर चर्चाओं में रहे हैं. वह 1992 बैच के आईपीएस अफसर हैं. अखिलेश यादव सरकार में अनुराग ठाकुर के खिलाफ भी केस दर्ज हुआ था. उन पर आरोप था कि 16 नवम्बर 1993 को आईपीएस की सेवा प्रारंभ करते समय अपनी संपत्ति का ब्यौरा शासन को नहीं दिया गया था. बाद में उन्हें निलंबित कर दिया गया था. फिर अमिताभ ठाकुर ने भी अखिलेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था. इसके बाद अमिताभ ठाकुर ने कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाया गया था. हालांकि कोर्ट के आदेश के बाद उन्हें फिर बहाल किया गया था.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 23 Mar 2021, 02:16:16 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.