News Nation Logo
Banner

गाजियाबाद: नवजात बेटी के साथ ड्यूटी से चर्चा में आईं IAS अफसर सौम्या पांडेय का तबादला

हाल में अपनी नवजात बच्ची के साथ ड्यूटी पर लौटीं आईएएस अधिकारी सौम्या पांडेय एक बार फिर चर्चाओं में आ गई है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 15 Oct 2020, 09:23:33 AM
SDM Saumya Pandey

नवजात बेटी के साथ ड्यूटी से चर्चा में आईं IAS सौम्या पांडेय का तबादला (Photo Credit: फाइल फोटो)

गाजियाबाद:

हाल में अपनी नवजात बच्ची के साथ ड्यूटी पर लौटीं आईएएस अधिकारी सौम्या पांडेय एक बार फिर चर्चाओं में आ गई है. उत्तर प्रदेश सरकार ने गाजियाबाद के मोदीनगर की सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) सौम्या पांडे का तबादला कर दिया है. सौम्या पांडे को सीडीओ कानपुर देहात के पद पर नियुक्त किया गया है. जबकि सीडीओ कानपुर देहात से आईएएस अधिकारी जोगिंदर सिंह को हटाकर वीसी, बरेली विकास प्राधिकरण पद पर नियुक्त किया गया है. योगी सरकार ने आज सुबह इन दोनों अधिकारियों के तबादले किए हैं.

यह भी पढ़ें: दुबई में भारतीय-पाकिस्तानी दंपति की बेटियों को भारतीय पासपोर्ट का इंतजार

एसडीएम सौम्या पांडे ने हाल ही में एक बच्ची को जन्म दिया, उसकी डिलीवरी के महज 14 दिन बाद ही उन्होंने गाजियाबाद में अपनी ड्यूटी ज्वाइन कर ली. अपनी गोद में दूधमुंहा बच्ची को लेकर सौम्या पांडे दफ्तर जाती हैं. कर्तव्य के प्रति समर्पण के लिए एसडीएम सौम्या पांडे अपनी नवजात बच्ची को साथ लेकर ड्यूटी पर पहुंचती हैं. सौम्या पांडेय जुलाई से सितंबर तक गाजियाबाद में कोविड-19 के लिए नोडल अधिकारी रहीं. सितंबर में उनकी डिलिवरी हुई और उसके दो हफ्ते बाद उन्होंने तहसील ज्वाइन कर ली.

उन्होंने बताया था, 'मेरे परिवार ने इसमें मेरा बहुत समर्थन किया है. मेरी पूरी तहसील और गाजियाबाद जिला प्रशासन जो मेरे लिए एक परिवार की तरह है, ने मुझे गर्भावस्था और प्रसव के बाद मदद की. जिला मजिस्ट्रेट और प्रशासन के कर्मचारियों ने मेरी गर्भावस्था की अवधि के साथ-साथ मेरे प्रसव के बाद भी मेरा साथ दिया.'

यह भी पढ़ें: केंद्र ने बंबई उच्च न्यायालय से कहा, मीडिया ट्रायल के समर्थन में नहीं

सौम्या पांडे ने कहा था, 'मैं एक आईएएस अधिकारी हूं, इसलिए मुझे अपनी सेवा को देखना होगा. कोविड-19 के कारण सभी पर एक जिम्मेदारी है. भगवान ने महिलाओं को अपने बच्चे को जन्म देने और उनकी देखभाल करने की ताकत दी है. ग्रामीण भारत में महिलाएं प्रसव के निकट दिनों में गर्भावस्था में अपनी आजीविका से संबंधित काम करती हैं और जन्म देने के बाद बच्चे की देखभाल करती हैं. वह अपने काम और घर का प्रबंधन भी करती हैं. इसी तरह, यह आशीर्वाद है भगवान का कि मैं अपने तीन हफ्ते की बच्ची के साथ अपना प्रशासनिक काम करने में सक्षम हूं.'

First Published : 15 Oct 2020, 09:17:17 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो