News Nation Logo

नोए़डा में मिली एक और अनामिका शुक्ला, फर्जी डिग्री पर कर रही थी 10 साल से नौकरी

गौतमबुद्ध नगर के बेसिक शिक्षा अधिकारी धीरेंद्र कुमार ने बताया कि दूसरे की बीएड की डिग्री पर नौकरी करने वाली शिक्षिका मनीषा मथुरिया का फर्जीवाड़ा सामने आया है. इस मामले के उजागर होने के बाद से ही शिक्षिका फरार है.

News Nation Bureau | Edited By : Vineeta Mandal | Updated on: 15 Jul 2020, 08:15:31 AM
fraud teacher

Teacher Fraud Case (Photo Credit: (सांकेतिक चित्र))

नई दिल्ली:

उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग में हुए फर्जीवाड़े की परतें अब खुलने लगी हैं. गौतमबुद्ध नगर (नोएडा) के शिक्षा विभाग में एक और अनामिका शुक्ला के मिलने से विभाग के कार्यप्रणाली पर गंभीर सवाल उठने लगे हैं. दूसरे के नाम पर शिक्षिका बन सरकार को करोड़ों का चूना लगाने वाली अनामिका शुक्ला का नाम अभी लोग भूल भी नहीं पाए थे कि गौतमबुद्ध नगर में मनीषा मथुरिया नाम की एक और अनामिका शुक्ला कांड सामने आया है. आरोप है कि मनीषा मथुरिया बीते 10 वर्षों से शिक्षिका के तौर पर काम कर रही है. विभाग ने उसे बर्खास्त कर उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया है. शिक्षिका फरार बताई जा रही है.

और पढ़ें: आगरा यूनिवर्सिटी की फर्जी बीएड डिग्री पर बने थे 4 हजार शिक्षक, 1701 बर्खास्त

गौतमबुद्ध नगर के बेसिक शिक्षा अधिकारी धीरेंद्र कुमार ने बताया कि दूसरे की बीएड की डिग्री पर नौकरी करने वाली शिक्षिका मनीषा मथुरिया का फर्जीवाड़ा सामने आया है. इस मामले के उजागर होने के बाद से ही शिक्षिका फरार है. उन्होंने बताया कि मनीषा मथुरिया बीते 10 वर्ष से फर्जी डिग्री पर नौकरी कर रही थी. शिक्षिका की तैनाती ग्रेटर नोएडा के नवादा गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय में थी.

खंड शिक्षा अधिकारी हेमंत सिंह ने शिक्षिका के खिलाफ धोखाधड़ी की धाराओं में कोतवाली बीटा-2 में एफआईआर दर्ज कराई है. बीएसए ने बताया कि शिक्षिका को बर्खास्त कर उसके द्वारा लिए गए वेतन की रिकवरी के आदेश दिए हैं.

बीएसए धीरेंद्र कुमार ने बताया कि अनामिका शुक्ला फ्रॉड केस के उजागर होने के बाद शासन ने पूरे राज्य में शिक्षकों के दस्तावेजों की जांच के आदेश दिए थे. उसी आदेश के क्रम में बीते दिनों मिली शिकायत के आधार पर जांच कराई गई. जांच में पाया गया कि जिस अनुक्रमांक को मनीषा मथुरिया के मार्कशीट में दर्ज किया गया है, वह अनुक्रमांक मनीषा मौर्या के नाम पर दर्ज है, जो कासगंज के वीके जैन कॉलेज की है.

जांच में यह भी पाया गया कि ग्रेटर नोएडा के नवादा गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय में नौकरी करने वाली मनीषा मथुरिया की डिग्री फर्जी है और वह मनीषा मौर्या की डिग्री पर नौकरी कर रही है. उन्होंने बताया कि मूलरूप से अलीगढ़ के बसौली गांव की रहने वाली मनीषा मथुरिया ने आंबेडकर विवि आगरा से वर्ष-2005 में जारी बीएड की डिग्री के आधार पर शिक्षिका की नौकरी हासिल की थी.

ये भी पढ़ें: अनामिका शुक्ला (Anamika Shukla) के बाद अब दीप्ति के दस्तावेजों पर तीन महिलाएं नौकरी करती मिलीं

बीएसए ने बताया कि शिक्षिका मनीषा मथुरिया की पहली तैनाती वर्ष-2010 में अलीगढ़ के ऊंटगिरी ब्लॉक क्षेत्र के गांव धनीपुर प्राथमिक विद्यालय में हुई थी. वर्ष-2012 में उसका तबादला गौतमबुद्ध नगर के लिए कर दिया गया. वह ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी, बिसरख और नवादा प्राथमिक विद्यालय में तैनात रही. उन्होंने बताया कि फर्जीवाड़ा उजागर होने के बाद उसके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.

नियमानुसार उससे लगभग 40 लाख 70 हजार रुपये की रिकवरी की जानी है. इस बीच, पुलिस का कहना है कि इस मामले में पहली शिकायत दनकौर डायट के प्राचार्य ने की थी. उन्होंने सभी शिक्षकों की डिग्री की जांच करने का अनुरोध किया था. जांच में पाया गया कि वर्ष-2008 में मनीषा ने बीटीसी की डिग्री ली थी, वह भी फर्जी थी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 15 Jul 2020, 08:14:21 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.