News Nation Logo
Banner

कांग्रेस का नया मुस्लिम कार्ड, कफील खान हो सकते हैं UP में पोस्टर ब्वॉय

मुस्लिमों (Muslims) पर अत्याचार के लिए पोस्टर ब्वॉय (Poster Boy) बनकर उभरे डॉक्टर कफील खान (Kafeel Khan) आने वाले दिनों में राजनीतिक करियर चुन सकते हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 05 Sep 2020, 07:35:35 AM
Kafeel Khan

कफील खान उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के लिए मु्स्लिम पोस्टर ब्वॉय. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के शासनकाल में मुस्लिमों (Muslims) पर अत्याचार के लिए पोस्टर ब्वॉय (Poster Boy) बनकर उभरे डॉक्टर कफील खान (Kafeel Khan) आने वाले दिनों में राजनीतिक करियर चुन सकते हैं. कफील को कुछ विपक्षी पार्टियों से सहानुभूति मिल रही है. उन्होंने हालांकि कांग्रेस (Congress) के प्रति अपने झुकाव को दिखाया है. उन्होंने कहा, 'मुश्किल समय में, प्रियंका गांधी वाड्रा ने मेरा समर्थन किया. मथुरा जेल से मेरी रिहाई के बाद उन्होंने फोन करके मुझसे बातचीत की.'

यह भी पढ़ेंः अब जापान ने चीन पर 'सर्जिकल स्ट्राइक' कर निभाई भारत से दोस्ती

प्रियंका समेत कई नेता संपर्क में
पूर्व कांग्रेस विधायक प्रदीप माथुर कफील खान की जेल से रिहाई के वक्त वहां मौजूद थे. उन्होंने कहा, 'वरिष्ठ पार्टी नेताओं के दिशा-निर्देश पर, मैं काफिल की रिहाई के लिए औपचारिकताओं को पूरा करने लगातार मथुरा और अलीगढ़ के जिला प्रशासन के संपर्क में था. मैं उन्हें राजस्थान बॉर्डर तक ले गया.' कांग्रेस नेता ने कहा, 'प्रियंका ने मानवता के लिए उनके समर्थन में और योगी सरकार द्वारा राज्य के निर्दोष लोगों के खिलाफ अत्याचार का विरोध करने के लिए अपनी आवाज बुलंद की. यह कफील पर निर्भर करता है कि वह कांग्रेस के साथ काम करना चाहते हैं या नहीं.'

यह भी पढ़ेंः चीन के रक्षा मंत्री के साथ राजनाथ सिंह की हुई बैठक, ड्रैगन ने की पहल

मुस्लिम चेहरा बतौर करेगी स्थापित
डॉक्टर ने पहले ही घोषणा कर दी है कि वह बिहार, असम, केरल, तमिलनाडु और कर्नाटक में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में स्वास्थ्य शिविर आयोजित करने के लिए जांएगे. अपना नाम उजागर न करने की शर्त पर एक वरिष्ठ कांग्रेसी नेता ने कहा कि कफील के पास महत्वपूर्ण 2022 उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी का मुस्लिम चेहरा बनने की काबिलियत है, जिसके लिए पार्टी अपनी खोई जमीन वापस करने के लिए काम कर रही है.

यह भी पढ़ेंः सुशांत केस से जुड़े ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती का भाई शोविक चक्रवर्ती गिरफ्तार

परिवार भी राजनीति में जाने का पक्षधर
उन्होंने कहा, 'राज्य सरकार के खिलाफ उनकी लड़ाई ने उत्तरप्रदेश और अन्य राज्यों में समुदाय के लोगों के बीच बड़ी संख्या में समर्थन हासिल किया है.' इस बीच, परिवार के एक सूत्र ने कहा कि कफील ने बीते तीन वर्ष से काफी कुछ झेला है और शायद उसके पास राजनीति में शामिल होने के सिवाय और कोई उपाय नहीं बचा. परिवार के सदस्य ने कहा, 'कई पार्टियों की ओर से ऑफर है, लेकिन उन्हें निर्णय करना है कि वे किसमें शामिल होना चाहते हैं. यह शायद कांग्रेस हो सकता है.'

यह भी पढ़ेंः NDA और NA के परीक्षार्थियों के लिए मध्य रेलवे चलाएगा विशेष ट्रेन

क्लीन चिट के बावजूद बहाली नहीं
डॉ. कफील खान को पहली अगस्त 2017 में बार बी.आर.डी मेडिकल कॉलेज, गोरखपुर में ऑक्सीजन हादसे के बाद गिरफ्तार किया गया था, जिसमें तीन दिन के अंदर 70 बच्चे की मौत हो गई थी. विभागीय जांच में उन्हें क्लीन चिट दे दी गई, लेकिन उन्हें फिर से बहाल नहीं किया गया है.

First Published : 05 Sep 2020, 07:35:35 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो