News Nation Logo
Banner

बलिया कांड का मुख्य आरोपी 72 घंटों से फरार, पुलिस रही है तलाश

बलिया गोलीकांड (Balia Goli Kand) का मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह 50 घंटे से ज्यादा समय से अब तक फरार है. पुलिस आरोपी की तलाश में जुटी हुई है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 18 Oct 2020, 10:06:58 AM
Balia Dhirendra

बीजेपी से नजदीकियां बढ़ा रही योगी सरकार पर हमले. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

बलिया गोलीकांड (Balia Goli Kand) का मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह 72 घंटे से ज्यादा समय से अब तक फरार है. पुलिस आरोपी की तलाश में जुटी हुई है. वहीं पुलिस का कहना है कि आरोपियों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) और गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी. अपनी हनक बरकरार रखने के लिए यूपी पुलिस (UP Police) ने सभी आरोपियों पर इनाम बढ़ाकर 50-50 हजार रुपये कर दिया है, लेकिन अब तक 8 नामजद और करीब 25 अज्ञात आरोपियों में सिर्फ 7 की गिरफ्तारी हुई है और इनमें भी सिर्फ दो ही नामजद हैं. बाकी नामजद आरोपियों का कोई पता ठिकाना नहीं है.

यह भी पढ़ेंः  बलिया कांड में आरोपी पक्ष की FIR न होने पर अनशन करेंगे BJP विधायक

सिर्फ दो नामजद आरोपी ही गिरफ्तार
इस मामले में अभी तक दो नामजद आरोपियों देवेंद्र प्रताप सिंह और नरेंद्र प्रताप सिंह को गिरफ्तार किया गया है. ये दोनों मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह के भाई हैं. फरार मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह सेना का रिटायर्ड जवान है. वह भूतपूर्व सैनिक संगठन की बैरिया तहसील इकाई का अध्यक्ष भी है. बताते हैं कि लगभग दर्जन भर पुलिस टीमें आरोपियों की तलाश में जुटी हैं. 

यह भी पढ़ेंः बाराबंकी कांड में बड़ा खुलासा: दलित लड़की का रेप नहीं, गैंगरेप हुआ था

योगी सरकार सियासत के भंवर में
इस गोलीकांड पर सिसायत भी जमकर हो रही है. धीरेंद्र सिंह की बीजेपी से नजदीकियों के चलते विपक्ष लगातार योगी सरकार पर हमलावर है. रविवार को प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार पर निशाना साधा. यही नहीं, आरोपी का सत्ताधारी दल से जुड़ाव की बात सामने आने के बाद समाजवादी पार्टी (सपा), कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) बीजेपी को घेरने में जुटे हैं. इससे आजिज बीजेपी के जिलाध्यक्ष को सफाई देनी पड़ी कि धीरेंद्र पार्टी में किसी पद पर नहीं है.

यह भी पढ़ेंः अयोध्या में फिल्मी सितारों की रामलीला शुरू, यहां देखें Live प्रसारण

क्षेत्रीय विधायक आए खुलकर समर्थन में
जिलाध्यक्ष की सफाई के अगले ही दिन विवादित बयानों से हमेशा चर्चा में रहने वाले क्षेत्रीय विधायक सुरेंद्र सिंह ने यह स्वीकार किया कि धीरेंद्र पार्टी का कार्यकर्ता था. क्षेत्रीय बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने फायरिंग की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और लगे हाथ यह भी गिना दिया कि धीरेंद्र के पिता, बहन और अन्य परिजन भी घायल हुए हैं. 17 अक्टूबर की सुबह विधायक सुरेंद्र सिंह रेवती थाना में दूसरे पक्ष के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने पहुंचे थे. विधायक ने कहा कि अगर दूसरे पक्ष के खिलाफ केस दर्ज नहीं होगा तो धरने पर बैठ जाएंगे. 

First Published : 18 Oct 2020, 10:02:30 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो