News Nation Logo
Banner

कर्मचारियों की कमी से अटेंडेंट को कोविड वार्ड में जाने की मिल रही इजाजत

कोविड वार्डो में परिवर्तित किए जा चुके कि सरकारी अस्पतालों में मरीजों के रिश्तेदारों को मरीजों के बिस्तर के किनारे बैठने की अनुमति दी जा रही है. कोविड प्रोटोकॉल का पालन किए बिना ही इन वार्डो में जाने की अनुमति दी जा रही है.

IANS | Updated on: 01 May 2021, 06:26:56 PM
No staff in chennai hospitals

No staff in chennai hospitals (Photo Credit: आइएएनएस)

highlights

  • रिश्तेदारों को मरीजों के बिस्तर के किनारे बैठने की अनुमति दी जा रही है
  • ऑक्सीजन बेड के लिए आठ मरीजों को संभालने के लिए एक नर्स है
  • सरकार ने अधिक डॉक्टरों, नर्सों की पोस्टिंग की घोषणा की है

चेन्नई:

चेन्नई में डॉक्टरों, नर्सो और पैरामेडिक्स की कमी की वजह से गहन चिकित्सा इकाइयों (आईसीयू) सहित कोविड वाडरें में भर्ती मरीजों के अटेंडेंटों को बैठने की अनुमति दी जा रही है. यहां तक कोविड वार्डो में परिवर्तित किए जा चुके कि सरकारी अस्पतालों में मरीजों के रिश्तेदारों को मरीजों के बिस्तर के किनारे बैठने की अनुमति दी जा रही है. उन्हें पीपीई किट पहने बिना और कोविड प्रोटोकॉल का पालन किए बिना ही इन वार्डो में जाने की अनुमति दी जा रही है. सुकुमारी, जो अपने बीमार पति के लिए चेन्नई के एक सरकारी अस्पताल में अटेंडेंट थीं, ने बताया, "नर्सों और डॉक्टरों सहित स्टाफ की कमी थी और मुझे अपने पति के साथ रहना पड़ता था क्योंकि टॉयलेट जाते समय वह गिर जाते थे. हर दिन मैं अपने पति के अटैंड करने के बाद घर जाती थी और मेरे बदले मेरा बेटा वहां जाता था."

यह भी पढ़ेंः डॉक्टर का वीडियो हुआ वायरल, बता रहे हैं कोरोना का कारगार और सस्ता इलाज

तमिलनाडु के स्वास्थ्य सचिव जे. राधाकृष्णन ने बताया कि, "अस्पतालों को सख्त चेतावनी दी गई है कि वे कोरोना मरीजों के परिजन को अंदर न आने दें. सरकार इस स्थिति से उबरने के लिए अस्थायी आधार पर डॉक्टरों, नर्सो और पैरामेडिक्स की भर्ती कर रही है." पुलिस को यह भी निर्देश दिया गया है कि वह परिजनों को कोविड के रोगियों के साथ न रहने दें.

यह भी पढ़ेंः Corona संकट के बीच विदेश में कोवैक्सीन उत्पादन की राह खोज रही मोदी सरकार

सरकारी अस्पतालों में काम कर रहे एक वरिष्ठ डॉक्टर ने नाम उजागर न करने की शर्त पर ये बताया कि, "नर्सों की भारी कमी है. ऑक्सीजन बेड के लिए आठ मरीजों को संभालने के लिए एक नर्स है और चार अन्य रोगियों के लिए. जब तक इन आईसीयू में डॉक्टरों, नर्सों और पैरामेडिक्स की अच्छी संख्या नहीं होगी, स्थिति गंभीर होती चली जाएगी. यह स्वागत योग्य है कि सरकार ने अधिक डॉक्टरों, नर्सों की पोस्टिंग की घोषणा की है और स्थिति पर काबू पाने के लिए अस्थायी आधार पर पैरामेडिक्स को भर्ती करने जा रही है."

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 01 May 2021, 06:26:08 PM

For all the Latest States News, South India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.