News Nation Logo
Banner

ओवैसी के नेता का आतंक, गोलीबारी में घायल हुए पूर्व पार्षद ने तोड़ा दम

MIM नेता मोहम्मद फारूक अहमद ने अपने लाइसेंसी रिवॉल्वर से फायरिंग की थी, जिसमें सैयद जमीर के साथ-साथ उनके भाई सैयद मन्नान और भतीजे सैयद मोहतेसिन भी घायल हो गए थे.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Chaurasia | Updated on: 26 Dec 2020, 02:16:26 PM
gun shooting

सांकेतिक तस्वीर (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

असदउद्दीन ओवैसी की पार्टी मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएम) के नेता द्वारा बीते 18 दिसंबर को की गई फायरिंग में घायल हुए शख्स की इलाज के दौरान मौत हो गई. पूरा मामला आदिलाबाद के टाटीगुडा का था, जहां MIM नेता ने फायरिंग की थी. MIM नेता की फायरिंग में आदिलाबाद के टाटीगुडा के पूर्व पार्षद 52 वर्षीय सैयद जमीर घायल हो गए थे, जिन्होंने हैदराबाद में निजाम के आयुर्विज्ञान संस्थान (एनआईएमएस) में शनिवार को दम तोड़ दिया.

ये भी पढ़ें- चीन को माकूल जवाब देने को ITBP के जवान शेर की तरह तैयार

खबरों के मुताबिक MIM नेता मोहम्मद फारूक अहमद ने अपने लाइसेंसी रिवॉल्वर से फायरिंग की थी, जिसमें सैयद जमीर के साथ-साथ उनके भाई सैयद मन्नान और भतीजे सैयद मोहतेसिन भी घायल हो गए थे. इतना ही नहीं, इन पर चाकुओं से भी हमला किया गया था. जमीर और मोहतेसिन को गोलियां लगी थीं, तो वहीं मन्नान को चाकू के घाव लगे हैं. गोली लगने की वजह से जमीर गंभीर रूप से घायल हो गए थे, जिसकी वजह से उन्हें हैदराबाद ले जाया गया था.

ये भी पढ़ें- लव जिहाद: विधेयक में किए गए हैं ये प्रावधान, होगी कड़ी सजा

बता दें कि मोहम्मद फारूक ने क्रिकेट खेल रहे दो ग्रुप के बीच हुए झगड़े के बाद फायरिंग की थी. हमले का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है, जिसमें फारूक अपने एक हाथ से हवा में गोलीबारी करता और दूसरे हाथ में चाकू लिया नजर आ रहा है. पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया था लेकिन जमीर की मौत के बाद आरोपी पर हत्या का मामला दर्ज किया जाएगा. पुलिस ने आरोपी के बंदूक लाइसेंस को रद्द करने के लिए सिफारिश की है.

First Published : 26 Dec 2020, 02:15:31 PM

For all the Latest States News, South India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.