News Nation Logo

अफगानिस्तान के एक गुरुद्वारे में फंसे हैं इतने भारतीय सिख, कैप्टन अमरिंदर ने जताई चिंता

बीच पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Punjab Chief Minister Captain Amarinder Singh) ने अफगानिस्तान में रह रहे भारतीय सिखों के लिए चिंता जाहिर की है

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 16 Aug 2021, 06:02:55 PM
punjab cm captain amarinder singh

punjab cm captain amarinder singh (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली:

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद भारत समेत कई देश वहां फंसे अपने नागरिकों को एयरलिफ्ट करा रहे हैं. भारत ने भी अपने 129 नागरिकों को वहां सुरक्षित बाहर निकाला है. इस बीच पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Punjab Chief Minister Captain Amarinder Singh) ने अफगानिस्तान में रह रहे भारतीय सिखों के लिए चिंता जाहिर की है. सीएम अमरिंदर ने सोमवार को विदेश मंत्री एस जयशंकर (External Affairs Minister S Jaishankar) से आग्रह किया कि तालिबान (Taliban) के कब्जे वाले अफगानिस्तान (Afghanistan) स्थित एक गुरुद्वारे में फंसे लगभग 200 सिखों समेत अन्य सभी भारतीय नागरिकों को वहां से निकालने की बिना देरी किए व्यवस्था की जाए. दरअसल, सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने विदेश मंत्रालय को टैग करते हुए एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने लिखा कि “पंजबा सरकार अफगान से सिख नागरिकों को सुरक्षित निकालने के​ लिए हर तरह की मदद देने को तैयार है.”

यह भी पढ़ें : काबुल से दिल्ली लौटी महिला ने बयां किया अफगानिस्तान का मंजर, देखें वीडियो

यही नहीं मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे पर भी चिंता जताई. पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमवार को केंद्र सरकार को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि अफगानिस्तान में तालिबान का प्रभुत्व भारत के लिए अशुभ संकेत है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, "अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा हमारे देश के लिए शुभ संकेत नहीं है। यह भारत के खिलाफ चीन-पाक गठजोड़ को मजबूत करेगा. संकेत बिल्कुल भी अच्छे नहीं हैं, हमें अतिरिक्त सतर्क रहने की जरूरत है." तालिबान ने घोषणा की है कि अफगानिस्तान में युद्ध समाप्त हो गया है क्योंकि उसके लड़ाके राजधानी काबुल में घुस गए और राष्ट्रपति अशरफ गनी रविवार को देश छोड़कर भाग गए.दोहा में तालिबान के राजनीतिक कार्यालय के प्रवक्ता मोहम्मद नईम ने अल जजीरा को बताया कि समूह अलग-थलग नहीं रहना चाहता और कहा कि अफगानिस्तान में नई सरकार के प्रकार और रूप को जल्द ही स्पष्ट कर दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें : अफगानिस्तान में तालिबान की वापसी से चिंतित मलाला यूसुफजई, बोली यह बात

आपको बता दें कि अफगानिस्तान सरकार के अधिकारियों और प्रत्यक्षदर्शियों के हवाले से मीडिया में आई खबरों के मुताबिक तालिबान की वजह से काबुल की सड़कों पर दहशत है क्योंकि तालिबान लड़ाके खुलेआम आतंक मचा रहे हैं. काबुल की सड़कों पर यातायात बेतरतीब हो गया क्योंकि लोग घर या अपने परिवार के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं.

First Published : 16 Aug 2021, 06:01:08 PM

For all the Latest States News, Punjab News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.