News Nation Logo

स्कूल के प्रिंसिपल के इस तरह से लोगों को वैक्सीनेशन के लिए कर रहे जागरुक

बिलाड़ी जिला परिषद प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाचार्य सचिन पटकी अपने कठिन परिश्रम और स्कूल हेडमास्टर की भूमिका के जरिये अलग-अलग अंदाज में कोविड टीकाकरण के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए किसानों या दिहाड़ी मजदूरों से खुलकर मिलते हैं. 

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 05 May 2021, 03:39:55 PM
principal awarnes for vaccination

महाराष्ट्र में वैक्सीनेशन के लिए जागरुकता अभियान (Photo Credit: आईएएनएस)

highlights

  • महाराष्ट्र में वैक्सीनेशन के स्कूल प्रिंसिपल का अभियान
  • लोगों को वैक्सीनेशन की जागरुकता के लिए अभियान
  • प्रतिदिन अलग-अलग इलाकों में चलाते हैं जागरुकता अभियान

मुंबई:

नंदुरबार जिले के बिलाड़ी के छोटे से गांव में लोग अपने आस-पड़ोस में रोजाना होने वाली असामान्य ²ष्टि से दूर रहते हैं. इसके बावजूद, स्कूल के एक प्रिंसिपल अपने प्रयासों से लोगों को कोविड के प्रति जागरूक बना रहे हैं. बिलाड़ी जिला परिषद प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाचार्य सचिन पटकी अपने कठिन परिश्रम और स्कूल हेडमास्टर की भूमिका के जरिये अलग-अलग अंदाज में कोविड टीकाकरण के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए किसानों या दिहाड़ी मजदूरों से खुलकर मिलते हैं. 
इसके लिए, प्राचार्य पटकी अलग-अलग क्षेत्रों में प्रतिदिन एक नए फैंसी कपड़े पहनकर आते हैं.

प्राचार्य इन नई पोशाकों में लोगों को गायन, नृत्य, लोक-कथाओं, भजनों, कविताओं का पाठ करते हैं और कोविड महामारी और जीवन रक्षक वैक्सीन की खुराक के बारे में गलत धारणाओं को दूर करने का प्रयास करने के लिए गांव जाते हैं जहां की आबादी महज 1,750 है. पटकी ने मुस्कुराते हुए कहा, मैं अपने स्कूली बच्चों की वर्दी या एक डमरू और एक क्लब, एक पुलिसकर्मी, एक डॉक्टर, लॉर्ड वासुदेव आदि के साथ भगवान शिव की वेशभूषा धारण करता हूं. लोग और परिचित हिंदू देवताओं और सीमावर्ती कार्यकर्ताओं के बीच अधिक सहज महसूस करते हैं.

42 साल के शिक्षाविद प्रत्येक क्षेत्र में लगभग 30-45 मिनट के लिए भक्ति करते हैं, कोविड प्रोटोकॉल के बारे में बोलते हैं जैसे सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनना, अक्सर हाथ धोना, स्वच्छता, और माता-पिता को टीका लगाने और गांव के लोग, जो निश्चित रूप से एक सुरक्षित सीमा पर इकट्ठा होने की जरुरत है. पटकी ने कहा, मैं अपने दो शिक्षकों के साथ हूं. शांताराम वाडिले और स्मिता बुधे. यह विचार कुछ सप्ताह पहले पटकी को आया कि कैसे मेडिकल या सोशल वर्कर और आंगनवाड़ी कर्मचारियों को ग्रामीणों द्वारा बाहर निकाल दिया गया था, जब वे कोविड टेस्ट या टीकाकरण के लिए पंजीकरण करने गए थे.

उन्होंने कहा, ज्यादातर ग्रामीणों ने दरवाजे बंद कर दिए, कई लोगों ने उन्हें घेर लिया था और उनके साथ दुर्व्यवहार करते थे. कई बार मामूली फिजूलखर्ची होती थी, जिसके बाद परेशान कार्यकर्ता पीछे हट जाते थे. जेडपी स्कूल, जो अब एक अस्थायी आइसोलेशन के साथ-साथ टीका केंद्र है, दो अन्य शिक्षकों सरला पाटिल और सचिन बागल द्वारा संचालित है. पटकी ने आगे कहा, मेरे छोटे से अभियान ने काम किया है. साधारण लोगों को बहुत सी गलतफहमियां हैं वे बीमारियों को रोकते हैं, कुछ अल्पकालिक या स्थायी बाधा या मृत्यु भी. मैं धीरे-धीरे उनके सभी संदेहों को मिटाने और उन्हें खुराक लेने के लिए मनाने की कोशिश करता हूं.

यह भी पढ़ेंःदेश में गिरा कोरोना का ग्राफ, महाराष्ट्र से UP तक घटे मामले, बढ़ी मौतें

बिलाड़ी में वह अपने दो घंटे लंबे रोड-शो में प्रतिदिन लगभग 25 परिवारों तक पहुंचते हैं और इस प्रतिक्रिया से खुश होकर वह बनखेड़ा गांव तक पहुंच गये. पटकी जो पार्ट टाइम हिंदू पुजारी भी हैं और ब्राह्मण सर के नाम से भी जाने जाते हैं. वह अपने 110 स्कूली बच्चों के लिए अतिरिक्त पाठ्येतर सामाजिक गतिविधियों में खुराक के लिए अपनी जेब से हर महीने लगभग 5,000 रुपये खर्च करते हैं, जो आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए और भी अधिक करने की इच्छा रखते है. उन्होंने कहा, हमें एक अच्छी लाइब्रेरी, एक बुक बैंक, कम से कम 25 कंप्यूटरों के साथ एक कंप्यूटर लैब आदि की आवश्यकता है, ताकि बच्चों को आधुनिक तकनीकी प्रगति के साथ प्रेरित किया जा सके, लेकिन संसाधन एक बड़ी बाधा हैं.

यह भी पढ़ेंःकोविड अस्पतालों में लापरवाही पर गंभीर CM योगी ने CMO को दिए सख्त निर्देश

पिछले वर्ष मैंने अपनी व्यक्तिगत कार पर 42 इंच का टीवी सेट लगाया है, शैक्षिक बैनर और पोस्टर लगाए हैं और प्रतिदिन एक इलाके में जाते हैं. बच्चे अपने घर से बाहर निकलेंगे, विभिन्न विषयों के वीडियो के साथ मेरे घर के कक्षाओं में भाग लेंगे और वापस चले जाएंगे. पटकी ने बताया कि शैक्षणिक सत्रों को कम नहीं किया गया था और वे ऑनलाइन कक्षाओं, अनिश्चित इंटरनेट कनेक्टिविटी या ज्यादा फोन बिल की चिंता के बिना कक्षाओं का आनंद लेते थे. उनके परिवार में मां मंगला, पत्नी हर्षदा और 9 साल की जुड़वां बहन निधि और नवान्या हैं. लेकिन पटकी ने गांव के अधिकारियों कलेक्टर डॉ राजेंद्र भरुड़ और राज्य-स्तरीय अधिकारी से प्रशंसा अर्जित की है, लेकिन उनका कहना है कि वो तो केवल अपना कर्तव्य निभा रहे हैं.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 05 May 2021, 03:29:15 PM

For all the Latest States News, Maharashtra News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.