News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ ED का शिकंजा, पीए और निजी सचिव को गिरफ्तार किया

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख ( Anil Deshmukh ) की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही हैं. देशमुख के निजी सहायक कुंदन शिंदे और निजी सचिव संजीव पलांडे को गिरफ्तार कर लिया गया है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 26 Jun 2021, 08:42:34 AM
Anil Deshmukh

अनिल देशमुख के खिलाफ ED का शिकंजा, PA और निजी सचिव को गिरफ्तार किया (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • मनी लॉन्ड्रिंग केस में फंसे अनिल देशमुख
  • देशमुख के पीए और निजी सचिव गिरफ्तार
  • शुक्रवार को देशमुख के घर पर पड़ी ED की रेड 

मुंबई:

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख ( Anil Deshmukh ) की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही हैं. पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के उगाही के आरोपों भरे पत्र के बाद प्रवर्तन निदेशालय ( Enforcement Directorate ) लगातार अनिल देशमुख के खिलाफ शिकंजा कस रही है. शुक्रवार को ईडी ने महाराष्ट्र ( Maharashtra ) के पूर्व गृह मंत्री के नागपुर स्थित घर पर छापेमारी की और अब अनिल देशमुख के निजी सहायक कुंदन शिंदे और निजी सचिव संजीव पलांडे को गिरफ्तार कर लिया है. छापेमारी के बाद दोनों की गिरफ्तारी हुई है.

यह भी पढ़ें : साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का फिर विवादित बयान- हेमंत करकरे को देशभक्त मानने से किया इनकार 

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीमों ने शुक्रवार को 60 दिनों में दूसरी बार पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ दायर एक कथित भ्रष्टाचार के मामले में नागपुर और मुंबई के आवासों सहित चार स्थानों पर छापेमारी की. मई में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के एक वरिष्ठ नेता देशमुख के खिलाफ दर्ज किया गया था, तब मनी लॉन्ड्रिंग निवारण अधिनियम के तहत मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले की जांच के तहत कम से कम चार स्थानों पर छापेमारी की गई थी.

यह भी पढ़ें : Corona Virus LIVE Updates: महामारी के बीच आज किसान मनाएंगे, 'खेती बचाओ, लोकतंत्र बचाओ' दिवस

इससे पहले 24 अप्रैल को कई शहरों में देशमुख के करीब 10 ठिकानों पर 24 अप्रैल को ईडी ने छापेमारी की थी और मामला दर्ज होने के बाद उन्हें कई घंटों तक हिरासत में रखा गया था. 6 अप्रैल को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश के बाद प्रारंभिक जांच दर्ज की थी, जिसमें एजेंसी को मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार और कार्यालय के दुरुपयोग के आरोपों की जांच करने के लिए कहा गया था. बता दें कि भ्रष्टाचार का आरोप लगाने के बाद राकांपा के वरिष्ठ नेता अनिल देशमुख ने अपना पद छोड़ दिया था.

First Published : 26 Jun 2021, 08:12:24 AM

For all the Latest States News, Maharashtra News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.