News Nation Logo

एंटीलिया केस: असिस्टेंट इंस्पेक्टर रियाज काजी बनेगा सरकारी गवाह

एंटीलिया केस में असिस्टेंट इंस्पेक्टर रियाज काजी सरकारी गवाह बनेगा. काजी सचिन वाजे के साथ ही क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट में था. काजी को पूरी साजिश की जानकारी थी. इसलिए उसे सरकारी गवाह बनाने का फैसला किया.

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 24 Mar 2021, 05:47:16 PM
Assistant Inspector Riyaz Qazi becomes official witness

असिस्टेंट इंस्पेक्टर रियाज काजी बनेगा सरकारी गवाह (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • असिस्टेंट इंस्पेक्टर रियाज काजी बनेगा सरकारी गवाह
  • काजी सचिन वाझे के साथ ही क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट में था
  • काजी को पूरी साजिश की जानकारी, इसलिए उसे सरकारी गवाह बनाने का फैसला

मुंबई:

एंटीलिया केस में असिस्टेंट इंस्पेक्टर रियाज काजी सरकारी गवाह बनेगा. काजी सचिन वाजे के साथ ही क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट में था. काजी को पूरी साजिश की जानकारी थी. इसलिए उसे सरकारी गवाह बनाने का फैसला किया. वहीं, मनसुख हिरण हत्या मामले की जांच एनआईए ने अपने हाथों में ली. एटीएस ने औपचारिक रूप से मामले की जुड़ी फाइलें एनआईए को सौंप दी. बताया जा रहा है कि अब सचिन वाझे की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह को अपनी याचिका बॉम्बे हाईकोर्ट ले जाने को कहा है.

यह भी पढ़ें : निकिता तोमर हत्याकांड : कोर्ट ने आरोपी तौसीफ, रेहान को हत्या का दोषी माना

इस याचिका में उन्होंने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ आरोपों की बौछार की है. सिंह की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने शीर्ष अदालत से आग्रह किया कि वे देशमुख के कृत्यों की निष्पक्ष सीबीआई जांच का निर्देश दें. जस्टिस संजय किशन कौल की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि लंबे समय से संबंधित पक्षों के बीच सब कुछ अच्छा चल रहा है.

यह भी पढ़ें : काशी विश्वनाथ दरबार में शुरू हुई शिव रसोई, PM मोदी ने किया था उद्घाटन

साथ ही उन्होंने सिंह के वकील से पूछा कि उन्होंने देशमुख पर इतने आरोप लगाए लेकिन उन्हें पार्टी क्यों नहीं बनाया गया. इसपर रोहतगी ने कहा कि वह देशमुख को इस मामले में पार्टी बनाएंगे और शीर्ष अदालत से मामले की सुनवाई करने का आग्रह करेंगे, क्योंकि इस याचिका में बहुत गंभीर मुद्दे उठाए गए हैं.

यह भी पढ़ें : काशी के ये हैं महत्वपूर्ण धर्मस्थल, इनके दर्शन बिना नहीं मिलेगा मोक्ष

शीर्ष अदालत ने कहा, "इसमें कोई संदेह नहीं है कि मामला गंभीर रूप से प्रशासन को प्रभावित कर रहा है. हम मानते हैं कि यह एक गंभीर मुद्दा है. यदि आप स्वतंत्र जांच के लिए निर्देश चाहते हैं तो हाई कोर्ट भी यह काम कर सकता है. आपको वहीं जाना चाहिए."

सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका में सिंह ने देशमुख पर सांसद मोहन डेलकर की आत्महत्या मामले में भाजपा नेताओं को फंसाने के लिए पुलिस अधिकारियों की पोस्टिंग या ट्रांसफर में भ्रष्ट आचरण करने का आरोप लगाया है. रोहतगी ने कहा कि वह गुरुवार की दोपहर को बॉम्बे हाईकोर्ट के समक्ष एक त्वरित सुनवाई के लिए अपील करेंगे.

 

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 24 Mar 2021, 05:14:28 PM

For all the Latest States News, Maharashtra News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.