News Nation Logo
Banner

मध्य प्रदेश में उपचुनाव का शोर, दल-बदल की राजनीति जोरों पर!

मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव से पहले दल-बदल की पटकथाएं लिखने का दौर जारी है. आने वाले कुछ दिनों में कई नेताओं के दल-बदल की संभावनाएं बढ़ चली हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 17 Sep 2020, 04:16:16 PM
Shivraj-Kamalnath

मध्य प्रदेश में उपचुनाव का शोर, दल-बदल की राजनीति जोरों पर! (Photo Credit: फाइल फोटो)

भोपाल:

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में होने वाले विधानसभा उपचुनाव से पहले दल-बदल की पटकथाएं लिखने का दौर जारी है. आने वाले कुछ दिनों में कई नेताओं के दल-बदल की संभावनाएं बढ़ चली हैं. राज्य में दल-बदल की शुरुआत मार्च में हुई थी, तब 22 तत्कालीन कांग्रेस (Congress) विधायकों के पाला बदलने के कारण ही कमल नाथ के नेतृत्व वाली सरकार गिरी थी और भाजपा (BJP) को सरकार बनाने का मौका मिला. इसके बाद कांग्रेस के तीन और विधायकों ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर भाजपा का दामन थाम लिया.

यह भी पढ़ें: दिग्विजय के भाई का कंगना को समर्थन, बोले-ड्रग मामले में कांग्रेस भी दे साथ

राज्य में आगामी समय में होने वाले विधानसभा के उपचुनाव से पहले भाजपा और कांग्रेस दोनों ही राजनीतिक दल एक दूसरे को बड़ा झटका देने की रणनीति पर काम कर रहे हैं. दोनों ही दलों के नेताओं की असंतुष्टों से बातचीत चल रही है, और आगामी दिनों में दल-बदल की संभावनाओं को भी नहीं नकारा जा सकता.

राज्य सरकार के मंत्री विश्वास सारंग कहते हैं कि, 'कांग्रेस के कई विधायक भाजपा में आना चाहते हैं, मगर अभी भाजपा ने उन्हें पार्टी में शामिल करने से रोक रखा है. विधायकों के पार्टी छोड़ने से कांग्रेस की कहीं ऐसी स्थिति न हो जाए कि, गिनती के विधायक ही कमलनाथ के साथ रह जाएं.' वहीं कांग्रेस के प्रवक्ता दुर्गेश शर्मा का कहना है कि, 'भाजपा का सारा जोर खरीद फरोख्त पर है, और जो लोग इसमें भरोसा रखते हैं, वे ही कांग्रेस छोड़कर गए हैं. आगामी चुनाव में जनता बिकाऊ लोगों को सबक सिखाने में पीछे नहीं रहेगी.'

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री मोदी के स्वस्थ भारत के सपने को साकार करें : शिवराज

राजनीति की जानकारों का मानना है कि आगामी विधानसभा के उप-चुनाव काफी अहम हैं, एक तरफ कमल नाथ की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है, तो दूसरी ओर शिवराज सिंह चौहान व ज्योतिरादित्य सिंधिया को अपना जनाधार साबित करना है. लिहाजा दोनों ही ओर से हर तरह के दाव पेंच आजमाए जा रहे हैं. यही कारण है कि दल-बदल पर दोनों दल जोर लगाने में पीछे नहीं है. इसकी भी वजह है, क्योंकि पार्टियों को लगता है कि दल-बदल से वह अपने वोटबैंक को बढ़ा सकती हैं.

First Published : 17 Sep 2020, 04:03:30 PM

For all the Latest States News, Madhya Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

LiveScore Live IPL 2021 Scores & Results

वीडियो

×