News Nation Logo
Breaking
Banner

मोहन भागवत बोले- हिन्दू और भारत अलग नहीं हो सकते

आप देखेंगे कि हिंदुओं की संख्या और ताकत कम हो गई है. साथ ही खुद को हिंदू मानने वालों की ताकत भी पहले से कम हो रही है. जबकि हिन्दू से भारत का अभिन्न नाता है. हिन्दू और भारत अलग नहीं हो सकते.

News Nation Bureau | Edited By : Sunder Singh | Updated on: 27 Nov 2021, 09:49:35 PM
rss

file photo (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • अगर हिंदू को हिंदू बने रहना चाहते हैं तो भारत को 'अकंद' बनना होगा
  • ग्वालियर में कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बोले संघ प्रमुख 
  • खुद को हिंदू मानने वालों की पहले ताकत कम हुई
     

नई दिल्ली :  

आप देखेंगे कि हिंदुओं की संख्या और ताकत कम हो गई है. साथ ही खुद को हिंदू मानने वालों की ताकत भी पहले से कम हो रही है. जबकि हिन्दू से भारत का अभिन्न नाता है. हिन्दू और भारत अलग नहीं हो सकते. अगर हिंदू हिंदू बने रहना चाहते हैं तो भारत को 'अकंद' बनना होगा. ये सभी बातें आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने ग्वालियर में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही. उन्होने पत्रकारिता पर बोलते हुए कहा कि अब पत्रकारिता का स्तर भी गिरा है. लोकतंत्र को जिंदा रखने के लिए मूल्य आधारित पत्रकारिता की बहुत जरूरत है.    

यह भी पढ़ें :दिल्ली में सोमवार से फिर खुलेंगे सभी स्कूल : शिक्षा मंत्री सिसोदिया

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि भारत को भारत रहना है तो भारत को हिंदू रहना ही पड़ेगा. हिंदू को हिंदू रहना है तो भारत को अखंड बनना ही पड़ेगा. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि हिंदू के बिना भारत नहीं और भारत के बिना​ हिंदू नहीं. भारत टूटा, पाकिस्तान हुआ क्योंकि हम इस भाव को भूल गए कि हम हिंदू हैं. वहां के मुसलमान भी भूल गए. खुद को हिंदू मानने वालों की पहले ताकत कम हुई फिर संख्या कम हुई. इसलिए पाकिस्तान भारत नहीं रहा.

 ग्वालियर में मोहन भागवत ने कहा ये हिंदुस्तान है और यहां परंपरा से हिंदू लोग रहते आए हैं. जिस-जिस बात को हिंदू कहते हैं उन सारी बातों का विकास इस भूमि में हुआ है. भारत की सारी बातें भारत की भूमि से जुड़ी हैं, संयोग से नहीं.

First Published : 27 Nov 2021, 09:16:23 PM

For all the Latest States News, Madhya Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.