News Nation Logo

निर्वाचन आयोग ने दिया तीन IPS अधिकारियों के खिलाफ FIR दर्ज करने का आदेश

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबी के घर से आयकर छापे में कालाधन पकड़े जाने के बाद निर्वाचन आयोग ने मध्यप्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को तीन आईपीएस अधिकारियों व अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है. 

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 17 Dec 2020, 09:37:47 AM
sunil arora

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा (Photo Credit: न्यूज नेशन)

भोपाल:

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबी के घर से आयकर छापे में कालाधन पकड़े जाने के बाद निर्वाचन आयोग ने मध्यप्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को तीन आईपीएस अधिकारियों व अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है. 

आयोग का दावा है कि इन अधिकारियों ने 2019 के आम चुनावों में इस कालेधन का इस्तेमाल करने में मदद की थी. आयोग ने साथ ही केंद्रीय गृह सचिव से आईपीएस अधिकारियों और मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव से पुलिस अधिकारियों के खिलाफ विभागीय जांच शुरू करने को भी कहा है. निर्वाचन आयोग ने सीबीडीटी की रिपोर्ट के बाद कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

यह भी पढ़ेंः PM मोदी और शेख हसीना के बीच आज शिखर वार्ता, कई मुद्दों पर होगी चर्चा

रिपोर्ट में प्रथम दृष्टया सरकारी अधिकारियों की संलिप्तता का दावा किया गया था. आयोग ने मध्यप्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भी सीबीडीटी की रिपोर्ट भेजी है. सूत्रों के मुताबिक आयोग ने आईपीएस अधिकारी सुशोवन बनर्जी, संजय माने, वी मधु कुमार और राज्य पुलिस के अधिकारी अरुण मिश्रा के खिलाफ याचिका दर्ज करने का निर्देश दिया है.

यह भी पढ़ेंः अटारी बॉर्डर पर BSF ने दो पाकिस्तानी घुसपैठिए किए ढेर, AK-47 बरामद

आयकर विभाग ने अप्रैल में कमलनाथ के पूर्व एसओडी प्रवीण कक्कर, सलाहकार राजेंद्र मिगलानी और अश्वनी शर्मा के मध्यप्रदेश और दिल्ली स्थित 52 ठिकानों पर छापा मारकर 14.6 करोड़ रुपये कालाधन पकड़ा था. जब कमलनाथ सीएम थे तब उनके OSD प्रवीण कक्कड़, सलाहकार राजेंद्र मिगलानी और भतीजे रतुल पुरी के घर भी रेड हुआ था. रिपोर्ट में कहा गया है तुग़लक़ रोड के एक बंगले से राजनैतिक पार्टी के हेड क्वार्टर में कैश पहुंचाया गया. 

First Published : 17 Dec 2020, 09:37:47 AM

For all the Latest States News, Madhya Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.