News Nation Logo

उदयपुर घटनाः एमपी में दावते इस्लामी को लेकर अलर्ट

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि राजस्थान एटीएस से लगातार बात चल रही है. मिश्रा ने कहा कि उदयपुर की घटना में दावते इस्लामी संगठन का नाम आ रहा है. उन्होंने कहा कि डीजीपी केा इस संगठन की प्रदेश में गतिविधियों पर निगाह रखने केा कहा है.

Nitendra Sharma | Edited By : Ritika Shree | Updated on: 30 Jun 2022, 09:31:50 PM
Narrottam Mishra

Narrottam Mishra (Photo Credit: File Photo)

भोपाल:  

उदयपुर में कन्हैयालाल की बेरहमी से हत्या करने वाले आरोपियों मुहम्मद रियाज और गौस मुहम्मद का पाकिस्तानी संगठन दावते इस्लामी से कनेक्शन की बात आ रही है. इस मामले में एमपी के मालवा क्षेत्र से जानकारी जुटाई जा रही है. एमपी के मालवा और निमाड़ इलाके में प्रतिबंधित इस्लामिक संगठनों की सक्रियता लगातार जारी है. उदयपुर में यह वारदात करने वाले दोनों आरोपियों का अलसूफा नाम के इस्लामिक संगठन से नाम जुड़ रहा है. अलसूफा संगठन की शुरूआत प्रदेश के रतलाम में ही हुयी थी. दावते इस्लामी संगठन की गतिविधियों केा लेकर पुलिस केा अलर्ट रहने के निर्देश भी सरकार ने दिये हैं.

यह पढ़े : IPS अफसर विवेक फनसालकर बने मुंबई के नए पुलिस आयुक्त


गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि राजस्थान एटीएस से लगातार बात चल रही है. मिश्रा ने कहा कि उदयपुर की घटना में दावते इस्लामी संगठन का नाम आ रहा है. उन्होंने कहा कि डीजीपी केा इस संगठन की प्रदेश में गतिविधियों पर निगाह रखने केा कहा है. मिश्रा ने कहा कि प्रदेश सरकार पूरी तरह अलर्ट है. भोपाल में 13 मार्च केा जमात ए मुजाहिद्दीन बंगलादेश के चार आतंकी पकड़ाये थे. इस मामले में बाद में कुछ और लोगों केा भी हिरासत में लिया गया था. दावते इस्लामी की तरह यह संगठन भी मुस्लिम युवाओं का ब्रेन वाश करने का काम करता है. यह लोग युवाओं केा जेहाद के नाम पर आतंकी घटनाओं केा करने के लिये उकसाते हैं.

यह पढ़े : Eknath Shinde ने ऐसे तय किया ऑटो चालक से मुख्यमंत्री तक का सफर


मार्च में ही राजस्थान में विस्फोटक सामग्री के मामले में दो आतंकी रतलाम से पकड़ाये थे. प्रतिबंधित संगठन सिमी का भी एमपी में गढ़ रहा है. उदयपुर की घटना का हालाँकि एमपी से अभी तक कनेक्शन नहीं आया है लेकिन एमपी में कट्टर इस्लामी संगठनों की लगातार सक्रियता बड़ी हुयी है. प्रदेश के मालवा और निमाड़ इलाके में कई इस्लामिक संगठन सक्रिय हैं. सिमी का गढ़ होने के कारण प्रदेश प्रतिबंधित संगठनों से जुड़े आतंकियों का सेफ पैसेज भी है. एक वरिष्ट पुलिस अधिकारी के अनुसार मालवा और निमाड़ के कुछ हिस्सों में लगातार छानबीन की जा रही है. उन्होंने कहा कि मालवा और निमाड़ में सिमी की लंबे समय तक गतिविधियां रही हैं. ऐसे में इन क्षेत्रों में विशेष सावधानी रखी जा रही है.

First Published : 30 Jun 2022, 09:31:50 PM

For all the Latest States News, Madhya Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.