logo-image
लोकसभा चुनाव

Lok Sabha Election 2024: प्रदेशवासियों के लिए खुशखबरी, झारखंड बना देश का नंबर 1 राज्य

इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया की तरफ से झारखंड वासियों के लिए खुशखबरी सामने आई है. लोकसभा चुनाव को लेकर स्टेट चीफ इलेक्शन कमीशन ने काफी मेहनत भी की और उसका रिजल्ट शानदार रहा.

Updated on: 03 Jun 2024, 01:24 PM

highlights

  • झारखंड वासियों को मिली खुशखबरी
  • परफॉर्मेंस इंडेक्स में झारखंड को मिला पहला स्थान
  • इन आधारों पर की जाती है रैंकिंग

Ranchi:

इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया की तरफ से झारखंड वासियों के लिए खुशखबरी सामने आई है. लोकसभा चुनाव को लेकर स्टेट चीफ इलेक्शन कमीशन ने काफी मेहनत भी की और उसका रिजल्ट शानदार रहा. दरअसल, भारत निर्वाचन आयोग के सोशल मीडिया परफॉर्मेंस इंडेक्स में झारखंड ने पहला स्थान हासिल किया है. पहला स्थान हासिल करने के बाद प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी रवि कुमार ने कहा कि हमने जिस तरह से सोशल मीडिया पर जबरदस्त कैंपिंग की और इसके साथ ही कई लोकप्रिय चेहरे को ब्रांड एंबेसडर बनाया. इन सब चीजों ने ही पॉजिटिव काम किया. सोशल मीडिया के जरिए भी मतदाताओं को काफी प्रोत्साहित किया गया. 

यह भी पढ़ें- झारखंड में लू से 28 लोगों की मौत, अलर्ट मोड में स्वास्थ्य विभाग

सोशल मीडिया परफॉर्मेंस इंडेक्स में झारखंड को मिला पहला स्थान

आगे बोलते हुए रवि कुमार ने कहा कि हमने युवाओं को मतदाता जागरूक अभियान के लिए काफी प्रोत्साहित किया और हमारे पदाधिकारियों ने भी सोशल मीडिया पर जितना हो सकता था, उतना चुनाव से जुड़ी चीजों को अपडेट किया. यहां पर स्कूली छात्र-छात्राओं व प्रदेश के युवा प्लेयर्स ने भी सोशल मीडिया कैंपिंग में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की और लोगों को जागरूक करने का काम किया. इस तरह के सकारात्मक जागरूकता अभियान आगे भी जारी रहेंगे. 

इन आधारों पर की जाती है रैंकिंग

आपको बता दें कि भारत निर्वाचन आयोग ने विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मतदाता जागरूकता अभियान चलाने की दिशा में सक्रियता के आधार पर देशभर में से टॉप 10 राज्यों की सूची जारी की. जिसमें झारखंड को पहला पायदान मिला. इसे लेकर सोशल मीडिया नोडल पदाधिकारी संजय कुमार ने कहा कि सोशल मीडिया सक्रियता की रैंकिंग करने के लिए निर्वाचन आयोग की तरफ से हर महीने परफॉर्मेंस इंडेक्स तैयारी होती है, जिसमें 14 विभिन्न मानकों को आधार बनाकर रैंक दिया जाता है. आपको बता दें कि इन मानकों में सब्सक्राइबर संख्या में वृद्धि, क्षेत्रीय भाषाओं में पोस्ट की संख्या, कुल मासिक रीच, लाइव संवाद व अन्य कई तरह के आधार पर रैंक दिया जाता है. झारखंड के बाद दूसरा स्थान कर्नाटक को और तीसर स्थान उत्तराखंड को दिया गया है.