News Nation Logo

अनुच्छेद 370  के बाद जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा पर खर्च हुए 9000 करोड़  

सुरक्षा तंत्र को मजबूत करने के लिए, भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर सरकार को सुरक्षा संबंधी व्यय (पुलिस) योजना के तहत 9,120.69 करोड़ रुपये प्रदान किए हैं.

Pradeep Singh | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 30 Apr 2022, 03:51:54 PM
jammu kashmir

जम्मू-कश्मीर (Photo Credit: TWITTER HANDLE)

नई दिल्ली:  

अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के बाद से केंद्र सरकार  2021 तक जम्मू और कश्मीर में सुरक्षा पर 9,000 करोड़ रुपये से अधिक खर्च कर चुका है. 5 अगस्त, 2019 को केंद्र शासित प्रदेश की स्थापना के बाद से सुरक्षा संबंधी व्यय (पुलिस) योजना (security-related expenditure (police) scheme)के तहत जम्मू और कश्मीर सरकार को राशि का भुगतान किया गया था. जिस दिन जम्मू और कश्मीर को जम्मू और कश्मीर और लद्दाख के दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित किया गया था और अनुच्छेद 370 और 35 (ए) को रद्द कर दिया गया, जिसने तत्कालीन राज्य को विशेष दर्जा दिया और इसके निवास नियमों को परिभाषित करने का अधिकार दिया गया था.

गृह मंत्रालय की हाल ही में प्रकाशित वार्षिक रिपोर्ट 2020-2021 में इन तथ्यों का उल्लेख है, जिसमें उल्लेख किया गया है कि "सुरक्षा तंत्र को मजबूत करने के लिए, भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर सरकार को सुरक्षा संबंधी व्यय (पुलिस) योजना के तहत 9,120.69 करोड़ रुपये प्रदान किए हैं. "

रिपोर्ट के अनुसार, इस राशि में 448.04 करोड़ रुपये शामिल हैं जो 31 दिसंबर, 2020 तक जम्मू-कश्मीर के विभाजन के बाद से खर्च किए गए थे. इसके अलावा, रिपोर्ट में कहा गया है कि गृह मंत्रालय ( MHA) ने जम्मू और कश्मीर के लिए पांच इंडिया रिजर्व बटालियन (India Reserve Battalions), दो बॉर्डर बटालियन (Border Battalions) और दो महिला बटालियन (Women Battalions) बनाने को भी मंजूरी दी है. "पांच आईआर बटालियन के लिए भर्ती पहले ही पूरी हो चुकी है."

केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक, "जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा स्थिति की निगरानी और नियमित रूप से जम्मू-कश्मीर सरकार, सेना, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) और अन्य सुरक्षा एजेंसियों द्वारा समीक्षा की जाती है."

यह भी पढ़ें : पटियाला हिंसा: CM भगवंत मान ने की बड़ी कार्रवाई, हटाए गए IG, SSP और SP

“गृह मंत्रालय (एमएचए) भी उपरोक्त सभी एजेंसियों और रक्षा मंत्रालय के साथ मिलकर सुरक्षा स्थिति की बारीकी से और लगातार निगरानी करता है. सीमा पार से घुसपैठ को रोकने के लिए बहु-आयामी दृष्टिकोण में अंतर्राष्ट्रीय सीमा या नियंत्रण रेखा पर बहु-स्तरीय तैनाती, सीमा पर बाड़ लगाना, बेहतर खुफिया और परिचालन समन्वय, सुरक्षा बलों को उन्नत हथियारों से लैस करना और घुसपैठियों के खिलाफ सक्रिय कार्रवाई करना शामिल है.

इसमें यह भी उल्लेख किया गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री विकास पैकेज (PMDP-2015) के तहत तत्कालीन जम्मू और कश्मीर राज्य के लिए 80,068 करोड़ रुपये के विकास पैकेज की घोषणा की है, जिसमें महत्वपूर्ण क्षेत्रों में 63 प्रमुख परियोजनाएं शामिल हैं, जैसे सड़क, बिजली, नई और अक्षय ऊर्जा, पर्यटन, स्वास्थ्य, शिक्षा, जल संसाधन, खेल, शहरी विकास, रक्षा और वस्त्र.

रिपोर्ट में कहा गया है कि 63 परियोजनाओं में से 54 परियोजनाओं को केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर में 58,627 करोड़ रुपये के परिव्यय के साथ लागू किया जा रहा है. इसमें कहा गया है कि 20 परियोजनाएं पूरी हो चुकी हैं या काफी हद तक पूरी हो चुकी हैं और अन्य कार्यान्वयन के विभिन्न चरणों में हैं. जबकि “30 नवंबर, 2020 तक, विभिन्न परियोजनाओं के लिए 32,136 करोड़ रुपये की राशि जारी की गई है, जिसमें से 30,553 करोड़ रुपये का उपयोग किया गया है.”

First Published : 30 Apr 2022, 03:51:54 PM

For all the Latest States News, Jammu & Kashmir News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.