News Nation Logo
Banner

दिल्ली सरकार का फैसला, डेंटल और आयुष कैडर के डॉक्टर्स भी होंगे कोविड अस्पतालों में तैनात

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच केजरीवाल सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. दिल्ली में डेंटल और आयुष कैडर के डॉक्टर्स को भी कोरोना सेवाओं के लिये कोविड अस्पतालों में तैनात किया जायेगा.

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 09 Apr 2021, 10:12:16 AM
Corona Virus

डेंटल और आयुष कैडर के डॉक्टर्स भी होंगे कोविड अस्पतालों में तैनात (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • एलएनजेपी और जीटीबी अस्पताल में बढ़ाए गए बेड 
  • निजी अस्पतालों में 50 फीसद बेड कोरोना मरीजों के लिए 
  • गुरूवार को दिल्ली में मिले रिकॉर्ड 7437 कोरोना मरीज

नई दिल्ली:

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच केजरीवाल सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. दिल्ली में डेंटल और आयुष कैडर के डॉक्टर्स को भी कोरोना सेवाओं के लिये कोविड अस्पतालों में तैनात किया जायेगा. दिल्ली सरकार ने सभी कोविड अस्पतालों के एमडी/एमएस/डायरेक्टर्स को ज़रूरत के अनुसार मेडिकल स्टाफ की तैनाती के निर्देश दिए गए हैं. इसके साथ ही दिल्ली के लोकनायक अस्पताल और गुरु तेग बहादुर अस्पताल में कोविड बेड्स बढ़ाये गये हैं. लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल में मौजूदा 1000 कोविड बेड्स की संख्या बढ़ाकर 1500 कर दिया गया है वहीं गुरु तेग बहादुर हॉस्पिटल में मौजूदा 500 बेड्स की संख्या को बढ़ाकर 1000 कर दिया गया है. ये आदेश तत्काल प्रभाव से लागू होगा.

9 दिन तीसरी बार अस्पतालों को आदेश 
दिल्ली सरकार ने 9 दिन के भीतर तीसरी बार प्राइवेट अस्पतालों में बेड्स बढ़ाने के लिए आदेश जारी किए हैं. 31 जनवरी को दिल्ली सरकार ने 33 बड़े प्राइवेट अस्पतालों में  ICU और बेड्स की संख्या बढ़ाने के आदेश दिए थे. इसके बाद 5 अप्रैल को 54 बड़े प्राइवेट अस्पतालों में आईसीयू और बेड्स बढ़ाने के आदेश दिए थे. जिसके बाद अब 115 बड़े और मध्यम स्तर के हॉस्पिटल में आईसीयू और बेड बढ़ाने के आदेश जारी किए गए हैं. 

यह भी पढ़ेंः Corona Virus : गंगाराम हॉस्पिटल में एक साथ 37 डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव

निजी अस्पतालों में बढ़ाए गए बेड 
कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली के प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए बेड की किल्लत दूर करने के लिए 50 फीसद बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व करने का आदेश दिया गया है. दिल्ली के 115 प्राइवेट अस्पतालों में कुल ICU और साधारण बेड्स की क्षमता के आधे बेड अब कोरोना मरीजों के लिए ही होंगे. इन अस्पतालों को यह छूट दी गई है कि वह अस्थाई रूप से अपने कुल बेड क्षमता का 25 फीसद बढ़ा सकते हैं लेकिन बढ़ाई गई क्षमता के बेड्स पर कोरोना मरीज़ों का ही इलाज होगा. यह 115 वह अस्पताल हैं जिनमें 50 या इससे ज्यादा बेड्स हैं. 

मरीज को नहीं करना होगा 10 मिनट से ज्यादा इंतजार
दिल्ली सरकार ने आदेश जारी कर सभी अस्पतालों से कहा है कि वह किसी भी मरीजों को 10 मिनट से ज्यादा इंतजार ना कराएं. सभी अस्पतालों को आदेश दिया गया कि 'अस्पताल अपने होल्डिंग एरिया में पर्याप्त स्वास्थ्य कर्मी और इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ ऑक्सीजन की फैसिलिटी भी सुनिश्चित करें जिससे कि मरीज को एडमिशन प्रोसेस के दौरान बेमतलब इंतजार ना करना पड़े और भीड़ ना हो क्योंकि इससे भी कोरोना संक्रमण और फैलने का खतरा बढ़ता है'. 

यह भी पढ़ेंः कुछ राज्यों में हालात चिंताजनक, तेजी से बढ़ रहे कोरोना केस : पीएम मोदी

दिल्ली में तेजी से बढ़ रहे मामले 
दिल्ली में कोरोना महामारी (COVID-19) दोबारा बेकाबू होने से लोगों को नाइट कर्फ्यू के बाद फिर से लॉकडाउन लगाए जाने का डर सताने लगा है. दिल्ली में गुरुवार को इस साल पहली बार सभी रिकॉर्ड तोड़ते हुए कोरोना के 7000 से अधिक नए केस मिलने के बाद यहां संक्रमित मरीजों का कुल आंकड़ा बढ़कर 7 लाख के करीब पहुंच गया है. इसके साथ ही अब पॉजिटिविटी रेट भी बढ़कर 8.10 फीसदी पर आ गया है. स्वास्थ्य विभाग की ओर से गुरुवार को जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, बीते 24 घंटे में जहां कोरोना के 7437 नए मरीज मिले हैं, वहीं 24 और मरीजों की मौत के बाद मृतकों का कुल आंकड़ा बढ़कर 11,157 पर पहुंच गया है. बुधवार को 5506 मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई थी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 09 Apr 2021, 10:12:16 AM

For all the Latest States News, Delhi & NCR News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो