News Nation Logo
Banner

दिल्ली में बढ़ रहे कोविड-19 के मामले, अस्पतालों पर बढ़ा दबाव

पिछले तीन दिनों से लगातार 6,000 से अधिक कोविड-19 (COVID-19) के मामले सामने आ रहे हैं. शुक्रवार को एक ही दिन में 7,178 मामले देखने को मिले थे.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 07 Nov 2020, 09:33:20 AM
Delhi Hospital

अस्पतालों पर बढ़ रहा है दबाव. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:  

राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण की एक और लहर देखी जा रही है और यहां के अस्पतालों में पहुंचने वाले रोगियों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है. संक्रमण के साथ ही दिल्ली में वायु प्रदूषण भी बढ़ने लगा है, जो कि राजधानी के लोगों के लिए दोहरी मार के तौर पर देखा जा रहा है. दिल्ली में पिछले तीन दिनों से लगातार 6,000 से अधिक कोविड-19 (COVID-19) के मामले सामने आ रहे हैं. शुक्रवार को एक ही दिन में 7,178 मामले देखने को मिले थे. इसके बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने भी स्वीकार किया है कि संक्रमण की यह 'तीसरी लहर' है, जो राष्ट्रीय राजधानी को प्रभावित कर रही है.

दिल्ली देख चुकी दो पीक
शहर में 23 जून और 17 सितंबर को वायरस के दो शीर्ष स्तर (पीक) देखे जा चुके हैं. विशिष्ट रूप से अब दिल्ली बढ़ते कोराना वायरस मामलों और गंभीर प्रदूषण की दोहरी मार झेल रही है. सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि प्रदूषण ऐसे संक्रमित रोगियों के लिए और भी खतरनाक है जिन्हें पहले से कोई गंभीर बीमारी है, जैसे हृदय या फेफड़े संबंधी बीमारी. ऐसे संक्रमित रोगियों के लिए हालात बदतर हो सकते हैं.

यह भी पढ़ेंः Bihar Live: अंतिम चरण की वोटिंग जारी, पुष्पम प्रिया समेत इन नेताओं ने डाला वोट

ये हैं कारण
दिल्ली सरकार के राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के चिकित्सा निदेशक डॉ. बी. एल. शेरवाल ने बताया, 'पिछले महीने की तुलना में भर्ती होने की संख्या में काफी वृद्धि हुई है. त्योहारी सीजन में कोविड के मानकों का ढिलाई से पालन होने से दैनिक संख्या में भारी उछाल आया है.' डॉ. शेरवाल ने कहा कि सामाजिक दूरी के मानदंडों का पालन करने में सामाजिक जिम्मेदारी की कमी, मास्क पहनने, उच्च प्रदूषण के स्तर का पालन न करना और मौसम में बदलाव भी मामलों में वृद्धि का कारण है.

पॉजिटिव औसत दर 12.8 फीसदी
एक और चिंताजनक कारण कोरोना वायरस पॉजिटिव दर में वृद्धि है, जो उन लोगों का प्रतिशत है, जो किए गए कुल परीक्षणों में से पॉजिटिव पाए गए हैं. अक्टूबर के पहले सप्ताह में कुल लोगों के किए गए परीक्षण में पॉजिटिव पाए जाने वाले लोगों की औसत दर जहां 5.3 प्रतिशत पर थी, वह अब 12.8 प्रतिशत पर है. इस बढ़ी हुई दर ने गंभीर स्थिति की ओर इशारा किया है.

यह भी पढ़ेंः ISRO आज फिर रचेगा इतिहास, हासिल करेगा ये बड़ी कामयाबी

पर्याप्त बिस्तर उपलब्ध नहीं
इसके अलावा एक और भी मुसीबत है, क्योंकि आंकड़े बताते हैं कि शहर भर के अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में बिस्तर उपलब्ध नहीं हैं. दिल्ली सरकार की कोरोना को लेकर बनाई गई एप्लिकेशन के अनुसार, पूरे शहर में वेंटिलेटर के साथ केवल 26 प्रतिशत आईसीयू बेड ही खाली हैं. वेंटिलेटर के बिना 23 प्रतिशत ही आईसीयू बिस्तर खाली हैं, जबकि सामान्य कोविड-19 बिस्तर भी केवल 51 प्रतिशत ही उपलब्ध हैं.

परीक्षण निःशुल्क
दो दिन पहले मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा था कि कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन और आईसीयू बेड में वृद्धि के साथ चिकित्सा बुनियादी ढांचे में बदलाव किया जाएगा. सरकार ने दिल्ली भर में भीड़-भाड़ वाले स्थानों, जैसे बाजार आदि जगहों पर परीक्षण बढ़ाने का भी निर्णय लिया है. मोबाइल परीक्षण वैन को दिल्ली में बाजारों और भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर तैनात किया जाएगा. इन स्थानों पर लोगों द्वारा परीक्षण का नि: शुल्क लाभ उठाया जा सकता है.

First Published : 07 Nov 2020, 09:33:20 AM

For all the Latest States News, Delhi & NCR News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.