News Nation Logo

बीकेयू नेता टिकैत ने एमएसपी पर प्रधानमंत्री के दावे को खारिज किया

 भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशें लागू कर दिए जाने संबंधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दावे को शुक्रवार को खारिज किया.

Bhasha | Updated on: 18 Dec 2020, 11:59:39 PM
rakesh tikait

बीकेयू नेता टिकैत ने एमएसपी पर प्रधानमंत्री के दावे को खारिज किया (Photo Credit: फाइल फोटो)

गाजियाबाद:

 भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशें लागू कर दिए जाने संबंधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दावे को शुक्रवार को खारिज किया. साथ ही, टिकैत ने कहा कि किसान आत्महत्या कर रहे हैं क्योंकि उनकी उपज का उन्हें लाभकारी मूल्य नहीं मिल रहा है.

उन्होंने एक संदेश में कहा कि आज की तारीख तक उत्तर प्रदेश में बुंदेलखंड के किसानों को अनाज का एमएसपी नहीं मिल रहा है और वे आत्महत्या कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि स्वामीनाथ कमेटी की रिपोर्ट लागू करने का दावा ‘‘सरासर झूठ’’ है. टिकैत ने एक व्हाट्सएप संदेश में कहा कि केंद्र सरकार ने किसानों को इस बारे में आश्वस्त नहीं किया है कि उन्हें उनकी उपज का न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलेगा और हाल ही में केंद्र द्वारा पारित कृषि कानूनों में इसके लिए कोई प्रावधान नहीं किया गया है.

इसे भी पढ़ें:अमित शाह के बंगाल दौरे से पहले TMC में इस्तीफों की झड़ी, BJP में होंगे शामिल 

उन्होंने कहा कि किसान केंद्र द्वारा दी जा रही 500 रुपये महीना की सहायता नहीं, बल्कि अपनी फसल के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की मांग कर रहे हैं. टिकैत ने यह आरोप भी लगाया कि वे (केंद्र) चीनी मिल मालिकों की मदद कर रहे हैं और इससे (गन्ना) किसानों को कोई मदद नहीं मिलने जा रही क्योंकि उन्हें सिर्फ उनका बकाया मिलेगा. प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को कृषि कानूनों का बचाव करते हुए कहा कि नये कानूनों से फसलों की एमएसपी प्रणाली खत्म हो जाने संबंधी आरोप पूरी तरह से झूठे हैं.

और पढ़ें:काकोली घोष बोलीं- TMC के नेताओं को BJP बड़े-बड़े वादे करके लुभा रही, लेकिन...

मध्य प्रदेश के किसानों को डिजिटल माध्यम से संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट लागू की और उत्पादन की लागत का डेढ़ गुना एमएसपी दिया. उन्होंने कहा कि किसानों के प्रति उनकी संवेदनशील सरकार उन्हें अन्नदाता मानती है, ‘‘हमने फाइलों के ढेर में फेंक दी गयी स्वामीनाथन समिति की रिपोर्ट को लागू किया और लागत का डेढ़ गुना एमएसपी किसानों को दिया.’’

First Published : 18 Dec 2020, 11:59:39 PM

For all the Latest States News, Delhi & NCR News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.