News Nation Logo
Breaking
Banner

प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार पर कसा तंज, बोले- ये चुनाव नहीं करोना से लड़ने का वक्त है

बिहार में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. साथ ही मृतकों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है. इसको लेकर प्रशांत किशोर ने कहा कि देश के कई राज्यों की तरह बिहार में भी करोना की स्थिति बिगड़ती जा रही है, लेकिन सरकारी तंत्र और संसाधनों का एक

News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 11 Jul 2020, 11:16:49 AM
प्रशांत किशोर

प्रशांत किशोर (Photo Credit: फाइल फोटो)

पटना:  

बिहार में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. साथ ही मृतकों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है. इसको लेकर प्रशांत किशोर ने कहा कि देश के कई राज्यों की तरह बिहार में भी करोना की स्थिति बिगड़ती जा रही है, लेकिन सरकारी तंत्र और संसाधनों का एक बड़ा हिस्सा चुनाव की तैयारियों में लगा है. उन्होंने नीतीश कुमार से चुनाव ना कराने का आग्रह किया है. उन्होंने कहा कि ये चुनाव नहीं करोना से लड़ने का वक़्त है. लोगों की ज़िंदगी को चुनाव कराने की जल्दी में ख़तरे में मत डालिए.

यह भी पढ़ें- पटना से मुंबई अपनी कर्मभूमि पहुंची रतन राजपूत, देखें Video

तेजस्वी ने नीतीश कुमार पर साधा निशाना

वहीं इस मामले को लेकर तेजस्वी यादव ने भी नीतीश कुमार पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा कि शवों पर चुनाव कराने वाला मैं अंतिम व्यक्ति होऊंगा. यदि नीतीश कुमार स्वीकार करते हैं कि COVID अभी भी एक संकट है तो चुनाव को स्थगित किया जा सकता है. जब तक कि स्थिति में सुधार नहीं हो जाता. लेकिन अगर उन्हें लगता है कि COVID एक समस्या नहीं है तो चुनाव पारंपरिक तरीकों से होने चाहिए. इस महामारी को संभालने में नीतीश सरकार की विफलता के कारण लोगों में अराजकता और असुरक्षा की भावना पैदा हो गई है. ऐसा प्रतीत होता है कि इसमें कोई शमन और शमन रणनीति नहीं है. नए मामलों में तेजी से वृद्धि चिंताजनक है. इस संकट ने नीतीश सरकार के कुकर्मों को अंदर से बाहर कर दिया है.

यह भी पढ़ें- दुनियाभर के देशों के बढ़ते कर्ज और राजकोषीय घाटे को लेकर IMF ने जारी की चेतावनी

चिराग-तेजस्वी के सुर एक

वहीं इस मामले में चिराग पासवान और तेजस्वी यादव के सुर एक हो गए हैं. उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग को भी इस विषय पर सोच कर निर्णय लेना चाहिए. कहीं ऐसा ना हो कि चुनाव के कारण एक बड़ी आबादी को ख़तरे में झोंक दिया जाए. इस महामारी के बीच चुनाव होने पर पोलिंग पर्सेंटेज भी काफ़ी नीचे रह सकते हैं. जो लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है. कोरोना के प्रकोप से बिहार ही नहीं पूरा देश प्रभावित है. कोरोना के कारण आम आदमी के साथ साथ केंद्र व बिहार सरकार का आर्थिक बजट भी प्रभावित हुआ है. ऐसे में चुनाव से प्रदेश पर अतिरिक्त आर्थिक बोझ पड़ेगा. संसदीय बोर्ड के सभी सदस्यों ने इस विषय पर चिंता जताई है.

First Published : 11 Jul 2020, 10:59:26 AM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.