News Nation Logo

तेजस्वी की चाल में उलझा जदयू, 77 सीटों पर सीधा मुकाबला

राजद इस चुनाव में वह 144 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. महागठबंधन में सबसे मजबूत और पिछले चुनाव में सबसे बड़े दल राजद का इस चुनाव में अधिकांश सीटों पर जदयू से मुकाबला है.

By : Nihar Saxena | Updated on: 21 Oct 2020, 02:19:34 PM
Tejashwi Yadav

तेजस्वी यादव को फिलहाल मिल रहा सभाओं में व्यापक जनसमर्थन. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

पटना:

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेतृत्व वाले महागठबंधन में कांग्रेस और वामपंथी दल मिलकर चुनाव मैदान में है. ऐसे में राजद का अधिकांश सीटों पर जनता दल (JDU) से मुकाबला है. इस चुनाव में पिछले चुनाव से परिस्थितियां बदली हैं. पिछले चुनाव में जदयू, राजद और कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ी थी, जबकि इस चुनाव में जदयू, भाजपा और दो अन्य छोटे दलों के साथ चुनाव मैदान में है. राजद इस चुनाव में कांग्रेस और वामपंथी दलों के साथ चुनाव मैदान में है.

यह भी पढ़ेंः पाकिस्तान रच रहा पठानकोट जैसे आतंकी हमले की साजिश

राजद बढ़-चढ़ कर लड़ रही इस बार चुनाव
2015 के चुनाव में नीतीश कुमार की अगुवाई में चुनाव मैदान में उतरी राजद 101 सीटों पर चुनाव लड़ी थी, जबकि इस चुनाव में वह 144 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. महागठबंधन में सबसे मजबूत और पिछले चुनाव में सबसे बड़े दल राजद का इस चुनाव में अधिकांश सीटों पर जदयू से मुकाबला है. इस चुनाव में 77 सीटों पर नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले जदयू के उम्मीदवार राजद के उम्मीदवार के सामने हैं. राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की ओर से जदयू जहां 115 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, वहीं भाजपा 110 सीटों पर चुनाव मैदान में है.

यह भी पढ़ेंः FATF से पाकिस्तान को मिलेगा बड़ा झटका, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार

बीजेपी के 51 प्रत्याशी राजद के सामने
भाजपा के सिर्फ 51 प्रत्याशी ही राजद के सामने है. ऐसे में भाजपा के लिए अन्य 59 सीट इन 51 सीटों से अपेक्षाकृत आसान माना जा रहा है. इस चुनाव में राजद के पांच प्रत्याशी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के आमने-सामने हैं, जबकि 11 सीटों पर राजद प्रत्याशी का मुकाबला विकासशील इंसान पार्टी से है. सूत्र कहते हैं कि चुनाव पूर्व सर्वे के आधार पर राजद ने नीतीश से लोगों की नाराजगी का लाभ उठाने के लिए अपने अधिाकांश प्रत्याशी जदयू के प्रत्याशी के सामने उतारे हैं. वैसे, राजद के नेता इससे इनकार कर रहे हैं. राजद के एक नेता बताते हैं कि जमीनी हकीकत, पार्टी की क्षेत्रवार मजबूती और जातीय समीकरणों के आधार पर प्रत्याशी उतारे गए हैं. यह महज संयोग है कि अधिकांश प्रत्याशियों का मुकाबला जदयू के प्रत्याशी से है. उन्होंने बताया कि राजद के लिए भाजपा और जदयू एक समान है.

यह भी पढ़ेंः काशी विश्वनाथ-ज्ञानव्यापी मस्जिद मामले में कोर्ट आज सुनाएगा फैसला

तेजस्वी पर फोकस ज्यादा
राजद के अन्य एक नेता का कहना है कि तेजस्वी यादव महागठबंधन के मुख्यमंत्री के उम्मीदवार हैं और तय है कि इस चुनाव के बाद वे मुख्यमंत्री पद संभालेंगे. उन्होंने कहा कि महागठबंधन की जीत तय है, हालांकि कुछ सीटों पर जीतों का अंतर 2000 से 3000 हो सकता है. इधर, लोजपा प्रमुख चिराग पासवान भी खुले तौर पर भाजपा उम्मीदवारों का समर्थन कर रहे हैं और नीतीश का विरोध कर रहे हैं. लोजपा अधिकांश ऐसे क्षेत्रों से अपने प्रत्याशी उतारी है जहां जदयू चुनाव लड़ रही है. ऐसे में लोजपा ने भाजपा से नाराज होकर अलग हुए नेताओं को भी टिकट थमाया है, जो जदयू के लिए परेशानी पैदा कर रहे हैं.

यह भी पढ़ेंः  क्या देश में बंद हो जाएगा कोरोना के लिए प्लाज्मा थैरेपी से इलाज? 

बीजेपी मुतमुईन
भाजपा के वरिष्ठ नेता रहे और दियारा क्षेत्र से लोजपा के प्रत्याशी राजेंद्र सिंह कहते भी हैं कि उन्हें व्यक्तिगत आधार पर भाजपा कार्यकतार्ओं का साथ मिल रहा है. वे कहते हैं कि नेताओं का अपना व्यक्तिगत आधार भी होता है. इधर, जद यू के प्रवक्ता के.सी. त्यागी का कहना है कि राजद के ऐसे किसी भी चाल से उनकी पार्टी चिंतित नहीं है. उन्होंने कहा कि विकास के मुद्दे पर वे चुनावी मैदान में हैं और राजग का नेतृत्व नीतीश कुमार कर रहे है. लोगों को यह तय करना है कि नीतीश कुमार चाहिए या कोई और. बहरहाल, बिहार में चुनावी सरगर्मी बढ गई है और सभी दल सत्ता तक पहुंचने के लिए पूरा दमखम से जुटे हुए हैं. ऐसे में जदयू तेजस्वी के इस चाल से कैसे निपट पाता है, यह देखने वाली बात होगी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 21 Oct 2020, 02:19:34 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.