News Nation Logo

चिराग पासवान अब न LJP अध्यक्ष और न ही संसदीय दल के नेता: पशुपति

लोक जनशक्ति पार्टी ( LJP) में चल रहे टकराव के बीच पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) ने शुक्रवार को कहा कि पार्टी के संविधान के मुताबिक चिराग पासवान (Chirag Paswan ) अब न तो लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और न ही संसदीय दल के नेता हैं

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 18 Jun 2021, 04:52:43 PM
Pashupati Kumar Paras

Pashupati Kumar Paras (Photo Credit: ANI)

highlights

  • लोक जनशक्ति पार्टी में तकरार के बाद बिहार की राजनी​ति में घमासान
  • पशुपति पारस (Pashupati Paras) ने चिराग पासवान पर बोला हमला
  • पारस बोले- चिराग अब न अध्यक्ष और न संसदीय दल के नेता

पटना:  

लोक जनशक्ति पार्टी ( LJP) में चल रहे टकराव के बीच पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) ने शुक्रवार को कहा कि पार्टी के संविधान के मुताबिक चिराग पासवान (Chirag Paswan ) अब न तो लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और न ही संसदीय दल के नेता हैं. कल का चुनाव पार्टी के संविधान के तहत पूरी तरह से वैध था, जिसके बारे में उन्हें जानकारी नहीं है. आपको बता दें कि लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) का आंतरिक विवाद और गहराता जा रहा है। गुरुवार को पटना में हुई पारस गुट की बैठक में पशुपति कुमार पारस को राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया है. 

यह भी पढ़ें:  दिल्ली: गृह मंत्री अमित शाह से मिलने पहुंचे जम्मू-कश्मीर के उप-राज्यपाल, बैठक जारी

रामविलास पासवान के सपने को पूरा करेंगे पशुपति 

 पशुपति ने अध्यक्ष चुने जाने के बाद पार्टी के सभी नेताओं का आभार जताते हुए कहा कि हमें राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने का मौका मिला है, कोशिश होगी कि पार्टी को आगे बढाएं और रामविलास पासवान के सपने को पूरा करेंगे. इससे पहले वे संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष बने थे. लोजपा में चल रहे विवाद के बीच पशुपति पारस के गुट द्वारा इस चुनाव को लेकर राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आयोजित की गई, जिसमें सांसद पारस को निर्विरोध अध्यक्ष चुन लिया गया. पारस ने एक संवाददाता सम्मेलन में अध्यक्ष चुने जाने की जानकारी देते हुए कहा कि पार्टी में कोई विवाद नहीं है, तभी तो वे निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए हैं.

यह भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल: TMC नेता का बयान- भाजपा के कई MP और MLA हमारे संपर्क में

पार्टी छोड़ चुके नेताओं को वापस लाएंगे

पारस ने लोजपा छोड़ चुके नेताओं को फिर से पार्टी में आने का निवेदन करते हुए कहा कि जो भी नेता किसी कारणवश पार्टी छोड़ चुके हैं, वे वापस आएं. उन्होंने ऐसे नेताओं से पार्टी में हुई गलती के लिए माफी भी मांगी. उन्होंने कहा कि उनकी कोशिश होगी कि अपने बडे भाई और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के सपने को साकार किया जा सके. उल्लेखनीय है कि लोजपा में आंतरिक विवाद गहरा गया है. हाल ही में पार्टी के छह सांसदों में पांच सांसदों ने अलग गुट बना लिया है. इधर, लोजपा के अध्यक्ष चिराग पासवान ने पांचों सांसदों पशुपति पारस, महबूब अली कैसर, बीणा देवी चंदन सिंह और प्रिंस राज को पार्टी से बाहर निकाल दिया है.

First Published : 18 Jun 2021, 04:33:12 PM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.