News Nation Logo
Banner

चिराग पासवान ने CM नीतीश कुमार से पूछा शराबबंदी के बावजूद बिहार में कैसे बिक रही शराब

इसको लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री को एक चिट्ठी भी लिखी है जिसमें ये पूछा है कि बिहार में शराबबंदी के बावजूद कैसे बिक रही शराब ?

News Nation Bureau | Edited By : Yogesh Bhadauriya | Updated on: 01 Aug 2020, 10:56:03 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credit: News Nation)

पटना:

एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान ने एक बार फिर सीएम नीतीश कुमार को निशाने पर लेते हुए बिहार में शराबबंदी पर सवाल उठाए हैं. इसको लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री को एक चिट्ठी भी लिखी है जिसमें ये पूछा है कि बिहार में शराबबंदी के बावजूद कैसे बिक रही शराब ? शेखपुरा की उस घटना का किया ज़िक्र करते हुए जिसमें वार्ड पार्षद संजय यादव ने कथित तौर पर नशे में उन्हें और उनके पिता रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) के लिए अभद्र भाषा का प्रयोग किया था, चिराग ने आरोप लगाया कि वहां के अखबारो में छपा है कि वार्ड पार्षद संजय यादव ने शराब पी रखी थी, लिहाज़ा इस पूरे मामले की जांच कराई जाए और शराब माफ़िया को सजा दिलाई जाए.

यह भी पढ़ें- चिराग पासवान ने CM नीतीश कुमार से पूछा शराबबंदी के बावजूद बिहार में कैसे बिक रही शराब

चिराग ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लिखे पत्र में संजय यादव का जिक्र करते हुए कहा है कि खबरों में दावा किया गया है कि वीडिया में दिख रहा व्यक्ति नशे में धुत था. चिराग और उनके पिता रामविलास पासवान के लिए अपशब्दों के प्रयोग और धमकी वाला वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद संजय यादव को गिरफ्तार कर लिया गया है.

जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और मुख्यमंत्री को संबोधित करते हुए लिखे पत्र में चिराग पासवान ने कहा, शराबबंदी आपकी एक महत्वकांक्षी योजना है. अगर प्रतिबंधों के बाद भी शराब बेची और पी जा रही है तो यह शराबबंदी के दावे पर सवाल खड़े करता है.
चिराग पासवान ने मुख्यमंत्री से इसमें लिप्त लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की. गौरतलब है कि चिराग पासवान बिहार की नीतीश कुमार सरकार पर निशाना साधते रहते हैं, जबकि दोनों ही पार्टियां भाजपा की सहयोगी हैं. बिहार में अक्तूबर-नवंबर में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित हैं.

First Published : 01 Aug 2020, 10:56:03 AM

For all the Latest States News, Bihar News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×